दिव्यांग होकर भी नहीं मानी हार, पिथौरागढ़ के भावेश भट्ट ने खेलो इंडिया पैरा गेम्स में जीते 2 स्वर्ण

bikram

प्रदेश के युवा आज किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं हैं। हर दिन हम देखते हैं कि कई लोग देश का नाम रोशन कर रहे हैं। हम ऐसी कहानियाँ भी लाते रहते हैं जो आपके लिए प्रेरणादायक हों। ऐसे कई युवा हैं जो साबित कर रहे हैं कि वे पीछे नहीं हैं। आज हम आपको राज्य के एक और ऐसे होनहार युवा से मिलवाने जा रहे हैं, जिसने नई दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में चल रहे खेलो इंडिया पैरा गेम्स में शानदार प्रदर्शन करते हुए दो स्वर्ण पदक जीतकर पूरे उत्तराखंड को गौरवान्वित किया है।

पदक जीत कर उतारा पिता का कर्ज

हम बात कर रहे हैं राज्य के पिथौरागढ़ जिले के रहने वाले भावेश भट्ट की, जिन्होंने खेलो इंडिया पैरा गेम्स में 1500 मीटर और 5000 मीटर की दौड़ जीतने में कामयाबी हासिल की थी. उन्होंने दौड़ में सफलतापूर्वक दो स्वर्ण पदक हासिल किए। उनकी इस अभूतपूर्व उपलब्धि से जहां उनके परिवार में खुशी का माहौल है, वहीं उन्हें बधाई देने वालों का भी तांता लगा हुआ है।

आपको बता दें कि खेलो इंडिया पैरा गेम्स का आयोजन 10 से 17 दिसंबर तक नई दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में किया जा रहा है. इस प्रतियोगिता की शुरुआत में ही भावेश भट्ट ने राज्य का प्रतिनिधित्व करते हुए उत्तराखंड के लिए दो स्वर्ण पदक जीते हैं. आपको बता दें कि भावेश का चयन सीनियर नेशनल प्रतियोगिता में उनके प्रदर्शन के आधार पर इस प्रतियोगिता के लिए किया गया था।

इससे पहले भी भावेश ने कई राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में शानदार प्रदर्शन कर पदक जीते हैं और वर्तमान में वह खेल विभाग के अंतर्गत स्पोर्ट्स स्टेडियम पिथौरागढ़ में जिला खेल अधिकारी प्रताप सिंह से प्रशिक्षण लेकर अपनी प्रतिभा को निखारने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

Leave a comment