अपने वास्तुकला और त्योहारों के लिए प्रसिद्ध है ध्वज मंदिर, पिथौरागढ़ के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक है ध्वज मंदिर

bikram

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि उत्तराखंड कई प्रतिष्ठित मंदिरों का घर है जो प्राचीन काल से वहां मौजूद हैं। यह स्थान बहुत ही शांतिपूर्ण और गौरवशाली इतिहास वाला है। यह आध्यात्मिक और धार्मिक स्थानों का केंद्र है। इस स्थान को ‘देवभूमि’ के नाम से भी जाना जाता है जिसका तात्पर्य ‘भगवान की भूमि’ से है। यह स्थान अपने मंदिरों, स्मारकों, मूर्तियों और वास्तुकला के लिए भी बहुत लोकप्रिय है। दुनिया भर से कई श्रद्धालु साल भर यहां आते हैं। उन्हीं मंदिरों में से एक है ध्वज मंदिर।

उत्तराखंड आपको प्राचीन समय के साथ-साथ भगवान शिव, भगवान विष्णु, माता पार्वती, भगवान कृष्ण, माता काली और कई अन्य देवी-देवताओं के बारे में दिव्य ज्ञान देगा। आप वहां के रहन-सहन, खान-पान, संस्कृति के साथ-साथ युद्ध में उनकी भूमिका के बारे में भी जानेंगे।यह स्थान अपने पवित्र मंदिरों जैसे छोटा चार धाम, पंच बद्री, पंच प्रयाग, पंच केदार, सिद्ध पीठ और शक्ति पीठ के लिए बहुत प्रसिद्ध है। इसके अलावा यह स्थान विभिन्न साहसिक गतिविधियों जैसे लंबी पैदल यात्रा, कैंपिंग, ट्रैकिंग और कई अन्य गतिविधियों के लिए जाना जाता है।

2100 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है ध्वज मंदिर

उत्तराखंड प्राचीन काल से ही धार्मिक और आध्यात्मिक आकर्षण का केंद्र रहा है। उत्तराखंड में कई खूबसूरत मंदिर हैं जिनका अतीत में बहुत महत्व है। इसका इतिहास और पुराण भी बहुत रोचक हैं। उन्हीं मंदिरों में से एक है ध्वज मंदिर। आज हम बात करने जा रहे हैं उत्तराखंड के एक बहुत ही खूबसूरत मंदिर के बारे में जिसे ध्वज मंदिर के नाम से जाना जाता है जो कि उत्तराखंड के पिथोरागढ़ में स्थित है। यह समुद्र तल से 2100 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह मंदिर मुख्य सड़क से 10 किमी दूर है और कोई भी आसानी से पहुंच सकता है। यह मंदिर भगवान शिव और देवी जयंती को समर्पित एक बहुत प्रसिद्ध मंदिर है।

इस स्थान से चारों ओर फैली बर्फ से ढकी चोटियों का मनमोहक दृश्य भी दिखाई देता है। इस मंदिर का बड़ा धार्मिक महत्व भी है। यह मंदिर पिथौरागढ़ के प्रमुख धार्मिक आकर्षण केंद्रों में से एक है। इस मंदिर का इतिहास और किंवदंतियाँ बहुत प्रसिद्ध है। ऐसा कहा जाता है कि यह स्थान भगवान शिव के नाम पर ‘ध्वजा’ था और इसका नाम भी ‘कापड़ी’ वंश के पूर्वज ने रखा था। यह स्थान ‘खंडनाथ’ से भी जुड़ा हुआ है क्योंकि इस स्थान पर लगभग 50 फीट की गुफा में बहुत लंबे समय तक भगवान शिव की उपस्थिति थी। यह स्थान यहां मनाए जाने वाले त्योहारों के लिए भी बहुत प्रसिद्ध है और इसका धार्मिक महत्व भी है।

किस लिए प्रसिद्ध है ध्वज मंदिर?

यह स्थान अपने मंदिर, वास्तुकला, मूर्तियों और स्मारकों के लिए प्रसिद्ध है। यह अपने इतिहास और किंवदंतियों के लिए प्रसिद्ध है। यह यहां मनाए जाने वाले त्योहारों के लिए प्रसिद्ध है। यह स्थान अपने धार्मिक महत्व और महत्ता के लिए प्रसिद्ध है। यह स्थान अपनी तीर्थयात्रा और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है।

ध्वज मंदिर जाने का सबसे अच्छा समय

यह मंदिर बहुत ही खूबसूरत जगह पर स्थित है। इस मंदिर के दर्शन आप पूरे साल कर सकते हैं। तापमान बहुत सुखद है, और दृश्य भी बहुत मनमोहक है। ध्वज मंदिर जाने का सबसे अच्छा समय गर्मी और मानसून का मौसम है। गर्मी के मौसम में यह स्थान बहुत धूप वाला और सुखद होता है। इस जगह पर इस समय बहुत तेज़ धूप वाले दिन होते हैं और थोड़ी ठंडी और खूबसूरत रात वाले दिन भी होते हैं। मानसून के मौसम में भी यह जगह बेहद खूबसूरत होती है। यह स्थान बहुत हवादार है और चारों ओर हरियाली छाई हुई है। बादलों और पहाड़ियों का दृश्य भी बहुत शानदार है। आप इस स्थान पर उन त्योहारों के समय भी जा सकते हैं जो इस स्थान पर बड़े पैमाने पर मनाए जाते हैं।

कैसे पहुंचे ध्वज मंदिर ?

आप कई परिवहन सुविधाओं का उपयोग करके मंदिर तक पहुँच सकते हैं जैसे:

सड़क मार्ग से: ध्वज मंदिर पिथौरागढ से 18 किमी की दूरी पर स्थित है। आप 2 घंटे की ट्रैकिंग करके वहां पहुंच सकते हैं। और स्थानीय बसों या कैब या टैक्सी द्वारा भी।

हवाई मार्ग से: ध्वज मंदिर तक पहुंचने के लिए निकटतम हवाई अड्डा पंत नगर है जो मुख्य मंदिर से लगभग 213 किमी दूर है। आप टैक्सी या कैब से अपने गंतव्य तक पहुंच सकते हैं। स्थानीय बसें भी एक उपलब्ध विकल्प हैं।

  • दिल्ली से ध्वज मंदिर की दूरी: 404 KM
  • देहरादून से ध्वज मंदिर की दूरी: 220 KM
  • हरिद्वार से ध्वज मंदिर की दूरी: 250 KM
  • काठगोदाम से ध्वज मंदिर की दूरी: 275 KM
  • हल्द्वानी से ध्वज मंदिर की दूरी: 300 KM

ट्रेन द्वारा: मंदिर तक पहुंचने के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन टनकपुर रेलवे स्टेशन है, जो कि पिथौरागढ़ से 149 किमी दूर है। आप अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए टैक्सी या कैब या स्थानीय बसें भी ले सकते हैं। गंतव्य तक पहुँचने के लिए साझा टैक्सियाँ भी एक उपलब्ध विकल्प हैं।

Leave a comment