क्यों चर्चा में है पिथौरागढ़ का नारायण आश्रम, आखिर क्या खास है इस 90 साल पुराने आश्रम में

bikram

पिथौरागढ़ का नारायण आश्रम एक बार फिर चर्चा में आ गया है क्योंकि कहा जा रहा है कि यही वह पड़ाव है जहां भारत के प्रधानमंत्री कुछ समय बिताएंगे। यह हिमालय के कैलाश के रास्ते में भी है। उम्मीद है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 10 से 12 अक्टूबर के बीच नारायण आश्रम में समय बिताने आ सकते हैं। नारायण आश्रम अध्यात्म और प्रकृति से प्रेम करने वाले लोगों के लिए आकर्षण का सबसे बड़ा केंद्र है। ऐसे में हर कोई जानना चाहता है कि यहां कैसे बुकिंग कराई जाए और कैसे पहुंचा जाए, साथ ही यहां रुकने का कितना खर्च आएगा। यहां आपको नारायण आश्रम से जुड़ी हर जानकारी मिलेगी।

Narayan Ashram Of Pithauragarh

यहाँ रात्रि विश्राम के दौरान रुक सकते है प्रधानमंत्री मोदी

नारायण आश्रम की स्थापना वर्ष 1936 में नारायण स्वामी द्वारा पिथौरागढ़ से लगभग 136 किलोमीटर उत्तर और तवाघाट से 14 किलोमीटर दूर की गई थी। यह आध्यात्मिक सह सामाजिक शैक्षणिक केंद्र 2734 मीटर की ऊंचाई पर प्राकृतिक परिवेश के बीच स्थापित है। यह आश्रम स्थानीय बच्चों को शिक्षा भी प्रदान करता है और स्थानीय युवाओं को प्रशिक्षण भी प्रदान करता है। यहां एक पुस्तकालय, ध्यान कक्ष और समाधि स्थल भी है।वर्तमान में इसका संचालन गुजरात के ट्रस्टियों द्वारा किया जा रहा है। जिसमें कुछ स्थानीय लोग भी शामिल हैं।

आश्रम में रहने के लिए ट्रस्टी से सीधे मोबाइल के माध्यम से संपर्क करके भी बुकिंग की जा सकती है। आगंतुकों के लिए पूरी व्यवस्था है। आश्रम में रहने से लेकर भोजन तक की व्यवस्था आश्रम द्वारा की जाती है। इसकी फीस एक साथ जमा करनी होगी, जो कुल 750 रुपये है। भोजन में गुजराती व्यंजन शामिल हैं। आप यहां बाहर से खाना नहीं ला सकते। बुकिंग के लिए आप नंबर 09427490810 पर संपर्क कर सकते हैं. साथ ही इसकी बुकिंग से जुड़ी सारी जानकारी KMVN की वेबसाइट पर भी उपलब्ध होगी. आश्रम के पास केएमवीएन का एक गेस्ट हाउस भी है। अब आस-पास होम स्टे भी खुल गये हैं।

Narayan Ashram Of Pithauragarh

नारायण आश्रम कैलाश मानसरोवर यात्रा पर तीर्थयात्रियों के लिए एक महत्वपूर्ण पड़ाव है। यह आश्रम पर्यावरण और प्रकृति की सुंदरता का एक अनूठा संयोजन है। जो इसे ध्यान, योग और साधना के लिए सबसे उपयुक्त स्थान बनाता है। यह पंचाचूली पर्वत श्रृंखलाओं से घिरा हुआ है, आश्रम के हर कोने में फूलों और सेब के बगीचों की दुनिया इसे स्वर्ग जैसा महसूस कराती है।नारायण आश्रम तक पहुंचने के लिए पिथौरागढ़ से सड़क मार्ग से 116 किमी की यात्रा करनी पड़ती है। जबकि रेल के लिए काठगोदाम स्टेशन करीब 350 किलोमीटर की दूरी पर है।

कैसे पहुंचे नारायण आश्रम तक?

टनकपुर स्टेशन पिथौरागढ से 150 कि.मी. दूर है। इसके अलावा हवाई यात्रा नैनी सैनी हवाई अड्डे से 100 किमी की दूरी पर है। इस प्रकार आश्रम तक पहुंचने के लिए सबसे पहले सड़क या हवाई मार्ग से पिथौरागढ़ जिले तक पहुंचना होगा। जबकि ट्रेन की सुविधा काठगोदाम स्टेशन तक ही मिलेगी। सड़क मार्ग से धारचूला लगभग 24 किमी दूर है। जहां से आश्रम तक पहुंचने में 2 घंटे का समय लगता है।

Leave a comment