चारधाम के बाद उठाए उत्तराखंड में शीतकालीन धाम की यात्रा का लुत्फ, शंकराचार्य बने पहले यात्री

bikram

उत्तराखंड, जिसे देवताओं की भूमि माना जाता है, एक ऐतिहासिक पृष्ठभूमि है और आप इसका संदर्भ भारत के कई ऐतिहासिक ग्रंथों में पा सकते हैं। हर साल लोग चार धाम यात्रा पर जाते थे जो बहुत प्रसिद्ध है। लेकिन यह चार धाम यात्रा केवल 6 महीने ही चलती है और साल के बाकी दिनों में यहां के देवताओं की डोलियां उनके शीतकालीन निवास स्थान पर लाई जाती हैं।

पांचवीं की इस यात्रा में होंगे कई मंदिर के दर्शन

अब, आखिरकार शीतकालीन तीर्थयात्रा की पहल पर मुख्यमंत्री धामी ने ऐसी अद्भुत यात्रा करने वाले पहले शंकराचार्य को अपना सम्मान दिया है और अपनी शुभकामनाएं दी हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि यह ऐतिहासिक तीर्थयात्रा चारों धामों की शीतकालीन यात्रा को बढ़ावा देगी और भक्तों को प्रेरित करेगी।

एक तरफ जहां पूरी दुनिया के साथ उत्तराखंड भी क्रिसमस के जश्न में व्यस्त है। शंकराचार्य अपनी शीतकालीन यात्रा के माध्यम से भारतीय सनातन संस्कृति की रक्षा और शक्ति का प्रभाव पूरी दुनिया में फैलाएंगे। गर्मियों में गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ जैसे तीर्थस्थल श्रद्धालुओं से खचाखच भर जाते हैं।

अपनी मनोकामनाओं और विभिन्न इरादों के साथ भगवान के दर पर आने वाले भक्त अपनी सुविधा के अनुसार यात्रा का महीना और समय भी तय करते हैं। लेकिन जगतगुरु शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरानंद 2023 के आखिरी चरण में 27 दिसंबर को यह ऐतिहासिक और पहली शीतकालीन तीर्थयात्रा शुरू कर रहे हैं।

यात्रा शुरू करने से पहले शंकराचार्य के प्रतिनिधियों ने 24 दिसंबर को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मुलाकात की और उन्हें इस यात्रा के बारे में विशेष जानकारी दी। मुख्यमंत्री धामी ने इस पवित्र यात्रा के लिए शुभकामनाएं दी हैं।यह यात्रा इस साल के आखिरी दिनों में शुरू हो रही है और 2 जनवरी यानी नए साल की शुरुआत में हरिद्वार पहुंचकर खत्म होगी।

यह इस सिद्धांत का भी सटीक सूत्रीकरण है कि अंत ही शुरुआत है और शुरुआत ही अंत है। सभी युगों के सबसे पवित्र एवं प्राचीन धर्म ‘सनातन धर्म’ का प्रचार-प्रसार एवं सनातन धर्म के प्रति सभी श्रद्धालुओं की जागरूकता अभूतपूर्व है। सनातन धर्म न केवल एक धर्म है बल्कि यह अपने आप में एक विज्ञान है जो हमारे राष्ट्र को एक मजबूत दिशा प्रदान कर रहा है। और यह देवभूमि उत्तराखंड के लिए गौरव का क्षण है जब शंकराचार्य ने भारत के मजबूत स्तंभ माने जाने वाले हमारे चार धामों को चुना है।

Leave a comment