उत्तराखंड का वो मेला जहा तलवारो पर चलते है लोग फिर भी नही होता कुछ, जानिए सोमेश्वर मेले की कहानी

bikram

हर वर्ष सोमेश्वर मेले का आयोजन खरसाली गांव में धूमधाम से किया जाता था, खरसाली जो कि उत्तरकाशी में मां यमुना का मायका है।इस दौरान यमुनाघाटी की समृद्ध संस्कृति तो दिखी ही, एक चमत्कार भी देखने को मिला जिसने हर किसी को हैरान कर दिया. यह मेला उन लोगों के लिए एक जवाब है जो देवताओं और अलौकिक शक्तियों पर सवाल उठाते हैं, वे भी इस अनोखे दृश्य को जीवन भर नहीं भूल पाएंगे। दरअसल, यहां आध्यात्मिक मेले के दौरान समेश्वर देवता के पश्वा नंगे पैर कुल्हाड़ियों पर चले और ग्रामीणों को आशीर्वाद दिया।

Someshwar Mela

इस भव्य सोमेश्वर मेले को मनाने के लिए एक साथ आते हैं 22 गांव के लोग

इस मेले में कुछ ऐसा होता है जो अविश्वसनीय होता है। यह लोगों की आस्था और श्रद्धा ही है कि तेज कुल्हाड़ियों पर चलने के बावजूद पश्वा को कोई नुकसान नहीं हुआ। पश्वा को डंगरिया यानी कुल्हाड़ी पर चलते देख हर कोई हैरान रह गया। ग्रामीणों ने देव डोलियों के साथ रासो और तांदी नृत्य किया, साथ ही परिवार और गांव की खुशहाली के लिए देवी-देवताओं से प्रार्थना की।

सोमेश्वर देवता का मेला 12 गांवों का सामूहिक मेला है। जिसका आयोजन श्रावण मास में मां यमुना के मायके खरसाली खुशीमठ गांव में किया जाता है। मंगलवार को लगे मेले में कई अद्भुत नजारे देखने को मिले। इस दौरान सोमेश्वर देवता के पश्वा ने कुल्हाड़ियों पर चलकर लोगों को आशीर्वाद दिया, लेकिन उनके पैरों को कोई नुकसान नहीं पहुंचा।

Someshwar Mela

मान्यता है कि भगवान सोमेश्वर पश्वा पर अवतरित होकर लोगों के दुख-दर्द दूर करते हैं। मेले में बनास, पिंडकी, मदेश, निशानी, दुर्बिल, कुठार, डांगुर सहित 12 गांवों के ग्रामीणों ने भाग लिया। ग्रामीणों ने भगवान की पूजा-अर्चना कर सुख, शांति व समृद्धि की कामना की, मेले में समृद्ध स्थानीय संस्कृति की झलक भी दिखी।

यह भव्य मेला जखोल गाँव में आयोजित किया जाता है, जहाँ 22 गाँवों ने भाग लिया। जखोल गांव के सोमेश्वर महादेव मंदिर परिसर में देवगोती मेले का भव्य आयोजन किया गया। इसमें क्षेत्र के 22 गांवों के ग्रामीणों ने भाग लिया। सभी ग्रामीणों ने क्षेत्र की खुशहाली के लिए सोमेश्वर महादेव से प्रार्थना की। उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में स्थित खरसाली को ‘खुशीमठ’ के नाम से भी जाना जाता है। यह समुद्र तल से 2,675 मीटर की आश्चर्यजनक ऊंचाई पर स्थित है।

Someshwar Mela

खरसाली के छोटे से गांव का धार्मिक महत्व है क्योंकि यह देवी यमुना की शीतकालीन सीट है। चूंकि सर्दियों में भारी बर्फबारी के कारण यमुनोत्री मंदिर दुर्गम हो जाता है, इसलिए भगवान को पूजा के लिए यहां लाया जाता है।

Leave a comment