अब दिलाएं अपने बच्चे का सैनिक स्कूल में आसानी से दाखिला, जानिए कैसे कराये उत्तराखंड के बच्चों का सैनिक स्कूल में दाखिला

bikram

देश के कई बच्चों का सपना होता है कि वह भारतीय सेना में शामिल हों और सिर्फ बच्चों का ही नहीं बल्कि उनके माता-पिता का भी सपना होता है कि उनके बच्चे भारतीय सेना में अधिकारी बनें लेकिन कई बार सही शिक्षा न मिलने के कारण कई लोग अपना यह सपना छोड़ देते हैं। कई बंदिशें हैं जैसे गरीबी के कारण बच्चों और माता-पिता का यह सपना पूरा नहीं हो पाता। लेकिन आज अभिभावकों का ध्यान देश में भारत सरकार द्वारा संचालित सैनिक स्कूलों की ओर आकर्षित हो रहा है।

Sainik School admission

क्या है सैनिक स्कूल में दाखिला लेने की प्रक्रिया

वहां मुख्य समस्या यह है कि बच्चों को सैनिक स्कूल में दाखिला कैसे दिलाया जाए क्योंकि सैनिक स्कूल में बच्चों को ऐसी ट्रेनिंग और शिक्षा दी जाती है कि वे सेना में अधिकारी बन सकें, वहीं दूसरी ओर सैनिक स्कूल का उद्देश्य बच्चों को सेना में भर्ती कराना है . यह बच्चों को अधिकारी बनने के लिए हर तरह का माहौल मुहैया कराता है। जिसके चलते हर माता-पिता का सपना होता है कि वह अपने बच्चों का दाखिला सैनिक स्कूल में कराएं।

वर्तमान में पूरे भारत में 24 सैनिक स्कूल चलाए जा रहे हैं जो देश के कई राज्यों में स्थापित हैं। इनमें से एक स्कूल उत्तराखंड राज्य में भी स्थापित है, जो सैनिक स्कूल घोड़ाखाल के नाम से नैनीताल जिले के घोड़ाखाल नामक स्थान पर स्थित है। इस स्कूल की गिनती देश के नंबर वन सैनिक स्कूल में होती है। अब आप अपने बच्चों का दाखिला उत्तराखंड राज्य में स्थित घोड़ाखाल सैनिक स्कूल में कराना चाहते हैं या देश के किसी अन्य स्कूल में, आपको इस पोस्ट पर पूरी जानकारी मिल जाएगी जो इस प्रकार है।

Sainik School admission

क्या है दाख़िला कारवाने अधिकतम उम्र

उपलब्ध कराने के आदेश पर बच्चों को शिक्षा प्रदान करने और उन्हें भारतीय रक्षा सेवाओं में शामिल होने के लिए तैयार करने के लिए सैनिक स्कूल की अवधारणा बनाई गई। सैनिक स्कूल भारतीय रक्षा मंत्रालय के अधीन संचालित स्कूल हैं, जिनका संचालन सैनिक स्कूल समिति द्वारा किया जाता है। इन स्कूलों में भारतीय सेना में शामिल होने के इच्छुक सभी छात्रों को सेना में अधिकारी बनने के लिए तैयार किया जाता है। देश में स्थित सभी सैन्य स्कूलों का लक्ष्य छात्रों को भारतीय सेना का हिस्सा बनाने के साथ-साथ राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) और भारतीय नौसेना अकादमी (आईएनए) में प्रवेश के लिए शैक्षणिक, मानसिक और शारीरिक रूप से तैयार करना है।

सैनिक स्कूल में किस कक्षा के लिए एडमिशन होता हैहम आपको बताना चाहते हैं कि इन स्कूलों में प्रवेश प्रक्रिया दूसरों से काफी अलग है। सैनिक स्कूलों में केवल कक्षा 6 और कक्षा 9 में प्रवेश के लिए प्रवेश दिया जाता है। यानी सैनिक स्कूल में बच्चों का एडमिशन 5वीं पास और 8वीं पास के बाद होता है.सबसे पहले अगर सैनिक स्कूल में दाखिले के लिए पात्रता की बात करें तो बच्चे को किसी भी मान्यता प्राप्त स्कूल से 5वीं और 8वीं पास होना चाहिए। साथ ही पांचवीं पास बच्चे की उम्र 10 से 12 साल होनी चाहिए. कक्षा 9 की बात करें तो बच्चे की उम्र 13 साल से 15 साल के बीच होनी चाहिए।

Sainik School admission

क्या होगा प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन शुल्क

सैनिक स्कूल में एडमिशन लेने के लिए सबसे पहले बच्चे को एक प्रवेश परीक्षा से गुजरना पड़ता है, जिसका नाम ऑल इंडिया सैनिक स्कूल एंट्रेंस एग्जाम (AISSEE) होता है. यह प्रवेश परीक्षा नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) द्वारा ली जाती है और इसमें शामिल होने के लिए हर साल अक्टूबर से दिसंबर महीने के बीच ऑनलाइन फॉर्म भरे जाते हैं, जिसके बाद जनवरी महीने में प्रवेश परीक्षा परीक्षा आयोजित की जाती है।

AISSEE परीक्षा के लिए एनटीए द्वारा अधिसूचना जारी कर दी गई है। जिसके लिए सबसे पहले एनटीए की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। वहां आपको सभी जरूरी चीजें जैसे फोन नंबर और दस्तावेज भरने होंगे। ध्यान रखें कि सभी दस्तावेज सही ढंग से भरे जाने चाहिए क्योंकि सैनिक स्कूल में प्रवेश के लिए छात्रों की रैंक, मेडिकल फिटनेस और मूल दस्तावेजों के प्रमाणीकरण के आधार पर ही प्रवेश मिलता है। इसके अलावा अगर परीक्षा शुल्क की बात करें तो यह 200 रुपये है। एसटी/एससी वर्ग के लिए 400 रुपये। सामान्य ओबीसी जनजाति के लिए 400। 500) का भुगतान करना होगा।

Sainik School admission
कैसा आता है सैनिक स्कूल की परीक्षा का पेपर

परीक्षा में प्रश्नों की बात करें तो कक्षा 6वीं में प्रवेश के लिए कुल 125 प्रश्न पूछे जाते हैं (गणित के 50 प्रश्न, इंटेलिजेंस के 25 प्रश्न, भाषा के 25 प्रश्न और सामान्य ज्ञान के 25 प्रश्न)। परीक्षा कुल 300 अंकों की होती है जिसमें परीक्षा के लिए 150 मिनट का समय दिया जाता है। इसे आप हिंदी या अंग्रेजी किसी भी माध्यम में दे सकते हैं. नौवीं कक्षा में प्रवेश की बात करें तो यह पेपर कुल 400 अंकों का होता है और इसकी अवधि 180 मिनट होती है। इसमें 50% प्रश्न इंटेलिजेंस से, 25 प्रश्न अंग्रेजी से, 25 प्रश्न सामान्य विज्ञान से और 25 प्रश्न सामाजिक विज्ञान से पूछे जाते हैं।

Leave a comment