अब करिये पहाड़ों पर समुद्र जैसी हवाई सेवा, उत्तराखंड के इस जिले से शुरू होगी उत्तर भारत की पहली जाइरोकॉप्टर हवाई सेवा

bikram

उत्तराखंड का हर जिला पर्यटन का बेहतरीन उदाहरण देने के लिए जाना जाता है। उनके पास राज्य में पर्यटन के विशाल स्थान हैं। इसके अलावा उत्तराखंड का चंपावत जिला पर्यटन के क्षेत्र में नई पहचान बना रहा है। शारदा नदी में रिवर राफ्टिंग की स्थापना के बाद मछली पकड़ने को भी देशभर में पहचान मिली है।

अब जायरोकॉप्टर से शुरू होगी चम्पावत के चाय बागान की सैर

अब यहां पर्यटन को पंख देने के लिए जायरोकॉप्टर सेवा शुरू करने की तैयारी है। उत्तराखंड पर्यटन विकास बोर्ड इसका सफल ट्रायल भी कर चुका है। चंपावत क्षेत्र मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का विधानसभा क्षेत्र भी है। आने वाले समय में लोग यहां जाइरोकॉप्टर उड़ा सकेंगे. चंपावत के बाद प्रदेश के अन्य जिलों में भी जायरोकॉप्टर सेवा शुरू की जाएगी।

इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलने के साथ-साथ स्थानीय स्तर पर रोजगार बढ़ने की भी उम्मीद है। चंपावत में चाय बागानों के अलावा, इको हट्स और मायावती आश्रम पर्यटकों के बीच बेहद लोकप्रिय हैं। हर साल कई पर्यटक इन आश्रमों और प्रकृति के उपहार को देखने के लिए इस स्थान पर आते हैं। यहां शारदा नदी में रिवर राफ्टिंग भी हो रही है। अब यहां हवाई पर्यटन को बढ़ावा देने की तैयारी है। जिसके लिए जायरोकॉप्टर सेवा शुरू की जाएगी।

अब तक जाइरोकॉप्टर केवल मुंबई, गोवा आदि में समुद्री तटों पर ही उड़ान भरते रहे हैं। उत्तराखंड पहला पहाड़ी राज्य बनने जा रहा है, जहां चंपावत जिले में ये उड़ान भरेंगे। नायकगोथ का लघु क्षेत्र जायरोकॉप्टर के लिए उपयुक्त पाया गया है। जायरोकॉप्टर में एक समय में एक यात्री ही भ्रमण कर सकेगा। ईंधन से चलने वाला जाइरोकॉप्टर करीब 15 हजार फीट की ऊंचाई तक उड़ान भर सकता है। ईंधन की खपत लगभग 15-20 लीटर प्रति घंटे के बीच होती है। यह सैकड़ों किलोमीटर की दूरी तय करने की क्षमता रखता है।

ईंधन की खपत लगभग 15-20 लीटर प्रति घंटे के बीच होती है। यह सैकड़ों किलोमीटर की दूरी तय करने की क्षमता रखता है। पायलट अमित परमार ने इसका सफल परीक्षण करने के बाद कहा कि जायरोकॉप्टर एक तरह की एयर कार है. इसे इंजन से कोई शक्ति नहीं मिलती है। यह केवल हवा के दबाव के कारण घूमता है। एक पायलट के साथ एक समय में केवल एक पर्यटक ही इसमें चढ़ सकता है।

जिला पर्यटन विकास अधिकारी अरविंद गौड़ ने बताया कि ट्रायल सफल रहा है और जल्द ही दूसरा ट्रायल भी होगा। जमीन मिलने के बाद टनकपुर में जायरोकॉप्टर चलाने की तैयारी है।

Leave a comment