उत्तराखंड का भविष्य बद्री जहां अपने आप बन रही है बद्रीनाथ की मूर्ति

bikram

पंच बद्री मंदिरों का एक हिस्सा होने के नाते, भविष्य बद्री समुद्र तल से 2744 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह हिंदुओं के लिए सबसे पवित्र स्थानों में से एक है, जोशीमठ से केवल 17 किमी दूर है और, लोक कथा के अनुसार, बद्रीनाथ, भगवान विष्णु का भविष्य का निवास स्थान है।भविष्य बद्री का महत्वदेश में हिंदू संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए आदि शंकराचार्य द्वारा पंच बद्री, बद्रीनाथ, योगध्यान बद्री, आदि बद्री, वृद्ध बद्री और भविष्य बद्री को एक साथ रखा गया है।

Bhavishya Badri

उत्तराखंड के सप्तबद्री में है चौथा स्थान

साल भर में हजारों भक्त इस स्थान पर आते हैं और स्थानीय लोग भी इस स्थान पर प्रतिदिन आते हैं क्योंकि वे भी यहां के देवता हैं और यहां पूजा करते हैं। जंगल के बीच खूबसूरत मंदिर आपके अंदर आध्यात्मिक जागृति प्रदान करते हैं। यह एक आध्यात्मिक स्थान है जो आपको अपनी सुंदरता से अभिभूत कर देगा और इसका इतिहास आपके होश उड़ा देगा।इस राज्य में कई प्रसिद्ध मंदिर हैं जिनका अद्भुत इतिहास और पौराणिक कथाएं हैं। भविष्य बद्री मंदिर उत्तराखंड के सबसे महत्वपूर्ण और प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। आइए अब अगले भाग में इस मंदिर के बारे में अधिक जानकारी देखें।

यह सप्त बद्री मंदिर में चौथा मंदिर परिसर है। यह उत्तराखंड के चार धाम यात्रा पैकेज का एक हिस्सा है। भविष्य बद्री मंदिर नरसिम्हा (शेर के चेहरे वाले) को समर्पित है जो भगवान शिव के 10 अवतारों में से एक हैं। यह मंदिर अलकनंदा नदी घाटी में शतपंथ से नंदप्रयाग तक फैला हुआ है। प्राचीन काल में जो रास्ता आपको मंदिर तक ले जाता है वह बद्री वन से होकर जाता है। इसलिए, भगवान विष्णु के सात पवित्र तीर्थों में बद्री का प्रत्यय जोड़ा जाता है।

Bhavishya Badri

कलियुग के अंत में यहीं होंगे बद्रीनाथ के दर्शन

किंवदंती कहती है कि एक भविष्यवाणी है जब श्री आदि शंकराचार्य ने तप कुंड से बद्री विशाल को निकाला था। उस भविष्यवाणी के अनुसार, इस कलियुग के अंत में, जब नारा और नरसिम्हा पर्वत बद्रीनाथ का मार्ग रोक देंगे और यात्रा दुर्गम हो जाएगी।इस कारण बद्री भविष्य में भी बद्री में विद्यमान रहेंगे। उस समय से यह स्थान भक्तों के लिए पूजा स्थल बन जाएगा। नाम का अनुवाद भविष्य बद्री में किया जाएगा क्योंकि यह भगवान बद्री का भविष्य का निवास स्थान होगा।

आप पूरे साल भविष्य बद्री मंदिर की यात्रा कर सकते हैं क्योंकि मौसम सुहावना होता है और आप दृश्यों का आनंद ले सकते हैं। इस मंदिर में जाने का सबसे अच्छा समय मई से जून और सितंबर से अक्टूबर के महीनों के दौरान है। त्यौहार के समय यह स्थान बहुत स्वागतयोग्य होता है। त्यौहार बड़े पैमाने पर मनाए जाते हैं और इस दौरान आप अपनी यात्रा का आनंद लेंगे।साथ ही, साल के इस समय में भूस्खलन और अन्य प्राकृतिक आपदाएँ होने की संभावना भी बहुत कम होती है। इन महीनों के दौरान तापमान भी सुखद रहता है।

Bhavishya Badri

किवदंतियों की मानें तो इस कलियुग के अंत में बद्रीनाथ धाम के पास नर और नारायण पर्वत मंदिर के मार्ग में बाधा डालेंगे। तब भगवान विष्णु भविष्य बद्री मंदिर में प्रकट होंगे।वर्तमान में, आपको मंदिर के बगल में एक चट्टान के साथ भगवान विष्णु का नरसिम्हा अवतार मिलेगा, जिसमें भगवान की आकृति बनी हुई है। भविष्य बद्री का परिवेश आपकी आंखों को आनंदित कर देता है, हजारों देवदार के पेड़ एक खूबसूरत पानी के झरने के साथ इस धन्य स्थान को घेरते हैं।

दूसरी ओर, धौलीगंगा नदी के किनारे भविष्य बद्री तक पहुंचने का रास्ता अविश्वसनीय रूप से सुंदर है।घूमने का सबसे अच्छा समयभविष्य बद्री की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय मार्च से मई और फिर सितंबर से नवंबर है। मंदिर आमतौर पर सुबह 7 बजे खुलता है और शाम 6 बजे बंद हो जाता है।

कैसे पहुँच भविष्य बद्री मंदिर

आपको अपनी यात्रा हरिद्वार से शुरू करनी चाहिए और ऋषिकेश, देवप्रयाग, रुद्रप्रयाग, कर्णप्रयाग, जोशीमठ और सलधार से गुजरना चाहिए। आप हरिद्वार के साथ-साथ ऋषिकेश से अपनी यात्रा शुरू करके और जोशीमठ से सुभाई गांव तक पहुंच कर आसानी से ट्रेन और सड़क मार्ग का उपयोग करके भविष्य बद्री मंदिर तक पहुंच सकते हैं। फिर आपको लगभग तीन किलो मीटर तक ट्रेक करना होगा।

Leave a comment