बागेश्वर में इस जगह लिया था बाग का रूप तब से कर रहे हैं रक्षा, जानिए क्या है बाघनाथ मंदिर का राज और इतिहास

bikram

बाघनाथ मंदिर एक प्राचीन और उत्तराखंड के सबसे महत्वपूर्ण हिंदू मंदिरों में से एक है। यह मंदिर 1,004 मीटर (3,294 फीट) की ऊंचाई पर बना है, यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। यह बागेश्वर में गोमती और सरयू नदियों के संगम के पास स्थित है। बागेश्वर शहर का नाम बाघनाथ मंदिर के नाम पर पड़ा है।

बाघनाथ मंदिर का एक समृद्ध इतिहास है जो सदियों पुराना है। इस मंदिर का निर्माण 1450 में कुमाऊं के चंद वंश के शासक लक्ष्मी चंद ने करवाया था। हालांकि कुछ सूत्रों का कहना है कि बाघनाथ मंदिर का अस्तित्व 7वीं शताब्दी से है। दक्षिण भारतीय स्थापत्य शैली में निर्मित इस मंदिर का उल्लेख “स्कंद पुराण” में किया गया है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है और कुमाऊं क्षेत्र के सबसे प्रमुख शिव मंदिरों में से एक है।

Baghnath Mela

कुमाऊं वासियों के लिए हरिद्वार के समतुल्य है बाघनाथ के संगम पर स्नान

पौराणिक कथाओं के अनुसार, मंदिर का बहुत महत्व है क्योंकि यह वह स्थान माना जाता है जहां भगवान शिव बाघ (बाघ) के रूप में घूमते थे और सरयू और गोमती नदियों के संगम के पास रहते थे। इस प्रकार मंदिर का नाम “बाघनाथ” पड़ा, जिसका अर्थ है “बाघों का भगवान।”अपनी स्थापना के बाद से इस मंदिर का कई बार जीर्णोद्धार किया गया। मंदिर की वास्तुकला में कुमाऊंनी और नागर शैलियों का मिश्रण दिखता है, जिसमें इसकी दीवारों और स्तंभों पर जटिल नक्काशी और मूर्तियां सजी हुई हैं।

बाघनाथ मंदिर अत्यधिक धार्मिक महत्व रखता है और दूर-दूर से भक्तों और तीर्थयात्रियों को आकर्षित करता है। यह शिवरात्रि के हिंदू त्योहार के दौरान विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। बाघनाथ मंदिर अपने धार्मिक महत्व के अलावा ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विरासत का प्रतीक भी है। यह एक जीवंत बाज़ार क्षेत्र और हलचल भरी सड़कों से घिरा हुआ है, जो आगंतुकों के लिए एक जीवंत वातावरण बनाता है। बाघनाथ मंदिर के दर्शन से आध्यात्मिक अनुभव और क्षेत्र के प्राचीन इतिहास और संस्कृति की झलक मिलती है।

Baghnath Mela

कैसी है मंदिर की वास्तुकला किसका है अधिक प्रभाव

मंदिर का शांत वातावरण, लयबद्ध मंत्रोच्चार और स्थापत्य सुंदरता इसे उत्तराखंड की सुंदरता की खोज करने वाले भक्तों और यात्रियों के लिए एक अवश्य देखने योग्य स्थान बनाती है। बाघनाथ मंदिर साल भर कई जीवंत मेलों और त्योहारों का स्थान है। ये त्यौहार बड़े उत्साह के साथ मनाए जाते हैं और इस क्षेत्र के सांस्कृतिक ताने-बाने का अभिन्न अंग हैं।

Baghnath Mela

बाघनाथ मंदिर में आयोजित कुछ मेले और त्यौहार

  • उत्तरायणी मेला: मंदिर हर साल जनवरी के महीने में मकर संक्रांति के अवसर पर ‘उत्तरायणी’ का एक विशाल मेला आयोजित करता है जो कुनाऊँ के स्थानीय लोगों के लिए एक महान मेला है। इस मेले की पहचान भोर में गोमती और सरयू नदी के संगम पर पवित्र स्नान से होती है जो गंगा स्नान के बराबर होता है। पवित्र स्नान के बाद बाघनाथ मंदिर के अंदर शिवलिंग पर जल चढ़ाया जाता है। लोग पवित्र स्नान की इस परंपरा को तीन दिनों तक जारी रखते हैं। इसे ‘त्रिमघी’ के नाम से जाना जाता है।
  • बाघनाथ महादेव मेला: यह मंदिर में मनाया जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण त्योहार है और इसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं। यह हिंदू माह श्रावण (जुलाई-अगस्त) के दौरान आयोजित किया जाता है और कई दिनों तक चलता है। यह मेला भगवान शिव को समर्पित है और इसमें भक्ति अनुष्ठान, सांस्कृतिक प्रदर्शन और विभिन्न प्रकार की वस्तुओं को बेचने वाला एक जीवंत बाजार शामिल है।
  • शिवरात्रि: यह त्योहार, जो भगवान शिव और देवी पार्वती की शादी की सालगिरह का प्रतीक है, बाघनाथ मंदिर में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। भक्त मंदिर में पूजा-अर्चना करने, अनुष्ठान करने और भगवान शिव से आशीर्वाद लेने के लिए आते हैं।
  • नवरात्रि: भारत का नौ रातों का त्योहार जिसे नवरात्रि कहा जाता है, बाघनाथ मंदिर में भी भक्ति और उत्साह के साथ मनाया जाता है। मंदिर परिसर को रंग-बिरंगी सजावट से सजाया गया है और देवी दुर्गा की विशेष पूजा-अर्चना की गई है। शाम के समय भक्तों द्वारा गरबा और डांडिया जैसे पारंपरिक लोक नृत्य किए जाते हैं।
बाघनाथ मंदिर तक कैसे पहुंचे

सड़क द्वारा: बागेश्वर एक जिला है और यह उत्तराखंड के सभी प्रमुख शहरों और दिल्ली से भी अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। हलद्वानी, अल्मोडा और देहरादून से बसें और टैक्सियाँ उपलब्ध हैं।

Baghnath Mela
  • दिल्ली से बाघनाथ मंदिर की दूरी: 487 K.M.
  • देहरादून से बाघनाथ मंदिर की दूरी: 321 K.M.
  • हरिद्वार से बाघनाथ मंदिर की दूरी: 308 K.M.
  • ऋषिकेश से बाघनाथ मंदिर की दूरी: 278 K.M.
  • चंडीगढ़ से बाघनाथ मंदिर की दूरी: 423 K.M.
  • हलद्वानी से बाघनाथ मंदिर की दूरी: 157 K.M.

ट्रेन से: काठगोदाम रेलवे स्टेशन निकटतम रेलवे स्टेशन है। यह बागेश्वर से 171 किमी दूर है। यहां और हल्द्वानी से बागेश्वर के लिए बसें और कैब आसानी से उपलब्ध हैं।

हवाईजहाज से: बागेश्वर का निकटतम हवाई अड्डा पंतनगर हवाई अड्डा है, जो बागेश्वर से लगभग 205 किमी दूर है।

Leave a comment