उत्तराखंड का झूला देवी मंदिर जहां माता सपने में आकर अपने लिए मांगती है उपहार, सोनू निगम का है इस मंदिर से खास नाता

bikram

उत्तराखंड के कम प्रसिद्ध लेकिन सबसे खूबसूरत जिलों में से एक, अल्मोडा अपने आप में अनोखा है। यह जिला आज भारत में सबसे अधिक लिंगानुपात वाला है। यहां के लोग बहुत खुले विचारों वाले हैं। प्राचीन काल से ही इस स्थान पर बड़ी संख्या में पर्यटक आते हैं और उन्होंने अपने साहित्यिक कार्यों में भी इस स्थान का उल्लेख किया है। अल्मोडा चंद वंश की राजधानी भी थी। उन्होंने यहां कई मंदिर बनवाए जिसके ऊपर झूला देवी मंदिर है।

यह मंदिर भारत के उत्तराखंड राज्य के कमाऊं क्षेत्र के अल्मोडा जिले में रानीखेत से 7 किलोमीटर की दूरी पर चौबटिया गार्डन में स्थापित है। इसका निर्माण 8वीं शताब्दी में हुआ था। यह मंदिर देवी दुर्गा को समर्पित है। यह सुंदर ढंग से डिजाइन की गई घंटियों के विशाल समूह के लिए लोकप्रिय है। पास में स्थित राम मंदिर भी कई आगंतुकों को आकर्षित करता है। सामग्री किंवदंती दिखाती है: भक्तों का मानना ​​है कि मंदिर मनोकामना पूरी करने वाला है।

Jhoola Devi Temple,

जंगली जानवर के गांव से बचने के लिए बनाएं माता का मंदिर

किंवदंती के अनुसार, मंदिर के पास का गहरा अंधेरा जंगल कभी तेंदुए और बाघ जैसे जंगली जानवरों का घर था। जानवर स्थानीय ग्रामीणों पर हमला करते थे। भक्तों का मानना ​​है कि जो लोग अच्छे और शुद्ध मन से यहां आते हैं, मंदिर उनकी मनोकामनाएं पूरी करता है। किंवदंती के अनुसार, मंदिर के पास का गहरा अंधेरा जंगल कभी तेंदुए और बाघ जैसे जंगली जानवरों का घर था।

ये जानवर स्थानीय ग्रामीणों पर हमला कर देते थे। स्थानीय लोगों का मानना ​​है कि उनके पूर्वजों ने जंगली जानवरों से स्थानीय लोगों की सुरक्षा के लिए मंदिर का निर्माण किया था और उन्होंने बताया कि एक दिन देवी दुर्गा एक चरवाहे के सपने में आईं और उसे अपनी मूर्ति खोदने की सलाह दी।

Jhoola Devi Temple,

जंगली जानवर के गांव से बचने के लिए बनाएं माता का मंदिर

यह मंदिर देवी दुर्गा का घर है, वर्तमान मंदिर परिसर 1935 में बनाया गया था। यह एक विशाल क्षेत्र को कवर करता है। यह सुंदर ढंग से डिजाइन की गई घंटियों के विशाल समूह के लिए लोकप्रिय है, जो “मां झूला देवी” की दिव्य और उपचार शक्तियों का प्रमाण हैं। झूला देवी मंदिर की सुंदर शांति और दर्शनीय स्थल कई तीर्थयात्रियों और साहसी लोगों को भक्ति और प्राकृतिक सुंदरता का संयुक्त अनुभव प्राप्त करने के लिए आमंत्रित करते हैं।

Jhoola Devi Temple,

बच्चे झूले पर मजे से खेलते थे। “माँ दुर्गा” फिर से किसी के सपने में प्रकट हुईं और अपने लिए “झूला” माँगा। इसके बाद भक्तों ने मूर्ति को मंदिर के गर्भगृह के अंदर एक लकड़ी के झूले पर रख दिया। तब से देवी को “माँ झूला देवी” और मंदिर को “झूला देवी मंदिर” कहा जाता है। यह इस तथ्य को स्पष्ट करता है कि इस क्षेत्र में तेंदुए और बाघ की मौजूदगी के बावजूद, ग्रामीण और उनके मवेशी आज भी जंगल के अंदर स्वतंत्र रूप से घूमते हैं। लोगों का मानना ​​है कि “माँ झूला देवी” आज भी उनकी और उनके पशुधन की रक्षा करती हैं।

कैसे पहुंचे झूला देवी के मंदिर

यह मंदिर रानीखेत से केवल 7 किलोमीटर दूर है। आप निम्नलिखित तरीकों से रानीखेत पहुँच सकते हैं:

सड़क द्वारा: रानीखेत उत्तराखंड और उसके बाहर के सभी शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। यह मंदिर रानीखेत से 7 किलोमीटर की दूरी पर है।

ट्रेन से: रानीखेत से निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम लगभग 74 किलोमीटर की दूरी पर है। काठगोदाम या हलद्वानी से रानीखेत के लिए कोई भी आसानी से कैब किराये पर ले सकता है या बस ले सकता है।

Jhoola Devi Temple,
  • दिल्ली से झूला देवी मंदिरकी दूरी: 361 K.M.
  • देहरादून से झूला देवी मंदिर की दूरी: 308 K.M.
  • हरिद्वार से झूला देवी मंदिर की दूरी: 260 K.M.
  • ऋषिकेश से झूला देवी मंदिर की दूरी: 277 K.M.
  • चंडीगढ़ से झूला देवी मंदिर की दूरी: 467 K.M

हवाईजहाज: सेरानीखेत से निकटतम हवाई अड्डा पंतनगर हवाई अड्डा है, जो लगभग 115 किलोमीटर की दूरी पर है। हवाई अड्डे से रानीखेत के लिए टैक्सियाँ और बसें आसानी से उपलब्ध हैं।

Leave a comment