12 अक्टूबर को उत्तराखंड आएंगे प्रधानमंत्री मोदी, केदारनाथ बद्रीनाथ के बाद कुमाऊं में चलेगा विकास का पहिया

bikram

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रस्तावित दौरे को लेकर कार्यक्रम प्रभारी गणेश जोशी इस बार पीएम मोदी 12 अक्टूबर को अल्मोड़ा, पिथौरागढ़ जिले के लोगों और राज्य सरकार में कृषि एवं किसान कल्याण, सैनिक कल्याण, ग्रामीण विकास मंत्री के साथ भारतीय जनता के कुमाऊं मंडल कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत कर रहे हैं। दल। कहा जाता है कि इतिहास इस बात का गवाह है कि जहां भी महान नेता के चरण पड़े उस क्षेत्र का परिवर्तन हो गया। यह देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उत्तराखंड राज्य से विशेष लगाव का ही नतीजा है कि अब तक चारधाम यात्रा पर अभी तक 42 लाख लोग पुण्य के भागीदार बन चुके हैं ।

यह विश्व में प्रधानमंत्री की प्रसिद्धि का प्रतीक है; अनेक राष्ट्रों के प्रमुख झुककर उनका स्वागत करते हैं। जिससे दुनिया में भारत और भारतीयों का सम्मान बढ़ रहा है, कई देश भारत के सहयोगी बन रहे हैं। कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रस्तावित कार्यक्रम के तहत 12 अक्टूबर को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सबसे पहले अल्मोड़ा जिले के जागेश्वर धाम पहुंचेंगे और पूजा-अर्चना करेंगे।

इन सबके बाद प्रधानमंत्री आदि कैलाश और पार्वती सरोवर का दौरा करेंगे और पिथौरागढ़ स्पोर्ट्स स्टेडियम में एक विशाल जनसभा को संबोधित करेंगे। उस दिन प्रधानमंत्री लोहाघाट स्थित मायावती आश्रम में रात्रि विश्राम करेंगे और 13 अक्टूबर की सुबह दिल्ली लौट जायेंगे।

कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने बताया कि वह पिथौरागढ़ और जागेश्वर धाम का दौरा कर तैयारियों का जायजा लेने के बाद लौटे हैं। प्रधानमंत्री के कार्यक्रम को लेकर कार्यकर्ताओं में काफी उत्साह है। उन्हें खुशी है कि स्पोर्ट्स स्टेडियम पिथौरागढ़ में उनकी सभा में 50 हजार की क्षमता से अधिक कार्यकर्ता पहुंचे। ऐसी आशंका है जिसे लेकर प्रशासन को समय पर तैयारी पूरी करने का निर्देश दिया गया है।

कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने कहा कि प्रधानमंत्री पहले नेपाल में पशुपति नाथ के दर्शन करने गए थे, जिसके बाद नेपाल में पर्यटकों की बाढ़ आ गई, ऐसी जानकारी उन्हें नेपाल यात्रा के दौरान नेपाल सरकार के मंत्री ने दी थी।

कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने कहा कि प्रधानमंत्री के जागेश्वर धाम, आदि कैलाश और मायावती आश्रम में आगमन के बाद अल्मोडा, पिथौरागढ सहित कुमाऊं के सभी जिलों में पर्यटन गतिविधियों और पर्यटकों की संख्या में भारी वृद्धि होगी, जिसका लाभ मिलेगा। कुमाऊं के सभी छह जिलों में इसका प्रभाव प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से महसूस किया गया। स्थानीय निवासियों के लिए उपलब्ध होगा। उन्होंने कहा कि सेना के जवान, पूर्व सैनिक, स्थानीय आम जनता और भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता श्रद्धापूर्वक प्रधानमंत्री का स्वागत करने के लिए पलक पांवड़े बिछाकर तैयार हैं।

Leave a comment