उत्तराखंड की एक और बेटी बनी वायु सेना में फ्लाइंग ऑफिसर, बागेश्वर की ममता मेहता ने किया पिता और राज्य का नाम रौशन

bikram

उत्तराखंड राज्य की बेटियां आज किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं हैं। कोई भी संगठन चाहे वह सरकारी, अर्धसरकारी या गैरसरकारी क्षेत्र का हो, चाहे वह कोई भी क्षेत्र हो। उत्तराखंड की बेटियां हर जगह अपना नाम रोशन कर रही हैं। आज हम आपके लिए पहाड़ की एक और बेटी की कहानी लेकर आ रहे हैं जिसने अपने माता-पिता और राज्य का नाम रोशन किया है। आज हम बात कर रहे हैं बागेश्वर की बेटी ममता मेहता की जो भारतीय नौसेना में फ्लाइंग ऑफिसर बनने में सफल रही हैं।

बागेश्वर की कांडा तहसील की रहने वाली है ममता मेहता

ममता मेहता मूल रूप से उत्तराखंड राज्य के बागेश्वर जिले के अंतर्गत कांडा तहसील की रहने वाली हैं। बेंगलुरु एएफटीसी में डेढ़ साल तक कठोर प्रशिक्षण लेने के बाद ममता ने वायु सेना में फ्लाइंग ऑफिसर बनने का अपना सपना पूरा किया है। जानकारी के मुताबिक बता दें कि ममता मेहता बागेश्वर के डोबरगाड़ा, रावतसेरा की रहने वाली हैं. उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा अपने गांव कांडा से पूरी की।

इसके बाद उन्होंने इंटरमीडिएट की पढ़ाई जवाहर नवोदय विद्यालय, सिमर से पूरी की। वह बचपन से ही मेधावी छात्रा रही हैं, 10+2 के बाद उन्होंने गोविंद बल्लभ इंजीनियरिंग कॉलेज, घुड़दौड़ी, पौडी गढ़वाल में प्रवेश लिया। यहां ममता ने कंप्यूटर साइंस में बीटेक किया। ममता मेहता की पृष्ठभूमि सैन्य है, उनके पिता भारतीय सेना से सेवानिवृत्त सूबेदार हैं।

जबकि उनकी मां हेमंती मेहता राजकीय बालिका इंटर कॉलेज कांडा में शिक्षिका हैं। ममता ने अपनी अभूतपूर्व सफलता का श्रेय अपने माता-पिता, गुरुजनों और भारतीय सेना में ब्रिगेडियर के पद पर तैनात अपने मामा हितेंद्र सिंह पिलख्वाल को दिया है। ममता मेहता की इस अभूतपूर्व उपलब्धि से उनके परिवार में खुशी का माहौल है. पूरे इलाके में खुशी की लहर है.

Leave a comment