इतिहास रचने को तैयार उत्तराखंड, समान नागरिक संहिता पर अगले साल हो सकती बड़ी घोषणा

bikram

समान नागरिक संहिता का मसौदा अब तैयार है। आख़िरकार इतनी मेहनत के बाद। 500 से अधिक पृष्ठों का ड्राफ्ट पूरा हो चुका है और अब इसे एक पुस्तक का स्वरूप दिया जा रहा है।यूसीसी के लिए जिम्मेदार कमेटी जल्द ही इस ड्राफ्ट को राज्य सरकार को सौंपेगी जो यह भी बताएगी कि ड्राफ्ट में किन बिंदुओं पर फोकस किया गया है।

अगले साल में विशेष विधान सभा सत्र बुला कर हो सकती है घोषणा

इसमें सभी धर्मों के अनुयायियों के लिए समान अधिकारों से संबंधित कई बिंदु शामिल हैं, जैसे बहुविवाह पर प्रतिबंध, तलाक, महिलाओं को संपत्ति का अधिकार, लिव-इन रिलेशनशिप, विरासत, गोद लेना, स्थानीय और आदिवासी परंपराओं और रीति-रिवाजों का अनुपालन और व्यक्तिगत स्वतंत्रता। समिति ने मसौदे में मौजूदा कानून में संशोधन की जरूरत पर जोर दिया है। समान नागरिक संहिता लागू करना राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है।

अपने घोषणापत्र में राज्य सरकार का मुख्य उद्देश्य यही था और विधानसभा चुनाव जीतने के तुरंत बाद, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने वर्दी का मसौदा तैयार करने के लिए 27 मई, 2022 को न्यायमूर्ति रंजना प्रकाश देसाई (सेनि) की अध्यक्षता में एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया था। दीवानी संहिता। जिसमें चार सदस्य शामिल थे, बाद में सदस्य सचिव को भी इसमें शामिल कर लिया गया।

लगभग 16 महीने के कार्यकाल के बाद आखिरकार अब तक 80 से ज्यादा बैठकें हो चुकी हैं और समिति को 2.30 लाख से ज्यादा सुझाव मिल चुके हैं। समिति के कार्य की मात्रा को देखते हुए इसका कार्यकाल तीन बार बढ़ाया जा चुका है। वर्तमान कार्यकाल जनवरी में समाप्त हो रहा है। कहा जा रहा है कि नए साल में समान नागरिक संहिता (यूसीसी) लागू होने की संभावना है। इसके लिए राज्य सरकार 22 जनवरी के बाद किसी भी समय विशेष सत्र बुला सकती है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने एक बार फिर उत्तराखंड समान नागरिक संहिता को जल्द लागू करने के संकेत दिए हैं।

Leave a comment