उत्तराखंड चामा गांव की लीला चौहान ने देश में नाम रौशन, वैज्ञानिक बनकर पाई CSIR में नौकरी

bikram

वैसे तो उत्तराखंड के होनहार युवा आज किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं हैं, लेकिन जब बात उत्तराखंड की बेटियों की उपलब्धि की आती है तो यह अन्य लोगों के लिए प्रेरणा का स्रोत बन जाती है, खासकर लड़कियां जो आज भी दूरदराज में अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए संघर्ष कर रही हैं। क्षेत्र।

विपरीत परिस्थितियों से जूझते हुए भी नहीं मानी हार पाया अपना लक्ष्य

वे विपरीत परिस्थितियों से जूझते हुए दूसरों के लिए प्रेरणा का स्रोत बनते हैं, उनकी सफलता कई मायनों में खास हो जाती है। आज हम आपको राज्य की एक और ऐसी होनहार बेटी से मिलवाने जा रहे हैं जिसका चयन वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद- सीएसआईआर-सीएफटीआरआई, मैसूर में वैज्ञानिक के पद पर हुआ है। हम जिस लड़की की बात कर रहे हैं उसका नाम लीला चौहान है, जो मूल रूप से राज्य के देहरादून जिले के जौनसार बावर क्षेत्र की रहने वाली है।

उनकी उपलब्धि ने न केवल उनके परिवार बल्कि राज्य को भी गौरवान्वित किया है। लीला ने बताया कि वह मूल रूप से राज्य के देहरादून जिले के जौनसार बावर के चकराता तहसील क्षेत्र के चामा गांव की निवासी हैं। उनका बचपन गांव के संघर्षों से भरा है, लेकिन इसके बावजूद उन्होंने खेतों में हल चलाने के साथ-साथ पढ़ाई में भी कड़ी मेहनत करके यह मुकाम हासिल किया है।

आपको बता दें कि लीला ने अपनी प्राथमिक शिक्षा गांव के स्कूल से प्राप्त की, इसके बाद उन्होंने इंटरमीडिएट की परीक्षा नवोदय विद्यालय, उत्तरकाशी से पास की। इंटरमीडिएट की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद उन्होंने पंतनगर कृषि विश्वविद्यालय से कृषि अभियांत्रिकी में स्नातक की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद उन्होंने आईआईटी खड़गपुर से एम.टेक और फिर पीएचडी की मानक डिग्री प्राप्त की।

छात्रवृत्ति के साथ एम.टेक की पढ़ाई पूरी की और उच्च शिक्षा के लिए राष्ट्रीय फैलोशिप के माध्यम से पीएचडी की डिग्री प्राप्त की। आपको बता दें कि किसान परिवार से ताल्लुक रखने वाली डॉ. लीला को साल 2019 में उत्तराखंड राज्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद ने युवा वैज्ञानिक पुरस्कार से सम्मानित किया था, लेकिन दो साल पहले उनका चयन बिहार के शिवहर जिले के लिए हुआ था।

उन्हें यहां स्थित कृषि विज्ञान केंद्र में विषय वस्तु विशेषज्ञ के रूप में भी नियुक्त किया गया है और पिछले दो वर्षों से वह वहां काम कर रही हैं। लीला बताती हैं कि उनके छोटे भाई की मौत के बाद पूरा परिवार तबाह हो गया था, ऐसे में भी उन्होंने अपने हौसलों को टूटने नहीं दिया और इन विपरीत परिस्थितियों में भी किसी तरह अपने लक्ष्य पर केंद्रित रहीं।

आज उनका संघर्ष अच्छे परिणाम दिखा रहा है। वह बताती हैं कि एक समय था जब इंटरमीडिएट की परीक्षा पास करने के बाद परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी, इसलिए उनके पिता ने उन्हें उच्च शिक्षा दिलाने के लिए अपना खेत तक बेच दिया था।

Leave a comment