दिवाली पर उत्तराखंड की प्रतिभा ने दिलाया देश को सम्मान, पुरानी कुरीतियों को तोड़ कर बॉडीबिल्डिंग में जीता मैडल

bikram

उत्तराखंड की महिला बॉडी बिल्डरों में से एक प्रतिभा थपलियाल ने बॉडी बिल्डिंग में देश और राज्य का नाम रोशन किया है, वह दक्षिण कोरिया में आयोजित 14वीं विश्व एवं फिजिकल स्पोर्ट्स चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने में सफल रहीं। यह प्रतियोगिता उनके लिए आसान नहीं थी, उन्होंने इस चैम्पियनशिप में भाग लेने वाले 52 देशों के प्रतियोगियों के साथ प्रतिस्पर्धा की।

ये सम्मान पाने वाली देश की पहली बॉडीबिल्डर

उत्तराखंड की प्रतिभा ने राज्य में महिलाओं को राह दिखाई है। बॉडी बिल्डिंग को पुरुषों से जोड़ा जाता था लेकिन प्रतिभा थपलियाल ने इन बातों को झूठा साबित कर दिया है। प्रतिभा थपलियाल मूल रूप से राज्य के पौड़ी गढ़वाल जिले की रहने वाली हैं, उन्होंने अपने जज्बे से पूरे देवभूमिवासियों को सलाम करने पर मजबूर कर दिया है और उनकी जीत अन्य लड़कियों को भी प्रोत्साहित कर सकती है।

इससे पहले भी प्रतिभा ने कई राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में पदक जीतकर पूरे राज्य को गौरवान्वित किया है। प्रतिभा राज्य पहली महिला बॉडीबिल्डर हैं। प्रतिभा ने बॉडी बिल्डिंग में अपनी मेहनत और जुनून से पूरे देश में नाम कमाया है। बॉडी बिल्डिंग एक ऐसा खेल है जिसमें ज्यादा लोगों की रुचि नहीं होती और इसे पुरुषों का खेल माना जाता है। प्रतिभा ने इस रूढ़ि को तोड़ा और अपने लक्ष्य हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत की।

कई लोग पहले तो हैरान रह गए कि वह दो बच्चों की मां हैं। घर की जिम्मेदारियों के साथ-साथ उन्होंने बॉडी बिल्डिंग शुरू की और अब देशभर में मशहूर हो गई हैं। बॉडी बिल्डिंग में आने से पहले वह वॉलीबॉल के अलावा क्रिकेट भी खेल चुकी हैं। वह बॉडीबिल्डिंग के जरिए युवाओं को फिटनेस के प्रति जागरूक कर रही हैं। सितंबर में नेपाल में आयोजित 55वीं एशियन बॉडी बिल्डिंग एंड फिजिक स्पोर्ट्स चैंपियनशिप में प्रतिभा थपलियाल ने कांस्य पदक जीता। वहीं मार्च में प्रतिभा थपलियाल ने 13वीं जूनियर मिस्टर इंडिया और सीनियर महिला बॉडीबिल्डिंग नेशनल चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीता था।

Leave a comment