क्यों दुनियाभर में प्रसिद्ध है देहरादून का बासमती, क्या अफ़ग़ानिस्तान तक जुड़ी थी चावल की जड़े, राजा ने करी यहां खेती

bikram

ज्यादातर लोग नहीं जानते लेकिन एक समय था जब उत्तराखंड का देहरादून जिला बासमती चावल के लिए जाना जाता था। यहां पैदा होने वाली बासमती अपनी सुगंध और स्वाद के लिए दुनिया भर में मशहूर है। इनकी महक इतनी मनमोहक और तेज होती है कि अगर इसे किसी घर में पकाया जाए तो इसकी महक पूरे गांव में फैल जाएगी और ये खाने में भी स्वादिष्ट होती है।

बनना तो दूर खेत में से ही फैल जाती थी चावल की खुशबू

इतना ही नहीं, जिस खेत में इसे लगाया जाता है तो पूरा खेत बासमती धान की खुशबू से भर जाता है। इसीलिए इन्हें दुनिया भर में पसंद किया जाता है और देहरादून आने वाले लोग सबसे पहले यहां का बासमती चावल ले जाते हैं। इस चावल को सबसे पहले देहरादून लाने का श्रेय अंग्रेज़ों और अफ़गानों को जाता है। हमें बताया जा रहा है कि चावल की यह किस्म 19वीं शताब्दी में अफगानिस्तान के कुनार प्रांत से देहरादून में लाई गई थी।

अफगानिस्तान का शासक दोस्त मोहम्मद खान, जो इसे वहां से भारत लाता था, इसे बराकजई भेजता था। इसके पीछे वास्तविक कहानी यह है कि 1839 से 1942 तक अंग्रेजों और अफगानों के बीच भयंकर युद्ध हुआ था। इस युद्ध में अफगान शासक दोस्त मोहम्मद खान की हार हुई और अंग्रेजों ने उनके पूरे परिवार को निर्वासित कर दिया

तभी दोस्त मोहम्मद खान अपने परिवार के साथ मसूरी यानि देहरादून आ गये। निर्वासन में अपना जीवन बिताने के लिए, धीरे-धीरे उन्हें यहां की जमीन पसंद आने लगी लेकिन बासमती पुलाव के शौकीन मोहम्मद खान को यहां का चावल पसंद नहीं आया. जिसके चलते उन्होंने अफगानिस्तान से बासमती धान के बीज लाकर देहरादून की इन पहाड़ियों में बोए। जब इस धान को देहरादून की मिट्टी में बोया गया तो कहा जाता है कि इस धान को यहां की मिट्टी पसंद थी लेकिन पैदावार अच्छी गुणवत्ता वाली और अफगानिस्तान की तुलना में बेहतर थी।

इसकी मनमोहक खुशबू इतनी तेज थी और यह खाने में इतना स्वादिष्ट था कि जो भी व्यक्ति इसके घर या खेत से गुजरता था वह इसका दीवाना हो जाता था। और जिस भी घर में यह पकाया जाता था वहां कोई भी इसके स्वाद के बिना नहीं रह पाता था। यह इतना तीव्र होता था कि यदि इसे एक बार किसी बार या किसी घर में बनाया जाता तो इसकी खुशबू पूरे गाँव में फैल जाती। कारण यह है कि यह धीरे-धीरे चर्चा में आने लगा और न केवल उत्तराखंड, भारत बल्कि पूरी दुनिया में इसकी चर्चा होने लगी। और एक समय ऐसा आया जब लोगों के बीच इसकी मांग इतनी हो गई कि व्यापारी सीधे खेतों से बासमती चावल लेने लगे।

बाद के समय में देहरादून में उगाई जाने वाली बासमती, जो पहले कई एकड़ भूमि पर उगाई जाती थी, अब केवल क्षेत्रों तक ही सिमट कर रह गई है। वह स्थान जहाँ कभी बासमती चावल उगाया जाता था। आज यह कंक्रीट और जंगल में तब्दील हो रहा है, लेकिन फिर भी। वर्तमान में इसकी खेती देहरादून के अलावा हरिद्वार, उधम सिंह नगर और नैनीताल में भी बड़े पैमाने पर की जाती है। इन स्थानों पर इसे आज भी देहरादून के बासमती चावल के नाम से जाना जाता है। देहरादून बासमती को बचाने के लिए सरकार काफी प्रयास कर रही है।

वर्तमान समय में देहरादून में इसकी खेती की बात करें तो यह चावल सेवला, माजरा और मथुरावाला क्षेत्र में उगाया जाता है। देहरादून की बासमती की खास बात यह है कि अगर इसे किसी भी राज्य, देश या अन्य क्षेत्र में बोया जाए तो यह देहरादून जैसी मीठी महक और स्वाद नहीं दे पाती है। इसलिए, देहरादून में उगाया जाने वाला बासमती दुनिया के किसी भी कोने में नहीं पाया जाता है और अगर इसे किसी हिस्से में बोया भी जाता है, तो इसमें देहरादून के बासमती चावल की तरह स्वादिष्ट और आकर्षक सुगंध और स्वाद नहीं होता है।

Leave a comment