गढ़वाल का हर रेल्वे स्टेशन होगा हाई-टेक, अब ऋषिकेश को दी बेहतर सुविधा: जानिए क्या है खास

bikram

उत्तराखंड में रेल सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए सरकार अब पूरी तरह से तैयार है। देहरादून ही नहीं बल्कि यहां के अन्य रेलवे स्टेशनों को भी विश्वस्तरीय सुविधा दी जाने वाली है। रेलवे स्टेशनों को हाईटेक बनाया जा रहा है, ताकि यात्रियों को आसानी से बेहतर सुविधाएं मिल सकें।

अब यहा से आसानी से संचालित होगी 24 डिब्बों वाली ट्रेन

इसी कड़ी में अब ऋषिकेश के पुराने रेलवे स्टेशन का भी नवीनीकरण किया गया है। यहां इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग का काम पूरा हो चुका है। अब योग नगरी ऋषिकेश स्टेशन की तरह पुराने ऋषिकेश स्टेशन से भी 24 कोच वाली ट्रेनें आसानी से संचालित हो सकेंगी। स्टेशन पर इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग के तहत फायर अलार्म सिस्टम भी लगाया गया है।

इससे आगजनी की घटनाओं पर काबू पाया जा सकेगा. ऋषिकेश, मुरादाबाद रेलवे मंडल के अंतर्गत आता है। और वे यहां किए गए इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग कार्य उपलब्ध करा रहे हैं। इससे ट्रेनों की गति और सुरक्षा बढ़ेगी. ऋषिकेश रेलवे स्टेशन पर इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग का कार्य पूरा होने से रेल यात्रियों एवं कर्मचारियों को लाभ होगा।

स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक पर 24 कोच वाली यात्री ट्रेनों का संचालन करने के अलावा। इस स्टेशन में 16 प्वाइंट मशीन जैसी कई अन्य चीजों को इलेक्ट्रॉनिक किया गया है, जिससे सुरक्षा और कड़ी होगी। स्टेशन पर इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग के तहत फायर अलार्म सिस्टम भी लगाया गया है। रेलवे स्टेशन पर डेटा लॉगर इलेक्ट्रॉनिक्स लगने से स्टेशन से संचालित होने वाली ट्रेनों का रिकॉर्ड भी सुरक्षित रहेगा।

इससे भविष्य में ऋषिकेश रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों की संख्या भी बढ़ाई जा सकती है। आपको बता दें कि पुराने ऋषिकेश रेलवे स्टेशन पर इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग का काम दिसंबर के पहले सप्ताह में मुरादाबाद मंडल की गति शक्ति यूनिट द्वारा शुरू किया गया था, जो जल्द ही मंगलवार को पूरा हो गया है।

मुख्य परियोजना प्रबंधक यशवन्त सिंह के निर्देशन एवं अपर मण्डल रेल प्रबंधक (संचालन) राकेश सिंह की उपस्थिति में ऋषिकेश ओल्ड रेलवे स्टेशन पर इलेक्ट्रॉनिक इंटरलॉकिंग का विधिवत उद्घाटन कर ट्रेनों का संचालन प्रारम्भ किया गया।

Leave a comment