मुख्यमंत्री धामी का उत्तराखंड संविदा कर्मचारियों को तोहफा, अब ले सकेंगे शिशु देखभाल के लिए छुट्टी

bikram

उत्तराखंड के विभिन्न सरकारी विभागों में संविदा, तदर्थ और आउटसोर्स माध्यम से काम कर रहे कर्मचारियों के लिए एक अच्छी खबर आ रही है। उत्तराखंड सरकार ने आउटसोर्स माध्यम से सरकारी विभागों में संविदा, तदर्थ और निश्चित वेतन पर तैनात महिला और एकल पुरुष (अविवाहित, विधुर या तलाकशुदा) कर्मचारियों को शिशु देखभाल और शिशु गोद लेने की छुट्टी का तोहफा दिया है।

Uttarakhand

जानिये कितने दिन की छुट्टी ले सकते हैं कर्मचारी

बताया गया है कि इन कर्मचारियों को जहां 15 दिन की चाइल्ड केयर लीव मिलेगी, वहीं ये कर्मचारी 120 दिन की सीमा के भीतर बच्चा गोद लेने की छुट्टी भी ले सकते हैं. इतना ही नहीं, ऐसे सभी एकल पुरुष कर्मचारियों को 15 दिन का पितृत्व अवकाश भी दिया जाएगा। जिनके दो से कम जीवित बच्चे हैं। कुल मिलाकर अब तक केवल सरकारी कर्मचारियों के लिए घोषित इन सभी छुट्टियों का लाभ अब सरकारी विभागों में अनुबंध और आउटसोर्स माध्यम से काम करने वाले कर्मचारी भी उठा सकेंगे।

सबसे खास बात ये है कि अस्थायी कर्मचारियों को इन छुट्टियों की अवधि का पूरा वेतन भी मिलेगा. आपको बता दें कि हाल ही में कैबिनेट की मंजूरी मिलने के बाद सोमवार को राज्य सचिव वित्त दिलीप जावलकर ने इस संबंध में आदेश जारी किए. बताया जा रहा है कि सरकार के इस फैसले से 50 हजार अस्थायी कर्मचारियों को फायदा होगा. अगर पितृत्व अवकाश की बात करें तो यह अवकाश ऐसे पुरुष कर्मचारियों को दिया जाएगा जब उसके दो से कम जीवित बच्चे हों और उसकी पत्नी गर्भवती हो।

Uttarakhand

यह छुट्टी पत्नी के प्रसव की अपेक्षित तिथि से 15 दिन पहले या बच्चे के जन्म के 15 दिन बाद छह महीने तक ली जा सकती है। सबसे खास बात यह है कि कर्मचारियों की यह छुट्टी किसी भी हालत में उच्च अधिकारी द्वारा अस्वीकृत नहीं की जा सकेगी।

Leave a comment