उत्तराखंड में हर 12 साल में खिलता है यह पौधा, इस साल कंडाली या जोंटीला फूल फूल को देखने के लिए नैनीताल में उमड़ पड़ी भीड़

bikram

इसमें कोई संदेह नहीं है कि प्रकृति ने उत्तराखंड को अपने अनमोल आशीर्वाद से नवाजा है। इन दिनों नैनीताल की खूबसूरत वादियों में कुदरत के कई अद्भुत तोहफे देखने को मिल रहे हैं। हर साल कई पक्षी प्रेमी और प्रकृति प्रेमी प्रकृति की सुंदरता को देखने और दर्शनीय स्थलों की यात्रा के लिए आते हैं। वहां आकर्षण का केंद्र है जिसे देखने के लिए 12 साल तक इंतजार करना पड़ता है।

हम बात कर रहे हैं कंडाली या जोंटीला फूल की जो यहां इस स्थान पर खिलता था, इस फूल का वानस्पतिक नाम अर्टिका डायोसिया है। यह खूबसूरत फूल नैनीताल में चारखेत, हनुमानगढ़ी के पास कैमल बैक पहाड़ी के नीचे और बल्दियाखान से पहले कई जगहों पर अपनी खूबसूरती बिखेर रहा है।

गढ़वाल में साग के लिए भी प्रसिद्ध है कंडाली

इस पौधे के बारे में सबसे पहले डॉ. एस. बिस्वास ने 1973 में मसूरी, देहरादून में बताया था, जबकि डॉ. एसएस सामंत ने वर्ष 2000 में पिथौरागढ़ जिले के उच्च हिमालयी क्षेत्र चौंदास घाटी में इसकी जानकारी दी थी। यह पांच हजार की ऊंचाई वाले स्थानों पर उगता है। समुद्र तल से साढ़े सात हजार फीट ऊपर। कश्मीर से लेकर नेपाल और भूटान तक इसकी मौजूदगी देखी गई है।

पर्यावरणविद् पद्मश्री अनूप साह के मुताबिक, उन्होंने पहली बार इस जोंटीला फूल को 1975 में देखा था। फिर 1987, 1999 और 2011 में भी इसकी जानकारी मिली थी। इसी साल 12 सितंबर को उन्होंने फूल का पांचवां चक्र देखा. कहा जा रहा है कि इस पौधे का शहद अत्यधिक पौष्टिक होता था। कंडाली उत्सव पिथौरागढ की चौंदास घाटी में आदिवासी समुदाय द्वारा भी मनाया जाता है, इस वर्ष यह आयोजन 25-26 और 27 अक्टूबर को होना है।

कंडाली का पौधा कई बीमारियों के इलाज में फायदेमंद है। जोंटीला एक विशिष्ट बारहमासी जड़ी बूटी है जो हिमालय के मध्य ऊंचाई वाले क्षेत्रों के दक्षिणी ढलानों में पाई जाती है, जो 12 वर्षों में अपना जीवन चक्र पूरा करती है। इसकी जड़ का उपयोग दस्त के इलाज में किया जाता है और डंडी का स्थानीय समुदाय इसका उपयोग रस्सियाँ और जाल बनाने में करता रहा है।

Leave a comment