जागेश्वर धाम के शिलालेखों का हुआ अनुवाद, क्या मंदिर का सोमनाथ मंदिर से कोई संबंध है?

bikram

उत्तराखंड के मंदिर अपने आप में रहस्यों को समेटे हुए हैं जो आज भी भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के कई प्रतिष्ठित पुरातत्वविदों के लिए एक पहेली बने हुए हैं। उत्तराखंड में अनेक ग्रंथ पाए जाते हैं। अशोक अपने से पिछली पीढ़ियों को। उत्तराखंड का एक मंदिर जागेश्वर आज भी रहस्य है। यहां उत्तराखंड के जागेश्वर धाम के मंदिरों की दीवारों और शिलालेखों पर उकेरी गई एक हजार साल से भी ज्यादा पुरानी लिपि सामने आई है।

शिलालेख से प्राप्त हुई कई राजाओं की राजवंशावली

लिपि के माध्यम से इस मंदिर समूह का देश के अन्य बड़े मंदिरों से प्राचीन संबंध है। समूह के सबसे पुराने मंदिर महामृत्युंजय की दीवार पर कई पांडुलिपियां उत्कीर्ण हैं, अन्य जागेश्वर और कुछ अन्य मंदिरों में हैं। मृत्युजंय मंदिर के मंडप में तीन प्राचीन शिलालेख भी रखे गए थे। लेकिन स्क्रिप्ट के रहस्य से हर कोई अनजान था। इसे देखते हुए भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) देहरादून डिवीजन ने पिछले साल ही पुरालेख शाखा को पत्र भेजा था।

इधर, अब पुरालेख शाखा ने पत्र के माध्यम से जानकारी दी है कि इस लिपि का अनुवाद देश के प्रसिद्ध पुरालेख विशेषज्ञ डॉ. डीसी सरकार ने 1960 में किया था। अक्टूबर 1959 में पुरालेख विशेषज्ञ डॉ. डी.सी. सरकार जागेश्वर पहुँचे और दीवारों पर उत्कीर्ण प्राचीन शिलालेखों तथा लिपि की प्रतिलिपि बनाई। इसके बाद उन्होंने इसका अनुवाद भी किया।

यह अनुवाद एपिग्राफी इंडिका नामक पुस्तक में प्रकाशित हुआ है। लेकिन उनका यह महान कार्य अतीत में धूमिल हो गया है। अब करीब छह दशक बाद ये जानकारी सामने आई है। शिलालेखों में उत्कीर्ण लिपि के अनुवाद से यह स्पष्ट हो गया है कि मृत्युंजय मंदिर के मंडप की मरम्मत 13वीं शताब्दी में की गई थी। एक शिलालेख में लिखा है कि मंडप की मरम्मत का कार्य तुलाराम की पत्नी श्री कुमाद्री ने करवाया था।

मरम्मत का कार्य नारायण के छोटे भाई पुत्र कृष्णदास ने कराया था। यहां कुमाद्रि का अर्थ कूर्मांचल से भी लगाया जा सकता है। अब हम आपको बताना चाहते हैं कि अनुवाद से पता चला है कि मृत्युंजय मंदिर के मंडप के पहले शिलालेख में दो प्रकार के विवरण हैं। पहला विवरण खंडित है. दूसरे वृत्तांत में स्थानीय देवताओं, बैद्यनाथ और सोमनाथ की दैनिक पूजा के लिए विभिन्न वस्तुओं के उपहार का उल्लेख है।

यह शिलालेख 13वीं शताब्दी में लिखा गया था। इससे प्रतीत होता है कि एक हजार वर्ष पूर्व जागेश्वर का संबंध देश के प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग वैद्यनाथ और सोमनाथ से भी रहा होगा। मृत्युंजय मंदिर के तीसरे शिलालेख में उदयपाल देव (लखन) और पालदेव आदि द्वारा भगवान वैद्यनाथ की दैनिक पूजा के लिए कुछ उपहार देने का उल्लेख है। यह शिलालेख भी 13वीं शताब्दी में लिखा गया है।

इस शिलालेख को संरक्षण की दृष्टि से पुरातत्व संग्रहालय में रखा गया है।लोग पूजा के लिए प्रतिनिधि भी भेजते थेलिपि के अनुवाद से यह भी पता चला है कि लगभग एक हजार वर्ष पूर्व जागेश्वर धाम में देश-विदेश से लोग असमर्थता होने पर अपना एक प्रतिनिधि अपने खर्चे पर भेजा करते थे। एक अन्य शिलालेख के अनुवाद से पता चला है कि जेजेसा नाम का पूर्व देश का एक व्यक्ति यहां के शिलालेखों को तराशने के लिए जिम्मेदार था।

यह शिलालेख पूर्व देश के प्रभुदत्त द्वारा लिखा गया था। शिलालेख स्थापित करने के लिए भंडा, चंगा, खड्ग, अनर्थ और अर्जजाना नाम के पांच व्यक्ति यहां पहुंचे थे। इस पूर्व देश का अर्थ पश्चिम बंगाल भी हो सकता है। एक शिलालेख में अघोरशिव उर्फ ​​विश्निरघट का नाम भी उत्कीर्ण है। पुरालेख शाखा ने अघोरशिव को शैव संन्यासी माना है। वह अपने जीवन का अंत करने की इच्छा से जागेश्वर में नंदा भगवती के दर पर आये थे।

एएसआई के सहायक अधीक्षण पुरातत्वविद् केबी शर्मा ने बताया कि कुछ समय पहले एएएसआई ने जागेश्वर मंदिर के शिलालेखों के अनुवाद के संबंध में पुरालेख शाखा को पत्र भेजा था।

Leave a comment