इस नदी संगम पर बनेगा उत्तराखंड का कृष्ण धाम,जन्माष्टमी पर सी.एम. धामी ने किया हरिपुर पवित्र तीर्थ का शिलान्यास

bikram

उत्तराखंड में ऐसे कई मंदिर हैं जिनका कई सरकारों ने जीर्णोद्धार कराकर अपने राजनीतिक एजेंडे के रूप में इस्तेमाल किया, लेकिन उत्तराखंड में ऐसा नहीं है, यहां हर धर्म के लोग आते हैं और भगवान के सामने नतमस्तक होते हैं। अब, हम कह सकते हैं कि यह इस जगह और इसके पर्यावरण का जादू है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने हरिपुर पवित्र तीर्थ काम किया है जो उत्तराखंड समेत पूरे देश के सनातनियों के लिए एक बड़ी सौगात है।

इसके बाद उत्तराखंड के हरिपुर कालसी क्षेत्र में यमुना घाट के निर्माण की आधारशिला रखकर कहा जा रहा है कि “धर्म रक्षक धामी” ने सभी सनातनियों की वर्षों पुरानी इच्छा को पूरा करने की दिशा में एक बड़ा कदम उठाया है। राज्य में धामी सरकार पहले ही धर्मांतरण रोकने के लिए सख्त कानून लागू कर चुकी है, वहीं चारों धामों समेत कुमाऊं में मानसखंड कॉरिडोर विकसित करने पर सीएम धामी का खास फोकस है।

कालसी में हुआ हरिपुर पवित्र तीर्थ का शिलान्यास

इसी क्रम में धामी सरकार की ओर से एक और अहम कदम उठाया गया. मुख्य कारण यह है कि, मुख्यमंत्री धार्मिक और पौराणिक जीवनशैली और संस्कृति को वापस पुनर्जीवित करना चाहते हैं और ऐसे हिंदू महातीर्थ का स्वरूप कहीं खो गया है। वह महातीर्थ दो नहीं, तीन नहीं बल्कि चार नदियों का महान संगम है, ऐसे ही एक शिलालेख पर अशोक का शिलालेख स्थित है, जहां वेद व्यास जी ने तपस्या की थी और जहां अश्वमेध यज्ञ के प्रमाण आज भी मौजूद हैं। ऐसे ऐतिहासिक एवं धार्मिक महत्व का स्थान ‘कालसी’ के नाम से जाना जाता है।

जनजातीय क्षेत्र जौनसार बावर का प्रवेश द्वार भी कहा जाने वाला यह गांव अब तक हाशिये पर था। हरिपुर में यमुना के तट पर रामायण काल ​​के इतिहास से संबंधित चार महत्वपूर्ण नदियों का संगम है, जिनमें यमुना, टोंस, नौरा और अमलावा शामिल हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कालसी (हरिपुर) में यमुना घाट के निर्माण का शिलान्यास किया। उनका लक्ष्य कालसी को ‘हरिपुर पावन तीर्थ’ और ‘जमुना कृष्ण धाम’ के रूप में पुनः स्थापित करना है।

इस अवसर पर उन्होंने कहा कि उनका मुख्य उद्देश्य कालसी को ‘हरिपुर पावन तीर्थ’ और ‘जमुना कृष्ण धाम’ के रूप में पुनः स्थापित करना है। यह पवित्र कार्य श्री कृष्ण जन्माष्टमी के शुभ मुहूर्त पर किया जा रहा है। इसकी जिम्मेदारी ‘मसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण’ को सौंपी गई है।

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कालसी, रामलीला मैदान में आखिरकार सुव्यवस्थित ढंग से कार्य शुरू होने का शिलान्यास करते हुए कहा कि यह कार्य पौराणिक मान्यताओं को पुनर्जीवित कर आध्यात्मिक, सनातन संस्कृति की नई इबारत लिखने का काम करेगा। उन्होंने कहा कि हरिपुर क्षेत्र एक बड़ा तीर्थ स्थल हुआ करता था, यह क्षेत्र चारधाम यात्रा का भी महत्वपूर्ण स्थान है।

उत्तराखंड के इतिहास को जानेंगे लोग पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा

प्राधिकरण उपाध्यक्ष ने बताया कि कालसी नगर की आम जनता की बहुप्रतीक्षित मांग को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर संचालित नमामि गंगे योजना के तहत मसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण के माध्यम से स्नान घाट का निर्माण कराया गया है। भारत सरकार का स्वच्छ गंगा मिशन। उन्होंने बताया कि घाट का निर्माण 52 लाख रुपये की लागत से यमुना नदी के दाहिने किनारे पर 170 मीटर लंबाई और 15 मीटर चौड़ाई में किया गया है।

इस परियोजना के तहत श्रद्धालुओं के बैठने के लिए 5 छतरियां और अन्य उचित व्यवस्थाएं और शाम की आरती के लिए आश्रय स्थल का निर्माण, स्नान के समय नदी के प्रवाह से सुरक्षा के लिए घाट मीटर का निर्माण भी किया जाएगा। रेलिंग और सुरक्षा श्रृंखला का प्रावधान किया गया है, साथ ही रात में सड़क पर उचित प्रकाश व्यवस्था के लिए सोलर लाइट और हाईमास्ट भी बनाए गए हैं। जनसुविधाओं को ध्यान में रखते हुए चेंजिंग रूम एवं शौचालयों के नवीनीकरण के साथ-साथ पेयजल सुविधा भी विकसित की जायेगी।

Leave a comment