भगवान राम के वनवास के बाद प्रसिद्ध हुई देहरादून की ये जगह, जानिए क्या है वशिष्ठ गुफा का रहस्य

bikram

उत्तराखंड भारत का एक प्राचीन राज्य है। यहां व्यास, द्रोण से लेकर वशिष्ठ तक कई ऋषि गुफाओं में रहते थे, हर ऋषि ध्यान करने के लिए गुफा में रहते थे। हमने आपको पहले ही बताया था कि वेद व्यास व्यास गुफा का उपयोग कैसे करते हैं लेकिन आज हम आपको वशिष्ठ गुफा के बारे में बताने जा रहे हैं। शहर के पागलपन से बहुत दूर स्थित एक गुफा। यह गुफा ऋषिकेश में ध्यान करने के लिए सबसे अच्छे स्थानों में से एक है।

Vashishtha Gufa

यह प्राचीन गुफा गंगा नदी के तट पर और गूलर पेड़ के घने जंगल के बीच में स्थित है। इस गुफा तक पहुंचने के लिए आपको पहले 200 सीढ़ियां चढ़नी पड़ती हैं।वशिष्ठ गुफा के अंदर:वशिष्ठ गुफा का प्रवेश द्वार अच्छी तरह से रोशनी से जगमगाता है लेकिन जैसे-जैसे आप आगे बढ़ते हैं, गुफा एकदम काली हो जाती है। गुफा साफ़ और सुव्यवस्थित है और इसके फर्श पर सफ़ेद चटाई बिछी हुई है जिस पर एक समय में 12 लोग बैठ सकते हैं।गुफा के अंत में एक शिवलिंग स्थापित देखा जा सकता है।

शिविर में रोशनी का एकमात्र स्रोत यहां जलाया जाने वाला तेल का दीपक है।अन्य गुफाओं की तरह यह गुफा नम नहीं है बल्कि ठंडी है और अगरबत्ती जलाने की सुगंध हवा में रहती है। ध्यान करने के लिए यह बहुत अच्छी जगह है।

Vashishtha Gufa

यही करी थी वशिष्ठ और अरुंधति ने वर्षो तक तपस्या

हिंदू किंवदंतियों के अनुसार, यह वही स्थान है जहां एक बार महान ऋषि वशिष्ठ ऋषिकेष में अपने प्रवास के दौरान रुके थे और ध्यान किया था। सबसे महान वैदिकों में से एक के रूप में सम्मानित, ऋषि वशिष्ठ सप्तऋषियों (सात महान ऋषियों या ऋषियों) में से एक और भगवान राम के गुरु थे। भक्तों का मानना ​​है कि अपने बच्चों की दुखद मृत्यु और राम के वन चले जाने के बाद, ऋषि वशिष्ठ ने गंगा नदी में आत्महत्या करने की कोशिश की। लेकिन देवी गंगा ने उनकी प्रार्थना अस्वीकार कर दी।

इस स्थान की सुंदरता ने ऋषि वशिष्ठ की पत्नी अरुंधति को मंत्रमुग्ध कर दिया और उन्होंने यहीं रहने का फैसला किया। दुःख से उबरने के लिए ऋषि वशिष्ठ और अरुंधति सौ वर्षों से अधिक समय तक इसी स्थान पर ध्यान में डूबे रहे। वशिष्ठ गुफा एक प्राकृतिक रूप से निर्मित गुफा है जो 60 फीट गहरी है और इसमें एक शिवलिंग है जो गुफा के द्वार में लंबवत झुका हुआ है। गुफा क्षेत्र के बाहर कई कमरे बनाए गए जो अब साधुओं के लिए स्थायी निवास हैं।

Vashishtha Gufa

चूँकि गुफा मंदिर घने जंगल के बीच में स्थित है, इसलिए आप जंगल का भ्रमण कर सकते हैं।आश्रम के बाहर एक छोटी सी गुफा है जो “अरुंधति गुफा” के नाम से प्रसिद्ध है। दूसरी ओर, आप गूलर गांव के पास एक लोहे का झूला पुल देख सकते हैं। यहां से आप नदी पार कर सकते हैं।यदि आपके पास पर्याप्त समय है, तो आसपास के कुछ आकर्षणों जैसे 2.5 किमी दूर नीर घट्टू झरना और 11 किमी दूर शिवपुरी एक प्रसिद्ध रिवर-राफ्टिंग और कैंपिंग स्थल पर जाएँ।

वशिष्ठ गुफा कब जाएँ और क्या है समय

वशिष्ठ गुफ़ा की यात्रा पूरे साल भर की जा सकती है क्योंकि यहाँ का मौसम हमेशा सुहावना रहता है।वशिष्ठ गुफा में जाने का समय (सुबह 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक) और शाम को (दोपहर 3 बजे से शाम 6 बजे तक) है। (दोपहर 12 से 3 बजे) के बीच गुफा बंद रहती है।

Vashishtha Gufa
ऋषिकेश में वशिष्ठ गुफा तक कैसे पहुँचें

वशिष्ठ गुफा ऋषिकेश से लगभग 20-25 किमी और शिवपुरी से केवल 6 किमी दूर है। यहां जाने के लिए आप ऋषिकेश-बद्रीनाथ राजमार्ग मार्ग का अनुसरण कर सकते हैं, जिससे यहां पहुंचने में केवल एक घंटा लगेगा।यहां जाने के लिए ऋषिकेश से वशिष्ठ गुफा तक बसें, जीप और टैक्सियां ​​उपलब्ध हैं। 25 किमी पर ऋषिकेश रेलवे स्टेशन।यह निकटतम रेलवे स्टेशन है और 39 किमी दूर जॉली ग्रांट हवाई अड्डा देहरादून यहां से निकटतम हवाई संपर्क है।

Leave a comment