उत्तराखंड के इस चाचा भतीजे की जोड़ी ने कर दिखाया अद्भुत कारनामा, उत्तरकाशी में अपने गांव में कर डाली होमस्टे से पलायन की छुट्टी

bikram

उत्तराखंड एक ऐसा राज्य है जहां भगवान ने प्राकृतिक सुंदरता देने में कोई कमी नहीं रखी है। इस राज्य में हर साल बड़ी संख्या में पर्यटक आते हैं। यहां मौजूद प्रकृति की सुंदरता अपनी मनमोहक छवि से लोगों का मन मोह लेती है, लेकिन दूसरी ओर इसके बजाय यहां के ये गांव पलायन जैसी बड़ी समस्या से भी जूझ रहे हैं। यहां के कई गांव न केवल लोगों की कमी से जूझ रहे हैं बल्कि ये ऐसे गांव हैं जो पूरी तरह से खाली हैं। पर अब होमस्टे जैसी योजना से यह समस्या खत्म हो रही हैं।

चाचा बना गाईड तो भतीजे ने संभाला होम्स्टे

आज उत्तराखंड के कुछ युवा इन गांवों को छोड़कर काम की तलाश में बड़े शहरों की ओर पलायन कर रहे हैं क्योंकि उत्तराखंड के गांवों में रोजगार के अवसर कम हैं। लेकिन अब सरकारी और निजी गैर सरकारी संगठनों द्वारा शुरू की गई विभिन्न योजनाओं और योजनाओं के कारण यह तस्वीर बदलती दिख रही है। कई युवाओं को स्वरोजगार की राह दिखाकर अपनी पहाड़ की माटी से लगाव दिखाया है।

आज बहुत से युवा अपने गांव में रहकर न सिर्फ अपना जीविकोपार्जन कर रहे हैं, बल्कि अपने गांव के अन्य लोगों को भी रोजगार के अवसर उपलब्ध करा रहे हैं। आज हम बात कर रहे हैं उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले के सांकरी-सौड़ गांव के चाचा भगत रावत और उनके भतीजे चैन सिंह रावत की जोड़ी के बारे में। उन्होंने अपना होमस्टे शुरू करके और अपनी जीविका अर्जित करके स्व-रोज़गार की पहल भी शुरू की।

उन्होंने अपने गांव को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित कर देश भर के पर्यटकों का ध्यान अपने गांव की ओर आकर्षित किया है। इस पहल की शुरुआत के बारे में भगत सिंह रावत कहते हैं कि उन्होंने पर्यटकों को उनके गांव में आते देखा, लेकिन उन्हें गांव में रहने के लिए उचित जगह नहीं मिली। ये तो साल 1995 की बात है लेकिन उनका सफर इससे कई साल पहले ही शुरू हो चुका था।

वह बताते हैं कि करीब 40 साल पहले जब वह छोटे थे तो उन्होंने देखा कि कुछ लोग केदार कांथा ट्रैकिंग के लिए आए थे। भगत सिंह अपने साथियों के साथ वहां गाय-बकरियां चराने जाया करते थे, इसलिए उन्हें केदार कांठा का रास्ता मालूम था। जब पर्यटकों ने उससे रास्ता पूछा तो उसने उन्हें रास्ता बता दिया। जाते समय पर्यटकों ने उन्हें 75 रुपये दिए, जो उस समय बहुत बड़ी बात थी। इसके बाद वह कई बार स्कूल से वापस आने के बाद छिपकर पर्यटकों को ट्रैकिंग पर ले जाते थे।

अन्य लोगो ने दिया साथ और खोल दिए द्वार

उनके इस काम के लिए उनके परिवार वालों ने उन्हें बहुत डांटा, लेकिन काम के प्रति उनकी रुचि उस समय ही शुरू हो गई, जब वह अपने परिवार के सदस्यों से छिपकर पर्यटकों पर नज़र रखने लगे। भगत रावत को उनके काम में उनके भतीजे चैन सिंह रावत का सहयोग मिला। चैन सिंह रावत ने उत्तरकाशी से पर्यटन में स्नातकोत्तर के साथ-साथ पर्वतारोहण का कोर्स भी किया है। अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद वह अपने गांव सांकरी-सौर लौट आये।

चैन सिंह कहते हैं कि उन्हें एहसास हुआ कि उनकी पहल उनके गांव से ही शुरू होनी चाहिए। दोनों चाचा भतीजा की इस पहल के कारण, गाँव में जिन लोगों के घर हैं, उन्होंने गाँव के अधिकांश घरों में इसे अपना होम स्टे बनाना शुरू कर दिया है। पर्यटक यहां उत्तराखंड के पारंपरिक घरों में रुकते हैं और उन्हें स्थानीय भोजन भी खिलाया जाता है। होम स्टे में ठहरने वाले पर्यटकों का पूरा सम्मान किया जाता है।

जब कोई मेहमान आता है तो उसे फूलों की माला पहनाकर पारंपरिक तरीके से स्वागत किया जाता है। चैन सिंह रावत के मुताबिक आज उनके गांव से पलायन पूरी तरह खत्म हो गया है। गांव के लोग अब अपने परिवार के साथ रहते हैं। आज वे अपने गांव की बदलती तस्वीर देखकर काफी संतुष्ट और खुश हैं।

Leave a comment