उत्तराखंड के लिए आ गया ऐतिहासिक क्षण, उत्तरकाशी में सिल्कयारा सुरंग से निकले सारे मजदूर

bikram

उत्तरकाशी सिल्क्यारा सुरंग हादसे में फंसे मजदूरों के बचाए जाने का इंतजार कर रहे लोगों के लिए आखिरकार अच्छी खबर आ गई है। उत्तरकाशी के सिल्क्यारा टनल में चल रहा रेस्क्यू ऑपरेशन सफल रहा है. खबर लिखे जाने तक सुरंग के अंदर से 17 मजदूरों को बाहर निकाला जा चुका है। सभी का मेडिकल चेकअप किया जा रहा है और उन्हें अस्पताल ले जाया जाएगा।

17 दिन के बाद अपनों से मिलकर नाम हुई आँखें

पूरा देश अब राहत की सांस ले रहा है. पिछले 24 घंटे में इस ऑपरेशन में तेजी लाई गई और अब यह सफल हो गया है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी टनल के अंदर मौजूद हैं। इन मजदूरों को 17 दिन बाद बाहर निकाला जा रहा है। यह एक बड़ी खबर और ऐतिहासिक क्षण है क्योंकि यह उत्तराखंड के कठिन बचावों में से एक है। जिन श्रमिकों को बचाया जा रहा है उनका विशेष ध्यान रखा जा रहा है क्योंकि वे बहुत तनाव में होंगे।

सिल्कयारी सुरंग उत्तरकाशी की सबसे महत्वपूर्ण सुरंगों में से एक है क्योंकि यह उत्तरकाशी में चार धाम परियोजना के तहत बनाई गई है, 12 नवंबर को भूस्खलन के रूप में बड़ी दुर्घटना हुई थी।निर्माणाधीन सुरंग पर मलबा गिर गया. इसमें अंदर काम कर रहे 41 मजदूर फंसे हुए हैंउन्हें वायु-संपीड़ित पाइपों के माध्यम से ऑक्सीजन, बिजली और भोजन दिया गया। आपको बता दें कि चिन्यालीसौड़ के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में 41 बेड का अस्पताल बनकर तैयार है।

जैसे ही मजदूरों को बाहर निकाला जाएगा, उन्हें एंबुलेंस के जरिए यहां पहुंचाया जाएगा. अस्पताल में डॉक्टर भी अलर्ट मोड में हैं. इस खुशखबरी से मजदूरों के परिजनों के चेहरे पर खुशी की लहर है. इसके साथ ही सभी ने अपने प्रियजनों के स्वागत की तैयारी कर ली है और लोग फूलों की मालाएं लेते नजर आ रहे हैं।

श्रमिकों से संपर्क किया गया और उनके सुरक्षित होने की सूचना दी गईअंतर्राष्ट्रीय सुरंग विशेषज्ञ अर्नाल्ड डिक्स को बुलाया गया। यह बरमा मशीन अमेरिका से मंगवाई गई थीमुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने संभाला कार्यभारप्रधानमंत्री मोदी भी लगातार संपर्क में रहेएनएचआईडीसीएल और आईटीबीपी समेत कई एजेंसियां ​​बचाव प्रयासों में जुटींमजदूरों का पहला वीडियो 21 नवंबर को सामने आया

Leave a comment