बेटियों के बाद उत्तराखंड की बहुओं ने मारी बाजी, देहरादून की मनीषा कार्की बनी मिजोरम में देश की पहली महिला ADC

bikram

उत्तराखंड की बेटियां जब राज्य का नाम रोशन करने आती हैं तो पुरुषों से पीछे नहीं रहतीं। उन्होंने लोगों को हमेशा उस काम पर गर्व महसूस कराया जो वे करते हैं और जिस पर वे विश्वास करते हैं। कई बेटियों के बाद राज्य की एक और बहू ने भी पूरे उत्तराखंड का मान बढ़ाया है।

देश की पहली महिला जो वायु सेना अधिकारी के साथ बनी ADC

इस लेख में हम एयरफोर्स ऑफिसर मनीषा कार्की के बारे में बात कर रहे हैं, जो हरि बाबू के एडीसी बनने के बाद मिजोरम के कंभमपति गवर्नर बने। आपको बता दें कि इस अप्रत्याशित सफलता के साथ, मनीषा राज्यपाल के एडीसी के रूप में नियुक्त होने वाली देश की पहली महिला भारतीय सशस्त्र बल अधिकारी बन गईं।

मनीषा पाढ़ी लीलावती कार्की परिवार की बहू हैं, वह देहरादून जिले के डोईवाला क्षेत्र के नागल ज्वालापुर की रहने वाली हैं। पीढ़ियों तक सेना में रहकर भारत माता की रक्षा करने का उनका एक लंबा पारिवारिक रिकॉर्ड है। जहां उनके पति प्रेम सिंह कार्की सेना में फ्लाइंग ऑफिसर के पद पर कार्यरत थे, वहीं उनके बेटे दीपक कार्की सेना में मेजर हैं, जो वर्तमान में गुरदासपुर में तैनात हैं। अब लीलावती की बहू मनीषा भी कार्की परिवार की इस सैन्य परंपरा को आगे बढ़ा रही हैं। 2015 बैच की भारतीय वायुसेना अधिकारी मनीषा स्क्वाड्रन लीडर हैं।

उन्हें मिजोरम का राज्यपाल नियुक्त किया गया है, डॉ. हरि बाबू को कंभमपति के सहायक डी कैंप (एडीसी) की जिम्मेदारी दी गई है। मनीषा को यह बड़ी जिम्मेदारी मिलने से उनकी सास लीलावती भी बेहद खुश हैं।

उनका कहना है कि मनीषा उनके परिवार का गौरव हैं। वह सेना में अफसर के तौर पर काम करते हुए न सिर्फ देश के प्रति अपनी जिम्मेदारियां बखूबी निभा रही हैं, बल्कि एक बेटी के तौर पर उनका पूरा ख्याल भी रखती हैं।

Leave a comment