उत्तराखंड के टिहरी के बूढ़ा केदार में है उत्तर भारत का सबसे बड़ा शिवलिंग, यहां आकर होती है एक खास अनुभूति

bikram

उत्तराखंड, पूरे भारत में सबसे शांतिपूर्ण राज्यों में से एक है। यह स्थान कई आध्यात्मिक देवताओं, संतों और धार्मिक लोगों का घर है। यहां प्राचीन काल के कई प्रसिद्ध मंदिर, मूर्तियां, स्मारक और वास्तुकला मौजूद हैं। दुनिया भर से कई श्रद्धालु साल भर इस स्थान पर आते हैं और दर्शन करते हैं। आज हम बात कर रहे हैं उत्तराखंड के एक ऐसे स्थान के बारे में जिसे बूढ़ा केदार मंदिर के नाम से जाना जाता है। यह स्थान चार धाम यात्रा के लिए भी प्रसिद्ध है जिसे एक जादुई यात्रा माना जाता है। यह भी माना जाता है कि हर व्यक्ति को अपने जीवनकाल में एक बार इस स्थान पर अवश्य जाना चाहिए। उत्तराखंड में कई पवित्र मंदिर हैं जो प्राचीन काल से हैं और सर्वशक्तिमान का प्रतीक हैं। इस राज्य में कई खूबसूरत मंदिर हैं। उत्तराखंड प्राचीन काल से ही धार्मिक और आध्यात्मिक आकर्षण का केंद्र रहा है।

Budha Kedar

भगवान शिव को समर्पित है यह मंदिर

बूढ़ा केदार उत्तराखंड का एक सुंदर और पवित्र स्थान है जो भगवान शिव को समर्पित है। यह स्थान उत्तराखंड राज्य के गढ़वाल में टिहरी जिले में स्थित है।यह स्थान नई टेहरी सड़क से लगभग 60 किमी दूर स्थित है और अपने बूढ़ा केदार मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। यह स्थान आगंतुकों को पहाड़ी लोगों के जीवन को देखने और देखने का अवसर देता है क्योंकि यह स्थान पहाड़ी गढ़वाल हिमालय के बीच कई झोपड़ियों और खेती के सीढ़ीदार खेतों से युक्त है।बूढ़ा केदार पक्षी प्रेमियों के बीच भी प्रसिद्ध है क्योंकि यह दुनिया की कई प्रजातियों का घर माना जाता है।

आप बड़ी संख्या में रंग-बिरंगे पहाड़ी पक्षियों को उनके प्राकृतिक वातावरण में देख सकते हैं। इस जगह पर ट्रैकिंग भी बेहद साहसिक और खूबसूरत है। बूढ़ा केदार का मंदिर नई टिहरी से 59 बाल गंगा और धर्म गंगा नदी के संगम पर स्थित है। ऐसा माना जाता है कि दुर्योधन ने यहां तर्पण किया था। बूढ़ा केदार मंदिर का इतिहास और पौराणिक कथापौराणिक कथा के अनुसार, महाभारत काल के दौरान, कुरुक्षेत्र के युद्ध के बाद, जब पांडव भगवान शिव की तलाश में निकले।

Budha Kedar

महाभारत काल से है इस पहाड़ की मान्यता

रास्ते में भृगु पर्वत पर उनका सामना ऋषि बाल्खिली से हुआ। फिर ऋषि ने उन्हें एक बूढ़े व्यक्ति से मिलने के लिए भेजा जो संगम स्थल पर ध्यान कर रहा था। जब वे संगम पर पहुंचे तो बूढ़ा व्यक्ति गायब हो गया और उसके स्थान पर एक विशाल शिव लिंग प्रकट हुआ। ऋषि बाल्खिली ने पांडवों से कहा था कि यदि वे अपने पापों से मुक्ति पाना चाहते हैं तो वे शिव लिंग का आलिंगन करें। उन्होंने शिव लिंग पर अपनी छाप छोड़ कर ऐसा किया। इस शिव लिंग को उत्तर भारत के सबसे बड़े शिव लिंगों में से एक माना जाता है।

बूढ़ा केदार मंदिर राज्य के सबसे खूबसूरत मंदिरों में से एक है। आप इस मंदिर के दर्शन पूरे साल भर कर सकते हैं। इस मंदिर में पूरे वर्ष सुखद वातावरण रहता है। लेकिन इस मंदिर में जाने का सबसे अच्छा समय मानसून के मौसम को छोड़कर पूरे साल है। मानसून के मौसम में भारी वर्षा और भूस्खलन की संभावना अधिक होती है। आप त्योहारों के दौरान भी इस मंदिर के दर्शन कर सकते हैं।

Budha Kedar

कैसे पहुंचे बूढ़ा केदार मंदिर तक ?

सड़क मार्ग द्वारा: बूढ़ा केदार नई टिहरी जिला मुख्यालय से लगभग 85 किमी दूर है। नई टिहरी से बूढ़ा केदार के लिए सीधी बस सेवा है। घनसाली से छोटे वाहनों में यात्रा करके भी आप अपने गंतव्य तक पहुंच सकते हैं। आप धौंतरी और उत्तरकाशी के रास्ते भी अपने गंतव्य तक पहुंच सकते हैं।

ट्रेन द्वारा: बूढ़ा केदार मंदिर तक पहुँचने के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन भी ऋषिकेश में है। आप अपने गंतव्य तक पहुँचने के लिए टैक्सी या कैब ले सकते हैं। साझा टैक्सियाँ या स्थानीय परिवहन बसें भी एक उपलब्ध विकल्प हो सकती हैं।

  • दिल्ली से बूढ़ा केदार मंदिर की दूरी: 383 KM
  • देहरादून से बूढ़ा केदार मंदिर की दूरी: 186 KM
  • हरिद्वार से बूढ़ा केदार मंदिर की दूरी: 180 KM
  • काठगोदाम से बूढ़ा केदार मंदिर की दूरी: 400 KM
  • हल्द्वानी से बूढ़ा केदार मंदिर की दूरी: 420 KM

हवाई मार्ग द्वारा: बूढ़ा केदार मंदिर तक पहुंचने के लिए निकटतम हवाई अड्डा जोली ग्रांट है। मंदिर तक अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए आप स्थानीय परिवहन या टैक्सी या कैब ले सकते हैं।

Leave a comment