उत्तरकाशी में अपने भक्तों को बचाने आये महादेव, सिल्कयारा टनल पर दिखी शिव की आकृति

bikram

सिल्क्यारा उत्तरकाशी सुरंग में श्रमिकों के लिए बचाव कार्य तेजी से चल रहा है। सुरंग में अभी भी 41 मजदूर फंसे हुए हैं और 15 दिन हो गए हैं. इन 41 जिंदगियों को बचाने के लिए हर कदम उठाए जा रहे हैं और देशभर से दुआएं भी की जा रही हैं. उत्तराखंड सिल्कयारा सुरंग में 12 नवंबर 2023 से मजदूर फंसे हुए हैं. पहले सीधे पाइप बिछाने और फिर वर्टिकल ड्रिलिंग के जरिए उन्हें बाहर निकालने की कोशिश की जा रही है।

सुरंग के पास पानी के बहने से बनी शिव की आकृति

एक अच्छी खबर यह है कि मलबे के बीच डाले गए पाइप में फंसी ऑगर मशीन को बाहर निकाल लिया गया है, वर्टिकल ड्रिलिंग भी 36 मीटर तक पहुंच गई है। इंटरनेट पर सिल्कयारा टनल हादसे से जुड़ी एक अजीब बात वायरल हो रही है। आज एक तस्वीर वायरल हो रही है जिसमें सुरंग के बाहर भगवान शिव जैसी आकृति उभरी है। कई मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा किया जा रहा है। आपको बता दें कि सुरंग के बाहर स्थापित बौखनाग देवता के मंदिर के पीछे भगवान शिव जैसी आकृति उभरी हुई है। जिसकी तस्वीर भी सामने आ गई है।

आपको बता दें कि बाबा बौखनाग का मंदिर था। सुरंग के बाहर बनाया गया और सुरंग के निर्माण से पहले विस्थापित किया गया। अब इस घटना के बाद मंदिर को वापस उसकी जगह पर लाया गया है, जिसके बाद ही मंदिर के पीछे की पहाड़ी पर भगवान शिव की आकृति दिखने का दावा किया जा रहा है। मंदिर के अंदर भगवान नागराजा की एक मूर्ति है जिन्हें वहां का पारिवारिक देवता माना जाता है। कहा जा रहा है कि शिव जैसी यह आकृति पानी के रिसाव से बनी है।

वहीं लोगों का दावा है कि शिव जैसी यह आकृति पानी के रिसाव से बनी है. हालांकि, यह अकेली जगह नहीं है जहां पानी का रिसाव हो रहा है, ऐसा कई अन्य जगहों पर भी हो रहा है, लेकिन इस जगह पर भगवान शिव की आकृति देखकर सोशल मीडिया पर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। भगवान शिव की आकृति प्रकट होने के बाद लोग कह रहे हैं कि अब यह संकट जल्द ही खत्म हो जाएगा क्योंकि भगवान उनके बच्चों को बचाने के लिए स्वयं आए हैं, भगवान शिव की आकृति दिखना एक शुभ संकेत है।

Leave a comment