एनडीए में छाया उत्तराखंड घोड़ाखाल सैनिक स्कूल का परचम, इस साल दिए 66 बच्चों को दाखिला

bikram

उत्तराखंड को देवभूमि के साथ-साथ वीरभूमि भी कहा जाता है। उत्तराखंड के इन नामों की सार्थकता को एक बार फिर साबित करते हुए हम आपको बताना चाहेंगे कि नैनीताल जिले के घोड़ाखाल में स्थित सैनिक स्कूल ने एक और नया कीर्तिमान स्थापित किया है। जी हां…यह वही घोड़ाखाल सैनिक स्कूल है जिसके नाम पहले से ही देश को सबसे ज्यादा सैन्य अफसर देने का रिकॉर्ड दर्ज है। इसलिए जब भी देश की सेनाओं और सैन्य अधिकारियों की चर्चा होती है सैनिक स्कूल घोड़ाखाल का नाम अपने आप लोगों की जुबान पर आ जाता है और चर्चा का हिस्सा बन जाता है।

Ghorakhal Sainik School

देश में 33 स्कूलो में सर्वश्रेष्ठ है घोड़ाखाल का सैनिक स्कूल

सैनिक स्कूल घोड़ाखाल के छात्रों ने एक बार फिर कमाल किया है। दरअसल, इस बार सैनिक स्कूल घोड़ाखाल के कुल 66 छात्रों ने वर्ष 2023 के लिए राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित एनडीए परीक्षा में सफलता हासिल की है. घोड़ाखाल सैनिक स्कूल के छात्रों का यह प्रदर्शन देश में चल रहे 33 सैनिक स्कूलों में सर्वश्रेष्ठ है।

आपको बता दें कि सैनिक स्कूल घोड़ाखाल अपनी स्थापना के बाद से ही बच्चों के भविष्य को संवारने के लिए अपना मार्गदर्शन प्रदान कर रहा है। वे युवाओं को सेना में करियर के लिए तैयार कर रहे हैं। अब तक इस स्कूल को देश के लिए सबसे बहादुर अधिकारी तैयार करने के लिए नौ बार रक्षा मंत्री ट्रॉफी जीतने का गौरव प्राप्त हुआ है। इस साल के नतीजों को देखकर लग रहा है कि जल्द ही इसके खाते में 10वीं ट्रॉफी भी होगी।

Ghorakhal Sainik School

आपको बता दें कि सैनिक स्कूल घोड़ाखाल के 37 छात्रों ने हाल ही में यूपीएससी द्वारा आयोजित एनडीए परीक्षा उत्तीर्ण की है, जबकि इस वर्ष के पिछले बैच के 29 कैडेटों ने भी एनडीए परीक्षा उत्तीर्ण की थी। इस तरह साल 2023 में एनडीए परीक्षा पास करने वाले कैडेट्स की संख्या 66 हो गई है।

इस अभूतपूर्व उपलब्धि पर विद्यालय के प्रधानाचार्य ग्रुप कैप्टन वी.एस. डंगवाल ने सभी योग्य कैडेटों को उनकी अद्भुत उपलब्धि पर बधाई दी। उन्होंने छात्रों को अपने अंतिम लक्ष्य को प्राप्त करने तक केंद्रित रहने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि सैनिक स्कूल का उद्देश्य देश की सेनाओं के लिए भावी कुशल नेता तैयार करना है।

Leave a comment