तो इस मंदिर के नाम पर पड़ा चमोली का नाम, चमोलानाथ मंदिर के दर्शन करने दूर-दूर से आते हैं लोग

bikram

उत्तराखंड न केवल छोटा चार धाम यात्रा, पंच बद्री, पंच प्रयाग, पंच केदार, सिद्ध पीठ और शक्ति पीठ के लिए जाना जाता है। कैमोलानाथ मंदिर जैसे कई अन्य खूबसूरत मंदिर भी हैं। इन मंदिरों में साल भर दुनिया भर से कई श्रद्धालु आते और दर्शन करते हैं। यह स्थान आपको ईश्वर से संपर्क करने की दिव्य शक्ति देगा और साथ ही यह स्थान बहुत ही स्वर्गीय और मनमोहक लगता है।उत्तराखंड हजारों मंदिरों का स्थान है; यह प्राचीन काल से ही एक धार्मिक और आध्यात्मिक चुंबक रहा है।

Chamola nath Mandir

क्या है कैमोलानाथ मंदिर का रहस्य?

चमोलानाथ मंदिर उत्तराखंड के सबसे खूबसूरत मंदिरों में से एक है। यह चमोली के खंड विकास कार्यालय के पास स्थित है। यह मंदिर एक पहाड़ी मंदिर है और इसका वातावरण मनमोहक है और मौसम भी बहुत अनुकूल है। इस मंदिर का अत्यधिक धार्मिक महत्व है और साल भर कई श्रद्धालु यहां आते हैं, और यह उन लोगों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है जो चमोलानाथ की कथा में विश्वास करते हैं।

स्थानीय लोगों के अनुसार ऐसा माना जाता है कि चमोली जिले का नाम देवता चमोलानाथ के नाम पर रखा गया है, जिनकी मूर्तियाँ सदियों पहले इस स्थान पर जमीन के नीचे से निकली हुई मानी जाती हैं। इस मंदिर का आकार षटकोणीय है जो अंदर स्थापित प्राचीन मूर्ति से विपरीत दिखता है। किंवदंतियों के अनुसार, चमोली जिले का नाम चमोलानाथ भगवान के नाम पर पड़ा। देवता की मूर्तियाँ कुछ सदियों पहले ज़मीन से मिली थीं। दुनिया भर से कई भक्त मोक्ष, स्वास्थ्य, धन, वाहन खरीदने और ज्ञान प्राप्त करने के लिए चमोलानाथ के मंदिर में आते हैं।इस मंदिर के आसपास के तीर्थयात्रियों की एक अलग संस्कृति और जीवनशैली भी है जो बहुत ही सराहनीय है।

Chamola nath Mandir

क्या है मंदिर की मान्यता?

चमोलानाथ मंदिर एक खूबसूरत मंदिर है जो चमोली जिले में स्थित है। यह बहुत ही मनमोहक स्थान पर स्थित है। आप इस मंदिर में पूरे साल आ सकते हैं लेकिन चमोलानाथ जाने का सबसे अच्छा समय फरवरी, मार्च, सितंबर, अक्टूबर और नवंबर के महीने हैं। साल के इस समय में यहां का मौसम बहुत सुहावना होता है।गर्मियों के महीनों में, तापमान बहुत मध्यम होता है और मंदिर के आसपास का दृश्य बहुत मनमोहक होता है। मानसून के बाद के समय में तापमान बहुत अच्छा होता है और हर जगह हरियाली होती है, घास की गंध, पहाड़ियों पर बादलों का दृश्य बहुत सुंदर होता है। सर्दियों के समय में अक्टूबर और नवंबर के महीनों में मौसम अच्छा रहता है। चमोलानाथ मंदिर सड़कों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है और यहां अन्य परिवहन प्रणालियां भी हैं जो अनुकूल हैं।

चमोलानाथ मंदिर तक कैसे पहुंचे?

सड़क मार्ग से: चमोलानाथ मंदिर ब्लॉक विकास कार्यालय के ठीक पास स्थित है और राजमार्ग 58 से भी अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। आप उत्तराखंड पहुंचने के लिए बसें और टैक्सी सेवाएं भी ले सकते हैं जो चमोली-गोपेश्वर तक चलेंगी। आप बस स्टैंड से टैक्सी या कैब भी ले सकते हैं।

रेल मार्ग द्वारा: चमोलानाथ मंदिर तक पहुंचने के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन देहरादून में है जो मंदिर से 253 किमी दूर है। आप अपने स्थान तक पहुँचने के लिए बसें ले सकते हैं। चमोली शहर तक पहुंचने के लिए आप टैक्सी या कैब भी ले सकते हैं।

Chamola nath Mandir
  • दिल्ली से चमोलानाथ मंदिर की दूरी: 550 KM
  • देहरादून चमोलानाथ मंदिर की दूरी: 350 KM
  • हरिद्वार की चमोलानाथ मंदिर की दूरी: 320KM
  • ऋषिकेश चमोलानाथ मंदिर की दूरी: 300 km
  • चंडीगढ से चमोलानाथ मंदिर की दूरी: 500 K.M.

हवाई मार्ग द्वारा: चमोलानाथ मंदिर तक पहुंचने के लिए निकटतम हवाई अड्डा जॉली ग्रांट है जो मंदिर से 227 किमी की दूरी पर स्थित है। आप अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए टैक्सी या कैब ले सकते हैं। शेयर्ड टैक्सियाँ भी आपके लिए एक बढ़िया विकल्प हैं।

Leave a comment