मुख्यमंत्री धामी ने पीएम मोदी से करी कुमाऊँ के विकास पर बात, अब बनेगी उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में 57 किमी की लम्बी सुरंग

bikram

आज मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की, उत्तराखंड के विकास पर कुछ प्रस्तावित योजना पर बात करने के लिए। इस दौरान मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री मोदी से उत्तराखंड राज्य की तीन बड़ी सुरंग परियोजनाओं को मंजूरी देने का अनुरोध किया है।

सुरंग बनने से होगा ITBP को फ़ायदा

अब खास बात ये है कि ये तीनों सुरंगें कहां बनाई जानी हैं। पहली सुरंग कुमाऊं में ज्योलिंगकोंग से बेदांग के बीच होगी, जिसकी लंबाई 05 किमी होगी। इसके अलावा दूसरी सुरंग कुमाऊं में ही सीपू और तोला के बीच होगी। इसकी लंबाई 22 किमी होगी। तीसरी सुरंग मिलम और लाप्थल के बीच होगी।

आपको बता दें कि ये सुरंगें भारत-चीन सीमा पर दो अलग-अलग घाटियों में दो आईटीबीपी चौकियों को जोड़ने और सीमा क्षेत्र के लोगों को आसान परिवहन प्रदान करने के उद्देश्य से बनाई जानी हैं, राज्य सरकार ने केंद्र को इसका प्रस्ताव दिया है। दोनों घाटियों को एक सुरंग के माध्यम से जोड़ें। इससे पिथौरागढ़ के जौलिंगकांग और चमोली के लपथल के बीच की दूरी घटकर 42 किमी रह जाएगी, जो अभी 490 किमी है।

वर्तमान में भारत-चीन सीमा पर कोई सीधा मार्ग नहीं है जो सीधे तौर पर चमोली के लाप्थल में आईटीबीपी पोस्ट को पिथौरागढ़ में जौलिंगकांग आईटीबीपी पोस्ट से जोड़ता हो। रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण इन दोनों चौकियों के बीच 57-57 किमी की तीन सुरंगें बनाकर 490 किमी की दूरी कम की जा सकती है। इन परियोजनाओं को पूरा करने से सेना को लाभ होगा क्योंकि वे तेजी से संचार कर सकेंगे और समय पर अपने गंतव्य तक पहुंच सकेंगे।

Leave a comment