उत्तराखंड में अब कूड़ा फैलाने वालों पर लगेगी रोक, सरकार की “फोटो खींचो इनाम पाओ योजना” से लगेगा जुर्माना

bikram

आधुनिकीकरण और बढ़ती आबादी के कारण उत्तराखंड की सबसे बड़ी आबादी कचरे के प्रबंधन से जूझ रही है। मुख्य सचिव डॉ. एस.एस. संधू ने प्रदेश में ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के तहत कार्यों की प्रगति की समीक्षा की।

मुख्य सचिव ने दी सलाह शहर साफ़ रखने के लिए नहीं होगी पैसों की कोई कमी

डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन, सोर्स सेग्रीगेशन और डस्टबिन मुक्त शहर जैसे कार्यों के लिए उत्तराखंड ने ठोस कूड़े के शत-प्रतिशत निस्तारण का लक्ष्य बनाया है। उन्होंने लोगों को जागरूक करने के लिए योजना संचालित करने के भी निर्देश दिये। कहा कि ऐसे स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएं जहां लोग अक्सर कूड़ा फेंकते हैं।

लेकिन कैमरा लगाना ही काफी नहीं है, लोगों को भी इस योजना में शामिल किया जाना चाहिए और अब कहा जा रहा है कि कचरा फेंकने वाले व्यक्ति की तस्वीर भेजने वाले को उस व्यक्ति पर लगाए गए चालान की राशि का 50 प्रतिशत इनाम दिया जाना चाहिए। कचरा फेंकना. इससे लोग घर-घर जाकर कूड़ा उठाने के लिए प्रेरित होंगे।

मुख्य सचिव ने प्रदेश में विश्व स्तरीय ठोस अपशिष्ट प्रबंधन प्रणाली विकसित करने की आदर्श योजना अगले 15 दिनों में प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि इस योजना के लिए बजट की कोई कमी नहीं होगी।

मुख्य सचिव ने राज्य भर में विभिन्न स्थानों से विरासती कचरे को तुरंत हटाने का भी निर्देश दिया। बताया कि लीगेसी कूड़े को हटाने के बाद लीगेसी कूड़ा वह कूड़ा है जिसकी भूमि का उपयोग बहुत लंबे समय तक कूड़ा जमा करने के लिए किया जाता है। इसके बाद स्थानीय आवश्यकताओं और परिस्थितियों के अनुसार भूमि उपयोग योजना तैयार की जानी चाहिए ताकि खाली भूमि का अधिकतम उपयोग किया जा सके।

मुख्य सचिव ने अगले 15 दिनों में पूरे राज्य को कूड़ादान मुक्त बनाने का भी निर्देश दिया. कहा कि शत-प्रतिशत डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन तभी संभव हो सकेगा। उन्होंने कहा कि इसके लिए जितनी भी कूड़ा संग्रहण गाड़ियों की आवश्यकता होगी, उसके लिए बजट उपलब्ध कराया जाएगा। लक्ष्य हासिल करने के लिए मैन पावर भी बढ़ानी होगी।

उन्होंने कहा कि प्रदेश भर में सड़कों के किनारे से कूड़ेदान हटाए जाने के बाद कूड़ेदान उठाने (कचरा निस्तारण उत्तराखंड) के लिए उपयुक्त बनाए गए वाहन अनुपयोगी न हों और उनका उपयोग होता रहे, इस बात को ध्यान में रखते हुए उन वाहनों के लिए भी संशोधन की योजना बनाई जानी चाहिए। तैयार रहें।

Leave a comment