मुख्यमंत्री धामी ने शुरू की खिलाड़ी प्रोत्साहन योजना , इससे सवरेगा का उत्तराखंड के खिलाड़ियों का भविष्य

bikram

हाल ही में राष्ट्रीय खेल दिवस यानी 29 अगस्त के अवसर पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राज्य में ‘मुख्यमंत्री खिलाड़ी प्रोत्साहन योजना’ फिर से शुरू की है। इसमें राज्य के 14 से 23 वर्ष तक के 2600 खिलाड़ियों को इस योजना का लाभ मिलेगा। इस योजना से प्रत्येक जिले के बालक एवं बालिका वर्ग के 100-100 खिलाड़ियों को लाभ मिलेगा।

इस योजना के तहत प्रत्येक खिलाड़ी को रुपये की छात्रवृत्ति दी जाएगी। 02-02 हजार प्रति माह और खेल संबंधी उपकरण लेने पर हर साल 10-10 हजार मिलते हैं। हालाँकि यह खिलाड़ियों के लिए पर्याप्त नहीं है लेकिन फिर भी यह उन लोगों को प्रोत्साहित करेगा जो अपनी प्रतिभा दिखाना चाहते हैं। मुख्यमंत्री ने पांच लाख रुपये का चेक देकर योजना का शुभारंभ किया।

देहरादून में 200 बेड और पिथौरागढ़ में 50 बेड का बनेगा स्पोर्ट्स हॉस्टल

मुख्यमंत्री ने पांच लाख रुपये का चेक देकर योजना का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री ने खिलाड़ियों को मुख्यमंत्री उद्यमी खिलाड़ी योजना के तहत चेक भी प्रदान किये। यह समारोह आई.आर.डी.टी. में आयोजित किया गया। सुर्वेवर चौक के पास ऑडिटोरियम। कार्यक्रम के दौरान पैरालंपिक खिलाड़ियों और नेशनल पावर लिफ्टिंग में स्वर्ण पदक विजेता अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक अमित सिन्हा को भी सम्मानित किया गया। राष्ट्रीय खेल दिवस के मौके पर मुख्यमंत्री ने राज्य में खेल से जुड़ी चार अहम घोषणाएं भी कीं। मुख्यमंत्री ने कहा कि महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कॉलेज, देहरादून में खिलाड़ियों के लिए 200 बेड का छात्रावास बनाया जायेगा।

एक अन्य छात्रावास भी बनेगा हरि सिंह थापा स्पोर्ट्स कॉलेज, लेलू, पिथौरागढ़ के खिलाड़ियों के लिए 50 बिस्तरों वाले छात्रावास का निर्माण किया जाएगा। इसके अलावा उत्तराखंड के खिलाड़ियों का दैनिक भोजन भत्ता भी बढ़ाया जाएगा। पहले उन्हें कम वेतन मिलता था लेकिन अब उन्हें भारतीय खेल प्राधिकरण की तरह प्रति खिलाड़ी प्रति दिन उनकी कैलोरी के अनुसार 250 से 480 रुपये मिलेंगे।

राष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग लेने वाले उत्तराखंड के खिलाड़ियों को साधारण बस और स्लीपर रेल का किराया बढ़ाकर एसी बस या थ्री-टियर एसी ट्रेन यात्रा की सुविधा प्रदान की जाएगी। चूंकि राष्ट्रीय खेल दिवस महान हॉकी खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद के जन्मदिन के अवसर पर मनाया जाता है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की।

उन्होंने सभी खिलाड़ियों और खेल प्रेमियों को बधाई देते हुए कहा कि मेजर ध्यानचंद की अनुकरणीय और शानदार खेल भावना ने भारतीय हॉकी को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया। अपने खेल के दम पर उन्होंने दुनिया भर के लाखों दिलों पर राज किया. मेजर ध्यानचंद जी ने हॉकी की दुनिया में भारत को एक अलग पहचान दिलाई। उन्होंने अपने भाषण से खिलाड़ियों को प्रोत्साहित किया और अधिक से अधिक युवाओं को खेल के क्षेत्र में आने और अपने राज्य को गौरवान्वित करने के लिए कहा।

राज्य सरकार उठाएगी राष्ट्रिय खिलाड़ियों के आने-जाने का खर्चा

उन्होंने कहा कि हाल ही में भारतीय हॉकी टीम ने चौथी बार एशियाई हॉकी चैंपियंस ट्रॉफी जीतकर एक इतिहास रचा है और भारत का मान बढ़ाया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत हर क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ा है। विश्व चैम्पियनशिप हो या ओलम्पिक, विश्व स्तर पर भारत को एक अलग पहचान मिली है। अब लोग क्रिकेट के अलावा हॉकी और अन्य खेल भी खेलने लगे हैं। ऐसे खेल जो अभी भी कई लोगों के लिए अज्ञात हैं। हमारे देश में खिलाड़ियों की क्षमता का सम्मान किया जा रहा है।

उन्होंने अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी का ताजा उदाहरण दिया जैसे: विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2023 में स्वर्ण पदक जीतने वाले देश के स्टार भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा ने एक बार फिर साबित कर दिया कि दुनिया में जहां भी खेल का मैदान है, खेल कोई भी हो, भारतीय तिरंगा शान से लहराता है।

Leave a comment