स्वर्ग से सुन्दर हुआ उत्तराखंड का मुन्सियारी, पिथौरागढ़ की दारमा घाटी में खिले पर्यटको और होटल मालिकों के चेहरे

bikram

उत्तराखंड में मौसम अलग-अलग रंग दिखा रहा है. आखिरकार मुनस्यारी क्षेत्र अपने पूर्ण स्वरूप में आ गया है। ताजा बर्फबारी ने पर्यटकों और होटल मालिकों की मुस्कान को और अधिक चौड़ा कर दिया है।

दिन में धूप और रात में अठखेली कर रहा मौसम

कभी-कभी सूरज तेज चमक रहा होता है लेकिन शाम को आसमान में बादल उमड़-घुमड़ रहे होते हैं। हाल ही में उत्तराखंड के कई इलाकों में भारी बर्फबारी हुई है। जिसमें पिथौरागढ जिला भी शामिल है, जिससे यहां की घाटी में खूबसूरत नजारा देखने को मिल रहा है। मुनस्यारी में भी मौसम बदलता नजर आ रहा है। रविवार को यहां बर्फबारी हुई, जिसका असर ठंड के रूप में देखने को मिल रहा है। ठंड ने पूरे प्रदेश को अपनी चपेट में ले लिया है।

पिथौरागढ़ में मुनस्यारी के बलाती तक बर्फबारी हुई। इसके अलावा हर तरफ बर्फ की मोटी सफेद चादर नजर आ रही है, खलिया टॉप और छिपलाकेदार का नजारा मनमोहक दिख रहा है. जिले की व्यास घाटी में लिपुलेख, नवीढांग, कालापानी, गुंजी, नाबी, नेपालचू, रोंगकोंग, कुटी, ज्योलिंगकोंग आदि सहित छियालेख तक कैलाश मानसरोवर यात्रा मार्ग पर बर्फबारी हुई है।

दारमा घाटी भी बर्फ की सफेद चादर से ढक गई है. हिमालय की पूरी ऊंची बेल्ट जोहार घाटी, रालम और अन्य स्थानों पर बर्फबारी हुई है। खलिया टॉप में करीब तीन इंच बर्फबारी हुई है। उच्च हिमालयी क्षेत्रों में बर्फबारी के कारण निचले इलाकों में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। लोग ठंड से राहत पाने के लिए हीटर और अंगीठी का सहारा ले रहे हैं, लेकिन राहत नहीं मिल रही है।

कुछ दिनों के मौसम की बात करें तो ज्यादातर जगहों पर मौसम शुष्क है। मौसम वैज्ञानिकों ने बताया कि अगले दो दिनों में मौसम में कोई खास बदलाव की संभावना नहीं है। मौसम शुष्क रहेगा, हालांकि सुबह और शाम ठंडक रहेगी। डॉक्टर लोगों को सलाह दे रहे हैं कि वे अपना खास ख्याल रखें और गर्भवती महिलाओं, बुजुर्गों और छोटे बच्चों की सेहत का ख्याल रखने की सलाह दे रहे हैं।

Leave a comment