उत्तराखंड सरकार की तरफ से कुमाऊं के यात्रियों के लिए खुशखबरी, अब काठगोदाम से गोरखपुर के लिए सीधी ट्रेन

bikram

प्रदेश के कुमाऊं मंडल के निवासियों के लिए एक अच्छी खबर आ रही है। कुमाऊं क्षेत्र को केंद्र सरकार से बैक टू बैक ट्रेन सेवाएं मिल रही हैं। टनकपुर से जयपुर के लिए सीधी ट्रेन के बाद अब जल्द ही उन्हें गोरखपुर से टनकपुर और काठगोदाम के लिए नई ट्रेन सेवा की सौगात मिल सकती है। इससे न सिर्फ यात्रियों को सुविधा होगी बल्कि दोनों स्टेशन पूर्वोत्तर रेलवे के मुख्यालय गोरखपुर से भी जुड़ जाएंगे। बताया गया है कि मैलानी से शाहगढ़ तक गेज परिवर्तन (नैरो से ब्रॉड गेज) का काम पूरा हो चुका है।

पूर्वोत्तर रेलवे के लिए टनकपुर और काठगोदाम तक खुलेगा एक नया रेल मार्ग

इतना ही नहीं, निर्माण कार्य पूरा होने के बाद कल शाहगढ़ तक लखनऊ-मैलानी पैसेंजर ट्रेन का संचालन भी शुरू हो गया है, हालांकि शाहगढ़-पीलीभीत तक नैरोगेज का करीब 25 किलोमीटर का आमान परिवर्तन अभी बाकी है, इसके पूरा होने के बाद न सिर्फ इससे कुमाऊं के लोगों को तो सहूलियत होगी ही, साथ ही यह पूर्वोत्तर रेलवे के लिए टनकपुर और काठगोदाम तक खुलने वाला एक नया रेल मार्ग भी होगा। जिसके बाद पूर्वोत्तर रेलवे की उत्तर रेलवे पर निर्भरता भी खत्म हो जाएगी।

आपको बता दें कि फिलहाल बाघ एक्सप्रेस वैसे तो काठगोदाम से गोरखपुर होते हुए संचालित होती है, लेकिन इसके लिए उत्तर रेलवे के ट्रैक का इस्तेमाल करना पड़ता है। काठगोदाम से हावड़ा तक चलने वाली यह ट्रेन हलद्वानी-लालकुआं-रुद्रपुर-रामपुर-बरेली-लखनऊ होते हुए गोरखपुर पहुंचती है। बरेली से रामपुर रूट उत्तर रेलवे में आता है।

इस कारण पूर्वोत्तर रेलवे के अंतर्गत आने वाले कुमाऊं के दो बड़े स्टेशनों काठगोदाम से टनकपुर तक ट्रेन का संचालन नहीं हो सकता, क्योंकि बरेली जाने के बाद इसका रूट बस से भी लंबा हो जाता है। अब पूर्वोत्तर रेलवे नये मैलानी-शाहगढ़-पीलीभीत रेल मार्ग पर पर्याप्त रेलगाड़ियों का संचालन कर सकेगा तथा काठगोदाम एवं टनकपुर के मध्य भी नई रेल सेवा प्रारम्भ की जा सकेगी। इसके अलावा पहाड़ों की यात्रा और मां पूर्णागिरि धाम की राह भी आसान हो जाएगी।

Leave a comment