क्या है उत्तराखंड में चैती देवी मंदिर की मान्यता, मंदिर के मेले से घोड़े खड़े थे सुल्ताना डाकू

bikram

चार धाम उत्तराखंड का एक बहुत प्रसिद्ध स्थल है। हर व्यक्ति का सपना होता है कि वह जीवन में एक बार इन मंदिरों के दर्शन जरूर करे। इन जगहों पर जाकर आप न सिर्फ आध्यात्मिक रूप से जागृत होंगे, बल्कि आपको अपने अतीत और इतिहास के बारे में भी ज्ञान मिलेगा। आप यह भी जानेंगे कि ये स्थान कितने ऐतिहासिक और महत्वपूर्ण हैं। इस राज्य में विभिन्न प्रसिद्ध मंदिर, मूर्तियां, वास्तुकला और स्मारक हैं। हिमालय में बसे तीर्थ अत्यंत मनमोहक हैं। उत्तराखंड में कई प्रसिद्ध मंदिर हैं। उन्हीं मंदिरों में से एक है चैती देवी मंदिर।

Chaiti Devi Temple

काशीपुर में चैती देवी मंदिर जिसे माता बाल सुंदरी देवी मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। यह माता सती के 51 शक्तिपीठों में से एक है। चैती देवी का यह मंदिर उत्तराखंड के काशीपुर क्षेत्र में स्थित है। हर साल चैत महीने में इस मंदिर में बड़ी संख्या में लोग आते हैं। यह चैती देवी मंदिर अपने समृद्ध इतिहास और पौराणिक कथाओं के कारण दुनिया भर से हजारों भक्तों को आकर्षित करता है।इस मंदिर को ज्वाला देवी मंदिर या उज्जयिनी देवी के नाम से भी जाना जाता है। यह काशीपुर के सबसे लोकप्रिय मंदिरों में से एक है।

यह स्थान अतीत में भी काफी ऐतिहासिक महत्व रखता है। इसका नाम महाभारत में है जिसकी पुष्टि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने भी की है। विशेषज्ञों का कहना है कि उत्तर भारत में यह स्थान ताम्रपाषाण युग के दौरान अस्तित्व में आया था।यह भी माना जाता है कि गौतम बुद्ध, तुलसीदास, गुरु नानक देव, गुरु गोरखनाथ और दयानंद सरस्वती जैसे देश के दिग्गजों ने भी अपने जीवन का कुछ हिस्सा इस स्थान पर बिताया था। वैदिक काल में उज्जैन काशीपुर का नाम था और उस समय ढेहला नदी को स्वर्णभट्ट कहा जाता था। राजा हर्ष के शासन के समय इस स्थान का नाम गोविषाण, कभी-कभी गोविसाना पड़ा और इसका उल्लेख प्रसिद्ध चीनी यात्री ह्वेन त्सांग ने भी किया, जो 7वीं शताब्दी के दौरान भारत आए थे।

शहर का आधुनिक स्वरूप काशीनाथ अधिकारी द्वारा विकसित किया गया था और उनके सम्मान में इस स्थान को काशीपुर कहा गया। चैती देवी मंदिर काशीपुर का एक अत्यंत महत्वपूर्ण ऐतिहासिक मंदिर है।इस मंदिर में त्यौहार बहुत बड़े पैमाने पर मनाए जाते हैं। यह मंदिर एक भव्य चैती मेले का आयोजन करता है, जिसे स्थानीय लोगों द्वारा अत्यंत खुशी के साथ मनाया जाता है। यहां तक ​​कि नवरात्रि के अवसर पर भी मंदिर उत्सव के माहौल में रहता है।

चैती देवी मंदिर में दर्शन-पूजन पूरे वर्ष किया जा सकता है। यह स्थान सदैव सुखद एवं मनमोहक रहता है। लेकिन मंदिर जाने का सबसे अच्छा समय जनवरी, फरवरी, मार्च, सितंबर, अक्टूबर, नवंबर और दिसंबर के दौरान है। इस समय इस दौरान मौसम बेहद सुहावना और खूबसूरत रहता है। इस दौरान भारी बारिश, भूस्खलन या किसी प्राकृतिक आपदा की संभावना बहुत कम है।आप यहां बड़े पैमाने पर मनाए जाने वाले त्योहारों के दौरान भी मंदिर के दर्शन कर सकते हैं। इस समय इस मंदिर की सुंदरता अपने चरम पर है।

कैसे पहुंचें काशीपुर के चैती मंदिर तक

हवाई मार्ग से: चैती देवी मंदिर तक पहुंचने के लिए निकटतम हवाई अड्डा पंत नगर हवाई अड्डा है जो मंदिर स्थान से 72 किमी दूर है। आप अपने स्थान तक पहुँचने के लिए टैक्सी या कैब ले सकते हैं।

ट्रेन द्वारा: चैती देवी मंदिर तक पहुंचने के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन रामनगर, काठगोदाम, मोरादाबाद, बरेली, दिल्ली और लखनऊ से है। आप अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए टैक्सी या कैब ले सकते हैं। यहां तक ​​कि साझा टैक्सियां ​​भी एक उपलब्ध विकल्प है।

Chaiti Devi Temple

सड़क मार्ग द्वारा: यह स्थान राष्ट्रीय राजमार्ग 74 के बहुत करीब है। पर्यटकों और तीर्थयात्रियों के लिए इस स्थान तक पहुंचना बहुत आसान है। यह काशीपुर और बाजपुर के बीच स्थित है जो काशीपुर बस स्टैंड से केवल 2.5 किमी दूर है।

Leave a comment