अब नहीं होगा केदारनाथ में हेलीकॉप्टर से जुडी कोई समस्या, जल्दी बनने जा रहा है हेलीपोर्ट

bikram

केदारनाथ धाम के लिए बड़ी खबर आ रही है. उत्तराखंड सरकार केदारनाथ धाम में बने हेलीपैड का विस्तार करने की योजना बना रही है।अब सरकार हेलीपैड बनाने के बजाय केदारनाथ में हेलीपोर्ट बनाने की योजना बना रही है और हेलीपोर्ट बनाने का उद्देश्य केदारनाथ धाम में हेली सेवाओं को सुरक्षित बनाने के साथ-साथ यात्रियों के लिए सुविधाओं को बढ़ाना है और इसीलिए हेली सेवाएं शुरू की जाएंगी। केदारनाथ में जल्द विस्तार किया जाए।

इसके लिए उत्तराखंड नागरिक उड्डयन विकास प्राधिकरण यूसीएडीए यहां हेलीपैड के स्थान पर हेलीपोर्ट विकसित करने की दिशा में कदम उठा रहा है। केदारनाथ हेलीपैड को मिनी एयरपोर्ट के रूप में विकसित किया जाएगा, जिससे यात्रियों को सुविधा मिलेगी और हेली सेवाएं भी सुरक्षा के दायरे में आ जाएंगी। आपको बता दें कि हेलीपोर्ट बनने के बाद यहां एक बार में 3 से ज्यादा हेलीकॉप्टर उतर सकेंगे।

Heliport will be made at Kedarnath

अब एक साथ उतर सकता है केदारनाथ में 3 हेलीकॉप्टर

हर साल बड़ी संख्या में श्रद्धालु बाबा केदार के दर्शन के लिए केदारनाथ धाम आते हैं, कई बार टिकटों की अधिक बिक्री के कारण बुकिंग रोकनी पड़ती है। हेलीकॉप्टर के माध्यम से और देहरादून के अलावा, ये हेलीकॉप्टर रुद्रप्रयाग जिले के सोनप्रयाग, फाटा सिरसी, नारायणकोटी और सोनप्रयाग से संचालित होते हैं। आपको बता दें कि कुल 30% यात्री हेली सेवाओं के माध्यम से केदारनाथ धाम की यात्रा करते हैं और यह युकाडा की आय का एक प्रमुख स्रोत भी है।

अब UCADA यात्रियों की सुविधा के लिए हेलीपैड को हेलीपोर्ट में बदलने का प्रयास कर रहा है. फिलहाल हेलीपैड के पास यात्रियों के आराम करने के लिए कमरे बने हुए हैं लेकिन उनकी हालत बहुत अच्छी नहीं है और हेलीपैड में अभी एक साथ तीन हेलीकॉप्टर उतर सकते हैं लेकिन उनके बीच समय का थोड़ा अंतर होता है।

Heliport will be made at Kedarnath

अब जब केदारपुरी के अंदर सुख-सुविधाएं बढ़ रही हैं तो यूसीएडीए केदारनाथ स्थित हेलीपैड का विस्तार कर उसे हेलीपोर्ट के रूप में विकसित करने की भी तैयारी कर रहा है और इसके लिए हेलीपैड का और भी विस्तार किया जाएगा ताकि एक ही समय में 3 से अधिक हेलीकॉप्टर उतर सकें। इसके साथ ही हेलीपोर्ट के पास यात्रियों के लिए एक विश्राम क्षेत्र भी बनाया जाएगा और इन विश्राम क्षेत्रों के कमरों के अंदर हीटर लगाए जाएंगे ताकि उन्हें यहाँ ठंड से राहत मिल सके और इसके साथ ही शौचालय और कैफे भी बनाए जाएंगे। केंद्र की सहमति के बाद इसके लिए डीपीआर बनाने का काम शुरू हो गया है और इसे मंजूरी के लिए भेजा जाएगा।

Leave a comment