सेना में जाने का सपना नही हुआ पूरा, तो उत्तराखंड गरीब युवाओं का सपना पूरा करने के अल्मोड़ा के ललित ने खोल दी अपनी अकादमी

bikram

उत्तराखंड राज्य एक ऐसा राज्य है जहां के हर युवा के मन में देश और सेना के प्रति अतुल्य सम्मान है। इन पहाड़ों में वीरता की कहानी है. हर गांव से एक परिवार ऐसा है जिसका एक सदस्य सेना में है और देश की सेवा कर रहा है। अल्मोड़ा के हर गांव और कस्बे में आपको ऐसे कई युवा मिल जाएंगे जिनमें सेना में भर्ती होने का अतुलनीय जुनून है। हर गली, हर सड़क पर आपको युवा भर्ती के लिए दौड़ते दिख जाएंगे। यही कारण है कि उत्तराखंड राज्य ने अपने कई वीर योद्धाओं को भारतीय सेना को सौंपा है।

अपना सपना नही हुआ पूरा तो दूसरों के सपने के लिए लगा दी जान

युवाओं में सेना के प्रति यही जुनून कभी उन्हें सफलता की सुनहरी सीढ़ी चढ़ने में मदद करता है तो कभी युवा निराश होकर लौट जाते हैं, लेकिन इन सबके बावजूद देशभक्ति का जज्बा कम नहीं होता। यह भावना यहां के लोगों के खून में निहित है। कुछ ऐसी ही कहानी है अल्मोडा जिले के ललित सिंह बिष्ट की। ललित सिंह अल्मोडा के बड़कोट गांव के रहने वाले हैं. एक समय था जब ललित दिन-रात सेना में भर्ती होने के सपने देखा करते थे। इसके लिए उन्होंने कड़ी मेहनत और परिश्रम भी किया।

इसके लिए उन्होंने कड़ी मेहनत और परिश्रम भी किया। 20 से अधिक सेना भर्तियाँ देने के बावजूद किसी न किसी कारण से उनका चयन रोक दिया गया और लगातार हार के कारण उनका सेना में शामिल होने का सपना अधूरा रह गया। लेकिन कहते हैं न कि जो लड़ा नहीं, वह हार गया. असफलता के बावजूद ललित ने हिम्मत नहीं हारी।

कई असफलताओं के बाद भी उनका सपना पूरा नहीं हुआ लेकिन उन्होंने अन्य युवाओं के सपनों को पूरा करना शुरू कर दिया जो सेना में शामिल होने की इच्छा रखते थे। इसके लिए ललित ने अपनी फिजिकल एकेडमी चलानी शुरू की और सर्विस के लिए जाने वाले युवाओं को प्रशिक्षण देना शुरू किया। उत्तराखंड के दूरदराज के गांवों में जहां संसाधन बहुत सीमित हैं, ऐसी प्रशिक्षण अकादमी सेना के उम्मीदवारों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है।

यह उनकी लगन और मेहनत का ही नतीजा है कि आज उनकी एकेडमी से सेना का हिस्सा बने 30 से ज्यादा युवा भारत माता की सेवा में जी-जान से लगे हुए हैं। ललित ने कहा कि वह अपने देश की सेवा के लिए युवाओं को इसी तरह प्रशिक्षित करते रहेंगे और उन्हें सेना में शामिल होने के लिए प्रेरित करते रहेंगे।

Leave a comment