जानिए वो ख़ास बात जिससे उत्तराखंड के बिरमोली के गांव में बनेगा भारत का पहला पशुपति नाथ मंदिर, धीरेंद्र शास्त्री करेंगे स्थापना

bikram

काफी कोशिशों के बाद आखिरकार यह तय हो गया कि उत्तराखंड में एक ऐसा मंदिर बनेगा जो नेपाल के पशुपतिनाथ मंदिर की प्रतिकृति सैंण ( बिरमोली ) में बनेगा, यह उत्तराखंड और देश के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत का पैतृक गांव भी है। जनरल रावत 11/5 गोरखा राइफल्स में थे। गोरखा रेजीमेंट में होने के कारण नेपाल भी उनसे बेहद स्नेह रखता है।

पिता पुत्र दोनो रह चुके गोरखा रेजिमेंट का हिस्सा इसलिए यही बनेगा पशुपति नाथ मंदिर

भारतीय सेना में गोरखा रेजिमेंट का योगदान और बलिदान का स्वर्णिम इतिहास है। जनरल रावत के पिता लेफ्टिनेंट जनरल लक्ष्मण सिंह रावत भी गोरखा रेजिमेंट से थे। यही कारण है कि पशुपतिनाथ मंदिर काठमांडू के सहयोग से जनरल रावत के गांव सेवा में एक मंदिर बनाया जा रहा है। पशुपति क्षेत्र विकास निधि, काठमांडू, नेपाल द्वारा साइन गांव में मंदिर बनाने की अनुमति दे दी गई है।

यहां मंदिर बनाने का मकसद जनरल रावत के गांव को आदर्श गांव बनाना और वहां से पलायन को रोकना भी है. जनरल रावत की याद में बनने वाले पशुपतिनाथ मंदिर का शिलान्यास 18 मई को किया गया था। रिटायरमेंट के बाद जनरल रावत अपने गांव लौटना चाहते हैं और अपने गांव का विकास करना चाहते हैं, लेकिन उससे पहले ही एक अनहोनी हो गई। निवृत्ति यादव ने बताया कि वह महाराष्ट्र के लातूर जिले से हैं और ग्रामीण विकास विभाग से जुड़े हैं।

पिता पुत्र दोनों रह चुके गोरखा रेजिमेंट का हिस्सा इसलिए यही बनेगा पशुपति नाथ मंदिर

जनरल रावत की मृत्यु और उनके अधूरे सपने ने उन्हें बहुत परेशान किया था। इसके बाद उन्होंने रक्षा मंत्रालय से संपर्क किया और जनरल रावत के अधूरे सपने को पूरा करने के लिए अपना प्रस्ताव पेश किया।उन्होंने बताया कि डॉ. हरिवंश राय बच्चन प्रबोधन प्रतिष्ठान ने दो साल पहले जनरल रावत के सैन बिरमोली गांव को गोद लिया था। तब से गांव के विकास के लिए काम किया जा रहा है।

संस्थान का मुख्य उद्देश्य इस गांव से पलायन रोकना और बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराना है। संस्थान को राज्य सरकार द्वारा भी सहयोग दिया जा रहा है। जनरल रावत के चाचा भरत सिंह रावत ने सैन गांव में पशुपतिनाथ मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट को 15 नाली जमीन दी है। मंदिर ट्रस्ट में भरत सिंह रावत के परिवार को शामिल किया गया है।

यहां बनने वाले पशुपतिनाथ मंदिर में भक्ति और देशभक्ति का संगम होगा। इससे भारत और नेपाल के बीच रोटी-बेटी का रिश्ता मजबूत होगा. यह भारत में बनने वाला पशुपतिनाथ का पहला मंदिर है। मंदिर में शालिग्राम पत्थर से निर्मित शिवलिंग, नंदी महाराज, भोलेनाथ का डमरू और त्रिशूल पशुपतिनाथ ट्रस्ट काठमांडू द्वारा डॉ. मिलिंद कुमार थापा के सहयोग से दिया जा रहा है। जैसे अयोध्या में भगवान राम, सीता और लक्ष्मण की मूर्तियां शालिग्राम से बनी होती हैं। उत्तराखंड के पशुपति नाथ मंदिर में नेपाल से आए शालिग्राम पत्थर से बने शिवलिंग की स्थापना की जाएगी।

मंदिर के लिए लकड़ी का जो भी काम होगा वह नेपाल से तैयार किया जाएगा, जबकि पत्थर का काम राजस्थान के कारीगर करेंगे। मंदिर की स्थापना की घोषणा 4 नवंबर को देहरादून से की जाएगी. इसके लिए बागेश्वर धाम सरकार्यवाह पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री देहरादून आ रहे हैं। पशुपतिनाथ मंदिर भारत चैरिटेबल ट्रस्ट के तत्वावधान में 2 नवंबर को सचिवालय के पास स्थित जनरल बिपिन रावत की प्रतिमा तक सनातन कलश यात्रा का आयोजन किया जा रहा है। इसके बाद 3 नवंबर को महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कॉलेज में राष्ट्रभक्ति योग महायज्ञ का आयोजन किया जाएगा।

TAGGED:
Leave a comment