पश्चिमी विक्षोभ का दिखेगा नए साल पर उत्तराखंड में असर, मौसम विभाग का 5 जिलों में बर्फबारी का अलर्ट

bikram

उत्तराखंड आने वाले पर्यटक बर्फबारी की कामना कर रहे हैं। और कुछ हद तक इच्छाएँ सच हो रही हैं। उम्मीद है कि नए साल की पूर्व संध्या पर बर्फबारी की संभावना होने पर उनका जश्न दोगुना हो जाएगा। यहां 30 दिसंबर से बारिश और बर्फबारी की संभावना है।

30 दिसंबर को उत्तराखंड में मिल सकती है बर्फ की चादर

मौसम विभाग ने पांच पहाड़ी जिलों में बारिश और बर्फबारी का पूर्वानुमान जारी किया है। मौसम विभाग के कार्यवाहक निदेशक डॉ. रोहित थपलियाल ने कहा कि पश्चिमी विक्षोभ का असर जल्द ही उत्तराखंड में देखने को मिलेगा। यहां 30 दिसंबर से बारिश और बर्फबारी का दौर शुरू हो सकता है, जो 1 जनवरी तक चलेगा।

आइए अब जानते हैं उन जिलों के बारे में जहां बारिश और बर्फबारी की संभावना है। पश्चिमी विक्षोभ के असर से उत्तराखंड के 5 जिलों में अलर्ट है, वहीं चमोली, उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, बागेश्वर और पिथौरागढ जिलों में हल्की बारिश की संभावना है। तीन हजार मीटर से अधिक ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी की भी संभावना है।

वहीं हरिद्वार और उधम सिंह नगर जैसे जिलों में मुश्किलें बढ़ेंगी। इस तरह 30 दिसंबर से 1 जनवरी तक राज्य में मौसम खराब रहेगा। हमने पहले ही देखा था कि राज्य में बारिश की कमी के कारण इन दिनों तापमान सामान्य से अधिक रहता है। बुधवार को दून का अधिकतम तापमान सामान्य से पांच डिग्री सेल्सियस अधिक रहा। राजधानी में अधिकतम तापमान 25.8 रिकॉर्ड किया गया।

मैदानी इलाकों में घने कोहरे के कारण हवाई सेवाएं भी प्रभावित हो रही हैं। कल मुंबई से आने वाली फ्लाइट करीब एक घंटे की देरी से जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर उतरी। वहीं, दिल्ली से दून आने वाली एक फ्लाइट भी देरी से पहुंची, जबकि एक रद्द कर दी गई। घने कोहरे के कारण बस और ट्रेन सेवाएं भी प्रभावित हुई हैं।

भोजन के कारण कई ट्रेनें भी लंबे समय से बंद हैं। बुधवार सुबह हरिद्वार में घना कोहरा छाया रहा। कोहरे में विजिबिलिटी कम होने के कारण सड़कों पर वाहनों की रफ्तार धीमी रही। किसी भी दुर्घटना से बचने के लिए यह सलाह दी जाती है कि लोगों को राजमार्गों पर सावधानी से गाड़ी चलानी चाहिए।

Leave a comment