देश के सबसे सूंदर रेल मार्गो में से एक होगा ऋषिकेश कर्णप्रयाग रेल मार्ग, उत्तराखंड में यहां बनेगी देश की सबसे लम्बी रेल सुरंग

bikram

उत्तराखंड का ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना का कार्य तेजी से चल रहा है। इसके बाद हमें पहाड़ों पर रेल दौड़ने के लिए दो साल और इंतजार करना होगा। ट्रेन के 2026 के अंत तक ब्यासी रेलवे स्टेशन पहुंचने की संभावना है। हालांकि, रेलवे परियोजना के पूरा होने के बाद चारधाम यात्रा और आसान हो जाएगी और इससे पहाड़ में युवाओं के लिए रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे। इससे पर्वतीय क्षेत्र में पर्यटन, तीर्थाटन और अर्थव्यवस्था को भी मजबूती मिलेगी।

80% से ज्यादा रास्ता जाएगा सुरंग से होकर

रेलवे प्रोजेक्ट में देरी के कारण पहाड़ों पर ट्रेनें चलने में देरी होती दिख रही है. पहले इस रेल प्रोजेक्ट की समय सीमा 2024 तय की गई थी लेकिन अब इसमें 2 साल और लगने वाले हैं। रेल विकास निगम वर्ष 2026 तक ही ऋषिकेश-ब्यासी के बीच रेल लाइन का निर्माण कर पाएगा। कोरोना काल के कारण काम बाधित होने से प्रोजेक्ट पूरा होने में पहले ही देर हो चुकी है, कर्णप्रयाग तक रेलवे लाइन बिछाने में भी अधिक समय लग रहा है।

उत्तराखंड में खनन कार्य पर लगी रोक का असर ऋषिकेश करण प्रयाग रेलवे लाइन पर भी दिखने लगा है. 16,216 करोड़ रुपये की लागत से बन रही 125 किमी लंबी रेलवे लाइन को दिसंबर 2024 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया था। वैसे तो ऋषिकेश से कर्णप्रयाग तक सुरंग में बिछाई जाने वाली इस सिंगल ब्रॉड गेज रेल लाइन की लंबाई 105 किलोमीटर है, लेकिन देवप्रयाग और जनासू के बीच 14.8 किलोमीटर लंबी दो अलग-अलग सुरंगें बनाई जाएंगी जो सबसे लंबी सुरंग है।

इस डबल ट्यूब सुरंग में वाहनों की आवाजाही के लिए अलग से ब्रॉड गेज लाइनें बिछाई जानी हैं। रेल प्रोजेक्ट के तहत 127 किलोमीटर सुरंग का काम पूरा हो चुका है, लेकिन अभी 40 फीसदी काम में वक्त लगने की आशंका है। यह रेल परियोजना उत्तराखंड की किस्मत बदलने वाली साबित होगी। यह परियोजना जहां चारधाम यात्रा पर अपना प्रभाव छोड़ेगी, वहीं पहाड़ों पर लोगों को सुविधाएं भी प्रदान करेगी। ऋषिकेश कर्णप्रयाग परियोजना को लेकर स्थानीय लोगों में काफी उत्साह है।

इस परियोजना के शुरू होने से जहां स्थानीय लोगों को रोजगार मिला है, वहीं पूरी संभावना है कि रेल परिचालन शुरू होने पर भविष्य में भी रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे। साथ ही स्थानीय उत्पादों और पहाड़ी व्यंजनों को भी नई पहचान मिलेगी। इस प्रोजेक्ट के तहत 12 स्टेशनों में से सिर्फ दो स्टेशन जमीन से ऊपर बनाए जा रहे हैं।

जबकि 10 स्टेशन पहाड़ियों के नीचे होंगे. इस रेलवे लाइन का करीब 105 किलोमीटर हिस्सा भूमिगत होगा। 15 किलोमीटर लंबी इस रेल सुरंग परियोजना के पूरा होने के बाद ऋषिकेश से कर्णप्रयाग केवल 2 घंटे में पहुंचा जा सकेगा। प्रोजेक्ट के पूरा होने से न सिर्फ ऋषिकेश से कर्णप्रयाग की दूरी कम हो जाएगी बल्कि बद्रीनाथ धाम का सफर भी महज 2 घंटे का रह जाएगा।

वर्तमान में कर्णप्रयाग से बद्रीनाथ धाम तक पहुंचने में लगभग 4:30 घंटे का समय लगता है, लेकिन रेलवे परियोजना के निर्माण से यह यात्रा घटकर केवल 2 घंटे रह जाएगी।ऋषिकेश से बद्रीनाथ धाम केवल 4 घंटे में पहुंचा जा सकता है। यह रेलवे प्रोजेक्ट 12 स्टेशनों, 17 सुरंगों और 35 पुलों के साथ बनाया जा रहा है। -चमोली के गोचर में दो रेलवे स्टेशन बनाए जाएंगे।

Leave a comment