उत्तराखंड के उत्पादों को मिला नया नाम, अब House of Himalayas के नाम से जाना जायेगा हर उत्पाद

bikram

फरवरी में धामी कैबिनेट ने फैसला लिया है कि उत्तराखंड के उत्पाद को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने के लिए एक समिति का गठन किया जाएगा. इसके तहत राज्य के सभी उत्पादों की गुणवत्ता, मार्केटिंग और ब्रांडिंग को बनाए रखा जाएगा। इसी आधार पर एक कमेटी का गठन किया गया है। राज्य के सभी उत्पाद स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होने के साथ-साथ उनमें स्वाद भी है। लेकिन उन्हें बहुत से लोग नहीं जानते हैं। उन्हें उनकी पहचान देने के लिए अब उनकी पहचान एक नाम से की जाएगी।

प्रधानमंत्री में इनवेस्टर समिट में कर सकते है घोषणा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के दौरान हाउस ऑफ हिमालयाज का शुभारंभ करेंगे। अब तक हिमाद्रि, हिलांस, ग्राम्यश्री जैसे सभी उत्पादों की मार्केटिंग अलग-अलग नामों से की जाती है, लेकिन अब सभी हाउस ऑफ हिमालयाज के नाम से जाने जाएंगे।

दरअसल, फरवरी में धामी कैबिनेट ने फैसला लिया था कि उत्तराखंड के सभी उत्पादों की गुणवत्ता, मार्केटिंग और ब्रांडिंग के लिए एक समिति बनाई जाए. इसी आधार पर एक कमेटी का गठन किया गया है. यह समिति पहले ही हाउस ऑफ हिमालयाज नाम को मंजूरी दे चुकी है। यह नाम दर्ज हो चुका है. ट्रेडमार्क के लिए आवेदन भी कर दिया गया है.सचिव ग्राम्य विकास राधिका झा ने कहा कि अब हाउस ऑफ हिमालयाज उत्तराखंड का ब्रांड होगा।

पहले उत्तराखंड के कई उत्पाद जैसे सेब और अन्य फसलें हिमाद्रि, हिलांस नाम से विभिन्न समितियों और स्वयं सहायता समूहों द्वारा बेची जाती थीं। अब इन्हें इसी ब्रांड नाम से बाजार में उतारा जाएगा। इससे भविष्य में उत्पादों को न केवल राष्ट्रीय बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी बेहतर बाजार मिलेगा।

अपर सचिव ग्राम्य विकास नितिका खंडेलवाल ने कहा, हाउस ऑफ हिमालयाज उत्तराखंड का ब्रांड नेम बन गया है। जैसे टाटा या अन्य कंपनियों का एक नाम होता है और तरह-तरह के उत्पाद बाजार में आते हैं। उसी तरह ये ब्रांड नाम काम करेगा।

उन्होंने कहा, सभी उत्पादों पर उनकी पहचान के साथ हाउस ऑफ हिमालयाज का टैग लगा होगा।कहा, इससे उत्पाद निर्माताओं की कमाई भी बढ़ेगी. बाहरी उपभोक्ताओं के सामने भी एक स्थापित पहचान बनेगी. संबंधित विभागों से उत्पादों को समर्थन पहले की तरह जारी रहेगा, लेकिन नाम वही रहेगा।

Leave a comment