चुनाव से पहले उत्तराखंड की इन 13 जगह पर हो रहा युद्धस्तर पर काम, काशी की तरह उत्तराखंड में भी बनेगा गंगा कॉरिडोर

bikram

उत्तराखंड को देवभूमि इसलिए कहा जाता है क्योंकि यहां कई धार्मिक स्थल मौजूद हैं। इनमें से हरिद्वार और ऋषिकेश सबसे अधिक देखी जाने वाली जगहें हैं। सरकार इन दोनों जगहों को राज्य में धार्मिक पर्यटन का आधार बनाने की कोशिश कर रही है। ये गंगा कॉरिडोर परियोजना के दो महत्वपूर्ण स्थल होंगे। इस कॉरिडोर को बनाने के लिए सरकार और प्रशासन युद्धस्तर पर काम कर रहा है क्योंकि इस प्रोजेक्ट से न सिर्फ पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा बल्कि रोजगार के अवसर भी मिलेंगे।

धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए ऋषिकेश हरिद्वार पर दिया जा रहा है ज़ोर

जिस तरह काशी विश्वनाथ कॉरिडोर और उज्जैन का महाकाल कॉरिडोर प्रसिद्ध है, उसी तरह भविष्य में उत्तराखंड गंगा कॉरिडोर के लिए जाना जाएगा। प्रस्तावित परियोजना का कार्य अगले अर्ध कुम्भ से पहले पूरा कर लिया जायेगा। उत्तराखंड आवास एवं शहरी विकास प्राधिकरण (यूडीए) ने इसके लिए मास्टर प्लान तैयार करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

इस परियोजना के माध्यम से उत्तराखंड के प्रमुख धार्मिक एवं प्राचीन स्थान जैसे हरिद्वार में हर की पैड़ी, भारत माता मंदिर, चंडी देवी, मनसा देवी, कनखल, शांतिकुंज के साथ-साथ ऋषिकेश में त्रिवेणी घाट, स्वर्गाश्रम, परमार्थ निकेतन, त्र्यंबकेश्वर मंदिर, लक्ष्मण मंदिर, भरत मंदिर, रामझूला आदि क्षेत्रों के पुनर्विकास की योजना बनाई जा रही है।

इस विशेष परियोजना को पूरा करने के लिए परियोजना के लिए हरिद्वार-ऋषिकेश पुनर्विकास कंपनी लिमिटेड का गठन किया गया है। राज्य में वर्ष 2024 में विधानसभा चुनाव होने हैं, उससे पहले आवास विभाग पौराणिक महत्व के शहरों को मॉडल के रूप में विकसित करने जा रहा है. इसके अलावा इस साल अर्धकुंभ भी प्रस्तावित है, उससे पहले प्रोजेक्ट का काम पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।

मास्टर प्लान तैयार होने के बाद प्रोजेक्ट का काम तेजी से आगे बढ़ेगा। पुनर्विकास के साथ सड़कों और गंगा के घाटों का भी पुनर्विकास किया जाएगा। यह जानकारी सचिव आवास एसएन पांडे ने दी. उन्होंने कहा कि गंगा दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को किसी तरह की परेशानी न हो, इसके लिए सरकार और प्रशासन युद्धस्तर पर काम कर रहा है।

Leave a comment