नए साल पर उत्तराखंड में बिजली दे सकती है लोगों को झटका, जानिए कब से कितनी महँगी हो सकती है बिजली

bikram

नया साल उत्तराखंड के लोगों पर भारी पड़ सकता है क्योंकि जो खबर हम आपको बताने जा रहे हैं वह बेहद चौंकाने वाली है जिसका सीधा असर राज्य के 27 लाख बिजली उपभोक्ताओं की जेब पर पड़ेगा।राज्य में अगले साल से बिजली महंगी हो जायेगी।

जन सुनवाई के बाद ही बिजली की दर बढ़ाएगा UPCL

उत्तराखंड पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड (यूपीसीएल) की बोर्ड बैठक में अब बिजली दरें बढ़ाने के प्रस्ताव पर सहमति बन गई है। जिसमें 23 से 27 फीसदी तक बढ़ोतरी की बात कही गई है. दरें बढ़ाने को लेकर यूपीसीएल उत्तराखंड विद्युत नियामक आयोग में याचिका दायर करेगा। नई बिजली दरें 1 अप्रैल 2024 से लागू होंगी।

हालांकि, उत्तराखंड विद्युत नियामक आयोग जन सुनवाई के बाद ही टैरिफ दरों का निर्धारण करेगा। बैठक में यूपीसीएल ने बिजली दरें बढ़ाने के पीछे करोड़ों रुपये की देनदारी और सेंट्रल पूल, एसजेवीएनएल, यूजेवीएनएल, टीएचडीसी, एनटीपीसी से महंगी बिजली मिलने का तर्क दिया।

दरअसल, यूपीसीएल को राज्य की मांग पूरी करने के लिए बिजली खरीदने के लिए 1281 करोड़ रुपये अधिक चुकाने होंगे। अब इसकी भरपाई के लिए अगले साल से बिजली दरों में 23 से 27 फीसदी की बढ़ोतरी की सिफारिश की गई है।

नियामक आयोग जनसुनवाई के बाद बिजली दर बढ़ाने पर फैसला लेगा. आपको बता दें कि महंगी बिजली के कारण अन्य राज्यों ने भी अपने राज्य के विद्युत नियामक आयोग को टैरिफ दरें बढ़ाने का प्रस्ताव भेजा है। पड़ोसी राज्य हिमाचल ने टैरिफ में 50 फीसदी, झारखंड ने 44 फीसदी, दिल्ली ने 30 फीसदी और उत्तर प्रदेश ने 20 फीसदी बढ़ोतरी का प्रस्ताव दिया है।यह दूसरी बार है जब उपभोक्ताओं को एक ही साल में दूसरी बार बड़ा झटका लगने वाला है।

प्रदेश के 20 लाख उपभोक्ताओं के लिए बिजली फिर महंगी हो रही है. इस वित्तीय वर्ष के पहले महीने यानी अप्रैल में ही बिजली दरें बढ़ा दी गई थीं. अब फिर से यूपीसीएल की याचिका पर सुनवाई के बाद उत्तराखंड विद्युत नियामक आयोग ने बिलों पर 6.5 फीसदी सरचार्ज लगा दिया है. यह सरचार्ज उपभोक्ताओं से 1 सितंबर 2022 से 31 मार्च 2023 के बीच वसूला जाएगा।

Leave a comment