नैनीताल में बने आस्था के धाम का नाम है “कैंची धाम”, कौन थे नीब करोरी बाबा जिनके सामने विदेशी अरबपति भी झुकते थे सर

bikram

नई दिल्ली और उत्तराखंड के प्रसिद्ध भक्ति केंद्रों में से एक, जो नैनीताल जिले में स्थित है, जहां देश भर से कई लोग अपनी मनोकामनाएं पूरी करने के लिए आते हैं। कैंची धाम, जिसे नीम करोली बाबा आश्रम के नाम से भी जाना जाता है, भगवान हनुमान को समर्पित एक मंदिर और आश्रम है। यह पहाड़ियों, पेड़ों और एक छोटी नदी के बीच बसा हुआ है। 1960 के दशक में प्रसिद्ध संत नीब करौरी बाबा द्वारा स्थापित।यह मंदिर समुद्र तल से लगभग 1,400 मीटर (4,600 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है। कैंची धाम का निकटतम शहर भवाली है, जो 9 किमी दूर है। आसपास के अन्य शहरों में नैनीताल, अल्मोडा और रानीखेत शामिल हैं।

मंदिर में प्रवेश करने वाले आगंतुक हनुमान जी की जबरदस्त उपस्थिति को महसूस कर सकते हैं। हनुमान जी शक्ति, साहस और भक्ति का प्रतिनिधित्व करते हैं। प्रेम, सेवा और भक्ति पर नीम करोली बाबा की शिक्षाएँ लोगों को उनकी आध्यात्मिक यात्राओं के लिए प्रेरित और मार्गदर्शन करती रहती हैं।इस स्थान की प्राकृतिक सुंदरता इसकी आध्यात्मिक ऊर्जा को बढ़ाती है। पत्तों की सरसराहट, ठंडी हवा और नदी की आवाज़ एक दिव्य माहौल बनाती है।

Neeb Karori Baba Kainchi Dham

कौन है बाबा नीब करोरी क्या है इनके चमत्कार

यह धाम उन लोगों के लिए स्वर्ग है जो परमात्मा से जुड़ने और हनुमान जी की कृपा का अनुभव करने का रास्ता खोज रहे हैं।धाम को एक पवित्र स्थल के रूप में पहचान मिली है। भक्त हनुमान जी की उपस्थिति का आनंद ले सकते हैं और शांति और आध्यात्मिक जागृति की गहरी अनुभूति का अनुभव कर सकते हैं।

“कैंची धाम” नाम का अंग्रेजी में अनुवाद “कैंची आश्रम” है, जो आश्रम स्थित होने के बीच दो पहाड़ियों की कैंची जैसी आकृति को संदर्भित करता है। आश्रम परिसर में मंदिर, ध्यान कक्ष, आवास सुविधाएं और एक धर्मार्थ अस्पताल शामिल हैं।दुनिया भर से भक्त और आध्यात्मिक जिज्ञासु कैंची धाम आश्रम में अपनी श्रद्धा अर्पित करने, मार्गदर्शन लेने और शांतिपूर्ण वातावरण में डूबने के लिए आते हैं। आश्रम साल भर विभिन्न धार्मिक त्योहारों और कार्यक्रमों का भी आयोजन करता है, जो बड़ी संख्या में भक्तों को आकर्षित करते हैं।

Neeb Karori Baba Kainchi Dham

नीम करोली बाबा के कई अनुयायी थे, जिनमें कुछ जाने-माने नाम भी शामिल थे। उनके कुछ लोकप्रिय भक्त हैं:राम दास, एक आध्यात्मिक शिक्षक और लेखक, जो 1960 के दशक में नीम करोली बाबा से मिले और किताबों के माध्यम से उनकी शिक्षाओं का प्रसार किया।एप्पल के सह-संस्थापक स्टीव जॉब्स, जो आध्यात्मिकता और सादगी पर नीम करोली बाबा की शिक्षाओं से बहुत प्रभावित थे। उन्होंने 1970 के दशक में आश्रम का दौरा किया था।

जय उत्तल, एक ग्रैमी-नामांकित संगीतकार, जो नीम करोली बाबा की शिक्षाओं से प्रेरित अपने भक्ति संगीत के लिए जाने जाते हैं।प्रसिद्ध कीर्तन गायक और संगीतकार कृष्ण दास, जो नीम करोली बाबा के शिष्य भी हैं और उनके संगीत ने कई लोगों के दिलों को छुआ है। नीम करोली बाबा का असली नाम लक्ष्मीनारायण शर्मा था। उनका जन्म वर्ष 1900 के आसपास उत्तर प्रदेश के अकबरपुर गांव में हुआ था। वह हनुमान जी के बहुत बड़े भक्त थे, उन्होंने देश में भगवान हनुमान के कई मंदिर बनवाये।

हर एक्‍ट रहता है यहा तीर्थयात्रियों का जमावड़ा

उन्होंने नैनीताल में एक हनुमान गढ़ी भी बनवाई। 11 सितम्बर 1973 को वृन्दावन में उनका निधन हो गया।1962 में, नीम करोली बाबा ने कैंची गांव में उस स्थान के आसपास एक मंच बनाया, जहां दो आध्यात्मिक गुरु, साधु प्रेमी बाबा और सोमबारी महाराज, यज्ञ करते थे। आश्रम कैंची धाम, जिसे प्रबुद्ध आत्मा के नाम से जाना जाता है, भवाली-अल्मोड़ा रोड के साथ नैनीताल से सिर्फ 23 किलोमीटर दूर, नैनीताल जिले के कोने पर स्थित है।

यह मेला प्रत्येक वर्ष 15 जून को आयोजित किया जाता है। यह नीम करोली बाबा, जो भगवान हनुमान के अवतार माने जाते हैं, के अनुयायियों के लिए महत्वपूर्ण आध्यात्मिक महत्व रखता है।

आध्यात्मिक ऊर्जा का अनुभव करें

कैंची धाम एक पवित्र स्थान है जहां आगंतुक शक्तिशाली आध्यात्मिक ऊर्जा का अनुभव कर सकते हैं जो परिवर्तन लाती है। कैंची धाम उत्तराखंड की सुंदर पहाड़ियों में स्थित है, जो हरे-भरे जंगलों, नदियों और पहाड़ों से घिरा हुआ है। जगह की प्राकृतिक सुंदरता देखने लायक है और शहर के जीवन से एक ताज़ा ब्रेक प्रदान करती है।दैनिक प्रार्थनाओं और अनुष्ठानों में भाग लें: कैंची धाम के मंदिर में दैनिक प्रार्थनाएँ और अनुष्ठान होते हैं जिनमें आगंतुक भाग ले सकते हैं।

इनमें देवताओं को फूल और मिठाइयाँ चढ़ाना, भक्ति गीत गाना और शांत वातावरण में ध्यान करना शामिल है।नीम करोली बाबा की शिक्षाओं से सीखें: प्रेम, सेवा और भक्ति पर नीम करोली बाबा की शिक्षाओं ने दुनिया भर में कई लोगों को प्रेरित किया है। इनमें विराट कोहली, अनुष्का शर्मा, स्टीव जॉब्स, मार्क जुकरबर्ग और जूलिया रॉबर्ट्स जैसी हस्तियां शामिल हैं। कैंची धाम की यात्रा से उनकी शिक्षाओं से सीखने और दैनिक जीवन में आध्यात्मिकता के महत्व को समझने का अवसर मिलता है।

Neeb Karori Baba Kainchi Dham

समान विचारधारा वाले लोगों से जुड़ें: कैंची धाम दुनिया भर से उन आगंतुकों को आकर्षित करता है जो आध्यात्मिकता और व्यक्तिगत विकास में समान रुचि रखते हैं। आश्रम और मंदिर का दौरा करना समान विचारधारा वाले लोगों से जुड़ने और सार्थक दोस्ती बनाने का एक शानदार तरीका है।

कैसे पहुंचें कैंची धाम

हवाई मार्ग से – अगर आप हवाई मार्ग से जा रहे हैं तो आपको पंतनगर हवाई अड्डे पर पहुंचना होगा जो 71 किमी दूर है। आश्रम से बहुत दूर. वहां से आप आसानी से बस से या कैब या टैक्सी किराये पर लेकर आश्रम जा सकते हैं।

ट्रेन द्वारा – निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम रेलवे स्टेशन है जो 45 किमी दूर है। आश्रम से बहुत दूर. स्टेशन से आप आश्रम के लिए बस, कैब या टैक्सी का विकल्प आसानी से चुन सकते हैं।

  • दिल्ली से कैंची धाम आश्रम की दूरी: 420 K.M.
  • देहरादून से कैंची धाम आश्रम की दूरी: 430 K.M.
  • हरिद्वार से कैंची धाम आश्रम की दूरी: 378 K.M.
  • ऋषिकेश से कैंची धाम आश्रम की दूरी: 394 K.M.
  • चंडीगढ़ से कैंची धाम आश्रम की दूरी: 573 K.M.

सड़क मार्ग द्वारा – कैंची धाम आश्रम सड़क मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। ताकि हर कोई सड़क मार्ग से आसानी से वहां पहुंच सके।

Leave a comment