उत्तराखंड का युवा अब स्वरोजगार से देगा पलायन और बेरोजगारी को मात, इस योजना से छत पर लगाए सोलर प्लांट घर बैठे कमाए पैसे

bikram

राज्य को पलायन से बचाने और मिशन रिवर्स माइग्रेशन को उत्तराखंड में सफल बनाने के लिए सरकार हरसंभव प्रयास कर रही है। इसके अलावा बेरोजगार युवाओं को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए उत्तराखंड में कई योजनाएं चल रही हैं।

उरेडा की मदद से पाए 50 प्रतिशत की छूट

अब उत्तराखंड अक्षय ऊर्जा विकास एजेंसी (उरेडा) ने भी इस दिशा में कुछ कदम उठाए हैं। उरेडा की योजना के तहत बेरोजगार युवा छत पर सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित करके अपने लिए आय का नया स्रोत बना सकते हैं। रूफटॉप सौर ऊर्जा संयंत्र न केवल बिजली की खपत को कम करने में मदद करेगा, बल्कि युवाओं को रोजगार भी प्रदान करेगा। यह एक अच्छी पहल है क्योंकि राज्य में बिजली की खपत काफी बढ़ रही है। यह उनके लिए अवसर है क्योंकि अब रूफटॉप सोलर प्लांट लगाने से उन्हें आय का स्रोत भी मिल सकता है।

इसके जरिए वे मुफ्त में बिजली का उपयोग कर सकते हैं, और यूपीसीएल को बिजली बेचकर पैसा भी कमा सकते हैं। खास बात यह है कि सोलर प्लांट लगाने के लिए सरकार 50 फीसदी सब्सिडी के साथ अनुदान देगी। इस योजना के तहत बेरोजगार लोगों को अपने घरों की छतों पर तीन से 10 किलोवाट क्षमता का सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित करना होगा। इन प्लांट को लगाने में 6 लाख रुपये की लागत आएगी, इसमें 50 फीसदी सब्सिडी भी मिलेगी।

सोलर पावर प्लांट से उत्पादित बिजली को यूपीसीएल 4.49 रुपये प्रति यूनिट की दर से खरीदेगा। यह राशि संबंधित व्यक्ति के खाते में आएगी और उसके लाभ का हिस्सा होगी। यह रकम प्लांट लगाने वाले व्यक्ति के खाते में आएगी और उसके मुनाफे का हिस्सा होगी। उरेडा,अल्मोड़ा के परियोजना अधिकारी मनोज कुमार बनेठा ने बताया कि यह योजना बेरोजगारों के लिए काफी फायदेमंद साबित होगी।

खास बात यह है कि इसमें 50 फीसदी सब्सिडी भी मिलती है. योजना का लाभ लेने के लिए आपको नेशनल पोर्टल पर आवेदन करना होगा। MNRI के राष्ट्रीय पोर्टल पर आवेदन करने के बाद आपको सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित करने के लिए अनुदान मिलेगा।

Leave a comment