चंद पलो में धराशायी हुई मसूरी की ऐतिहासिक ईमारत, 130 साल पुराना ‘द रिंक” होटल जलकर हुआ राख

bikram

भारत के मशहूर हिल स्टेशन मसूरी से एक बेहद दुखद खबर आ रही है। देहरादून के इस हिल स्टेशन में मसूरी कैमल बैक रोड पर स्थित एक होटल में आग लग गई। संपत्ति का नुकसान इतना है कि कभी भरा नहीं किया जा सकता। इसमें दो गाड़ियां आग में जलकर राख हो गईं। देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया, जिससे आसपास की इमारतों को खतरा पैदा हो गया। आग देखते ही लोगों में भगदड़ मच गई। होटल में आग लगने की घटना की सूचना अग्निशमन विभाग को दी गई। जब दमकल की टीम मौके पर पहुंची और आग पर काबू पाने की कोशिश कर रही है। मौके पर फायर सर्विस की तीन गाड़ियां आग बुझाने के काम में जुटी हुई हैं।

होटल में चल रहा था रेनोवेशन का काम

मसूरी थाने के SHO शंकर सिंह बिष्ट ने बताया कि ‘कैमल बैक रोड पर स्थित इस होटल में पुनर्निर्माण का काम चल रहा था, जिसके चलते होटल खाली है और कोई जनहानि नहीं हुई है।’

हम बात कर रहे हैं “द रिंक” होटल की। एक लकड़ी की स्केटिंग रिंग जो दुनिया की सबसे पुरानी है। कल मसूरी स्थित ‘द रिंक’ होटल में भीषण आग लग गई। साल 1890 में बने इस होटल में इन दिनों पुनर्निर्माण का काम चल रहा है। इसके ज्यादातर हिस्से लकड़ी से बने हैं और होटल के इंटीरियर में लगभग 90 प्रतिशत लकड़ी का इस्तेमाल किया गया है।

सुबह लोगों ने आग की लपटें देख फायर ब्रिगेड को सूचना दी। उस वक्त होटल मालिक और कुछ मजदूर अंदर थे. कर्मचारी तो किसी तरह बाहर निकल आए, लेकिन फायर ब्रिगेड की टीम ने खिड़की तोड़कर मालिक को सुरक्षित बाहर निकाल लिया। मालिक दिल्ली का एक कारोबारी बताया जा रहा है। फायर ब्रिगेड आग बुझाने में जुटी रही।

ब्रिटिश काल के दौरान इस होटल में एशिया का सबसे बड़ा लकड़ी का स्केटिंग रिंक हुआ करता था।होटल में आग लगने की घटना सुबह चार बजे हुई. जिस वक्त होटल में आग लगी उस वक्त होटल का मालिक अंदर सो रहा था और कुछ मजदूर भी अंदर मौजूद थे. आग लगने पर कर्मचारी जान बचाकर भागे। होटल मालिक की टीम मौके पर पहुंची और खिड़की तोड़कर बाहर निकले। मालिक और कर्मचारी सुरक्षित हैं।

अभी तक नहीं लग पाया आग लगने का कारण

आग लगने का कारण अभी तक पता नहीं चल पाया है. इमारत का ज्यादातर काम लकड़ी का था, जिसके चलते आग ने अचानक विकराल रूप धारण कर लिया। जब तक फायर ब्रिगेड पहुंची तब तक पूरा होटल आग की चपेट में आ चुका था। फायर ब्रिगेड, पुलिस और आईटीबीपी की टीमें भी तुरंत मौके पर पहुंच गईं। आईटीबीपी के कई पानी के टैंकर भी पहुंचे. बिल्डिंग के अंदर अभी भी आग लगी हुई है, जिसे बुझाने की कोशिश की जा रही है. बाहर की आग बुझ गई है।

इस होटल ने कई बड़े मैच देखे हैं और कई बड़े उत्सवों का गवाह है। यहां की सबसे बड़ी कुश्ती पहलवान दारा सिंह और किंग कांग के बीच होटल द रिंक में होती है। पिछली सदी के साठ के दशक से लेकर सदी के अंत तक यहां ऑल इंडिया रोलर स्केटिंग चैंपियनशिप का भी आयोजन किया जाता था। 1982 तक नगर पालिका के शरदोत्सव के रात्रिकालीन कार्यक्रम भी यहीं होते रहे।

Leave a comment