उत्तराखंड पुलिस ने मनचले को सिखाया सबक, मामा के यहां चमोली घूमने आए युवक का 35800 रुपये का चालान

bikram

इन दिनों उत्तराखंड पुलिस फुल फॉर्म में है। पहाड़ से लेकर मैदान तक जो लोग नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं उन्हें उनके अपराध के लिए चालान या भारी जुर्माना दिया जा रहा है. यानी यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों पर पुलिस गंभीरता से कार्रवाई कर रही है। इतना ही नहीं, लोग ऐसी गलतियां न करें, इसके लिए वे आधिकारिक वेबपेज पर घटनाओं को साझा भी कर रहे हैं। इस अभियान की जानकारी पुलिस ने सोशल मीडिया पर साझा की है ताकि अन्य वाहन चालक गलती न करें। पूरे प्रदेश में अभियान इतना अच्छा चल रहा है और चालान काटने का ग्राफ भी बढ़ रहा है। हाल ही में एक दिलचस्प मामला चमोली जिले के गोपेश्वर में देखने को मिला है, जहां पुलिस ने बाइक चालक का 38500 रुपये का चालान काटा है। इस चालान की चर्चा पूरे उत्तराखंड में हो रही है। दरअसल, ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वाला युवक नाबालिग है। खास बात यह है कि जो चालान काटा गया है वह नई खरीदी गई मोटर बाइक की कीमत से अधिक है।

मामला गोपेश्वर थाना क्षेत्र का है। यहां एक नाबालिग अपने मामा की मोटरसाइकिल लेकर सड़क पर निकल गया। चेकिंग के दौरान पुलिस ने उसे रोका और दस्तावेज मांगे क्योंकि उसके पास न तो ड्राइविंग लाइसेंस था इसलिए यहां उसे सामान्य जुर्माना भरना होगा लेकिन मामला यहीं खत्म नहीं हुआ और न ही गाड़ी के कोई कागजात थे। नाबालिग युवक सड़क पर लापरवाही से गाड़ी चला रहा था। जिस पर पुलिस ने कुल 38,500 रुपये का चालान काटा और बाइक जब्त कर ली। बाइक की कीमत करीब 1.5 लाख रुपये बताई जा रही है। चालान का विवरण इस प्रकार है।

सबसे पहले चालान काटा गया क्योंकि गाड़ी नाबालिग चला रहा था, इसके लिए तुरंत 25000 रुपये का चालान काटा गया। बाइक चला रहे नाबालिग युवक के पास लाइसेंस नहीं था, इस पर 5000 रुपये का चालान काटा गया। इसके अलावा बाइक पर जो नंबर प्लेट थी वह ठीक से नहीं लगी थी, इस वजह से 1500 रुपये का चालान काटा गया। उन्होंने बताया कि युवक सड़क पर बेहद खतरनाक तरीके से बाइक चला रहा था, इसको लेकर 6000 रुपये का चालान काटा गया। इसके साथ ही 1000 रुपये का एक और चालान काटा गया है।

Uttarakhand Heavy traffic challan

गोपेश्वर थाने के वरिष्ठ पुलिस उपनिरीक्षक दिनेश सिंह पवार ने बताया कि नाबालिग युवक सड़क पर बहुत ही अनियमित और लापरवाही से मोटरसाइकिल चला रहा था। बाइक की गति भी काफी तेज थी और चालक के पास लाइसेंस भी नहीं था। गाड़ी के न तो कागजात ठीक से लगे हुए थे और न ही गाड़ी की नंबर प्लेट। उन्होंने बताया कि युवक के मामा को बुलाया गया है और युवक को उनके हवाले कर दिया गया है। उन्हें भविष्य में इस तरह की गलती न करने की हिदायत दी गई है।

Leave a comment