पिता करते थे घरों में पेंट, बेटे ने दिया मेहनत का फल फोर्ब्स कि सूचि में छट्टे स्थान पर सौरभ जोशी

bikram

उत्तराखंड के एक मध्यम वर्गीय परिवार का लड़का सौरव जोशी यूट्यूब के जरिए मशहूर हो गया है। अब उनकी गिनती देश के टॉप यूट्यूबर्स में होती है, वह चर्चा में रहते हैं और अब उन्होंने एक बार फिर बड़ी उपलब्धि हासिल की है। इंडिया फोर्ब्स मैगजीन में उनका नाम भारत के टॉप 100 डिजिटल स्टार्स की लिस्ट में शामिल हुआ।

सौरव जोशी टॉप 100 यूट्यूबर्स की सूची में छठे स्थान पर

इसी चाहत में सौरव जोशी टॉप 100 यूट्यूबर्स की सूची में छठे स्थान पर रहे, जो पूरे उत्तराखंड के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। सौरव उत्तराखंड के नैनीताल जिले के हलद्वानी के रहने वाले हैं। यूट्यूबर सौरव जोशी को अब किसी परिचय की जरूरत नहीं है। एक साधारण परिवार में जन्मे सौरव ने यूट्यूब की दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाई है। आज भारत और हमारे देश के लाखों लोग उन्हें फॉलो करते हैं।

सौरव जोशी के बारे में खास बात यह है कि इतनी शोहरत और पैसा कमाने के बाद भी उन्होंने संयुक्त परिवार की परंपरा को जीवित रखकर आधुनिक युवाओं के लिए एक मिसाल कायम की है। यूट्यूबर के साथ-साथ सौरव पेंटिंग बनाने में भी एक्सपर्ट हैं। उन्होंने अपना पहला वीडियो जुलाई 2017 में यूट्यूब पर अपलोड किया था। इसके बाद साल 2020 में ‘365 दिनों में 365 व्लॉग्स’ चैलेंज ने उन्हें डिजिटल स्टार बना दिया।

सौरव जोशी की सफलता कई मायनों में खास है। उन्होंने और उनके परिवार ने बहुत संघर्ष देखा है। एक समय ऐसा भी था जब सौरव का परिवार आर्थिक तंगी से घिरा हुआ था। उनके पिता घर का खर्च चलाने के लिए घरों में पेंटिंग करते थे, लेकिन जल्द ही सब कुछ बदल गया। आज सौरव जोशी व्लॉग से हर महीने लाखों की कमाई होती है और सभी लग्जरी लाइफ जी रहे हैं। उनके पास कई महंगी कारें भी हैं. सोशल मीडिया पर उनके करोड़ों प्रशंसक हैं।

Leave a comment