बहुत ही सुंदर है देवाल का सवाद गांव, उत्तराखंड का ऐसा गांव जहां सदियों से हर परिवार दे रहा है सेना में वीर सैनिक

bikram

उत्तराखंड देवभूमि ही नहीं बल्कि वीरांगनाओं की भूमि भी है। जब बात सेना में जाने की हो तो यहां युवाओं की कोई कमी नहीं है। देश को वीर सपूत देने के मामले में उत्तराखंड राज्य का कोई मुकाबला नहीं है। यहां के हर घर ने देश को एक सैनिक दिया है। हम बात कर रहे हैं देवाल स्थित सवाद गांव की

पहले विश्व युद्ध में भी यहाँ से गए थे लोग उनकी याद में लगता है मेला

आज हम आपको उत्तराखंड के एक ऐसे ही गांव के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां कई परिवार रहते हैं लेकिन यहां के जांबाज ही देश के लिए बलिदान देने में हमेशा आगे रहते हैं। यह गाँव बहुत प्रसिद्ध और पवित्र सा हो गया है, क्योंकि यह स्थान उन लोगों के लिए जाना जाता है जिन्होंने अपनी जान दे दी और परिवार का कम से कम एक व्यक्ति भारतीय सेना में सेवारत है। हम बात कर रहे हैं देवाल स्थित सवाद गांव की। यह अप्रत्याशित है कि प्रथम विश्व युद्ध में यहां के 22 सैनिक ब्रिटिश सेना का हिस्सा बने और दुश्मनों को धूल चटा दी।

उनकी याद में हर साल सैनिक दिवस पर सवाद में अमर शहीद सैनिक नाम से मेला आयोजित किया जाता है। यह दो दिवसीय शहीद मेला कल से यहां शुरू होगा. सवाद गांव में अब 1225 लोग रहते हैं, जिनमें से सैन्य परंपरा वाले इस गांव के 115 सैनिक सेना में सेवारत हैं। जबकि 28 वीर नारियां और 72 पूर्व सैनिक हैं।

यहां के 22 सैनिकों ने प्रथम विश्व युद्ध में, 38 ने द्वितीय विश्व युद्ध में, 14 ने पेशावर कांड में, एक ने 1971 के बांग्लादेश युद्ध में और एक ने ऑपरेशन ब्लू स्टार में योगदान दिया था। अपने देश के लिए जान देने वाले सैनिकों का इतिहास बहुत लंबा है। प्रथम विश्व युद्ध में गांव के जवाहर सिंह मेहरा, बादर सिंह, खेम सिंह, बलवंत सिंह मेहरा, खुशाल सिंह, नेत्र राम, पदम सिंह, राम सिंह, गैर सिंह, हयात सिंह, जवाहर सिंह, प्रताप सिंह, श्याम सिंह, दरवान सिंह धपोला। , काम सिंह, हुकम सिंह, उदे सिंह, श्याम सिंह, केदार सिंह, रतन सिंह, चिमन सिंह राणा शामिल थे।

सवाद गांव के ग्रामीण अब यहां केंद्रीय विद्यालय खोलने की मांग कर रहे हैं. उनके पास पहले से ही गाँव में एक प्राथमिक विद्यालय और एक इंटर कॉलेज है। इसके लिए छह साल पहले घोषणा हुई थी, लेकिन काम आगे नहीं बढ़ सका। केंद्रिये सिद्यालय के निर्माण के लिए ग्रामीणों ने स्कूल के लिए 105 एकड़ जमीन दान में दी है। मामले को लेकर थराली विधायक भूपाल राम टम्टा ने कहा कि सवाड़ में केंद्रीय विद्यालय खोलने की प्रक्रिया चल रही है. मुख्यमंत्री पुष्कर धामी से मुलाकात कर ग्रामीणों की मांगों से अवगत कराया गया है।

Leave a comment