उत्तराखंड का ऐसा अनोखा गोपीनाथ मंदिर जहां शिव ने लिया था गोपी का रूप, यहीं है चमत्कारी त्रिशूल

bikram

उत्तराखंड के प्रत्येक मंदिर से जुड़ी कई दिलचस्प कहानियां और मान्यताएं हैं। गोपीनाथ मंदिर की तरह, गोपीनाथ मंदिर का नाम सुनते ही हम इस बात पर पहुंचते हैं कि इस मंदिर का संबंध भगवान विष्णु के अवतार श्री कृष्ण रूप से होगा, लेकिन ऐसा नहीं है। गोपेश्वर में स्थित गोपीनाथ मंदिर का संबंध शिव से है। कहा जाता है कि यह मंदिर केदारनाथ मंदिर जितना ही प्राचीन है। वहीं अगर वास्तु कला की बात करें तो इसके शीर्ष पर गुंबद की आकृति बनी हुई है।

इस मंदिर का गर्भगृह 30 वर्ग फुट का है और इसमें 24 द्वारों से प्रवेश किया जाता है।गोपेश्वर शहर के मध्य में स्थित गोपीनाथ मंदिर की भव्यता देखते ही बनती है। पंचकेदारों में मौजूद चतुर्थ केदार रुद्रनाथ के कपाट बंद होने पर चतुर्थ केदार भगवान रुद्रनाथ की चल विग्रह डोली को गोपीनाथ मंदिर में लाया जाता है। इस मंदिर में शीतकाल में भगवान गोपीनाथ के साथ-साथ बाबा रुद्रनाथ की भी पूजा की जाती है।

Gopinath Temple

इस मंदिर में मिले है कुछ अनपढ़ शिलालेख जिसमें हो सकता है कुछ राज़

चारधाम यात्रा के दौरान, कई तीर्थयात्री बद्रीनाथ के रास्ते में इस मंदिर के दर्शन करते हैं, जो कि उत्तराखंड में हिंदुओं के सबसे पवित्र गोपेश्वर में स्थित गोपीनाथ मंदिर है। यह मंदिर पूरे साल खुला रहता है, जिसके कारण इस मंदिर में हमेशा भक्तों का जमावड़ा लगा रहता है। तो क्या है इस मंदिर से जुड़ा इतिहास और पौराणिक महत्व, आइए जानते हैं। गोपीनाथ मंदिर उत्तराखंड के चमोली क्षेत्र में स्थित गोपेश्वर शहर में एक प्राचीन हिंदू मंदिर के रूप में स्थित है।

इस मंदिर का निर्माण नौवीं और ग्यारहवीं शताब्दी के बीच कत्यूरी शासकों ने कराया था। इस मंदिर में मौजूद शिलालेखों से कत्यूरी शासकों का इतिहास और नेपाली शासकों का इतिहास भी बताया जाता है।तेरहवीं शताब्दी में यहां शासन करने वाले नेपाल के राजा अनेक मल का शिलालेख भी मंदिर में मौजूद है अथवा मौजूदा शिलालेखों में से देवनागरी में लिखे गए 4 शिलालेखों में से 3 की लिपि अभी तक पढ़ी नहीं जा सकी है।

Gopinath Temple

कैसी है मंदिर की शैली, किस कला का मिलता है असर

इस मंदिर के प्रांगण में मौजूद टूटी हुई मूर्तियां यहां स्थापित अन्य छोटे मंदिरों के अस्तित्व का संकेत देती हैं। इस मंदिर का निर्माण नागर शैली में किया गया है। वहीं मंदिर निर्माण की कला को हिमाद्रि शैली के नाम से जाना जाता है।

पौराणिक कथा के अनुसार, जब देवी सती ने अपना शरीर छोड़ा, तो भगवान शिव इसी स्थान पर ध्यान में बैठे थे। दूसरी ओर, तारकासुर के आतंक के कारण, इंद्र स्वर्ग या सिंहासन छोड़कर भाग गए और तारकासुर ने तीनों लोकों पर युद्ध छेड़ दिया। पौराणिक कथा के अनुसार, ताड़कासुर को वरदान था कि केवल शिवपुत्र ही उसका वध कर सकते हैं।

यही कारण है कि देवताओं ने ब्रह्मा से इसका उपाय पूछा, ब्रह्मदेव ने शिव की तपस्या भंग करने के लिए कामदेव को भेजा। जब कामदेव के बाणों से शिव की तपस्या भंग हो गई तो वे अत्यंत क्रोधित हो गए और अपने त्रिशूल से कामदेव को भस्म कर दिया।

एक अन्य कथा के अनुसार इस क्षेत्र पर राजा सगर का शासन था। वर्तमान में गोपेश्वर के निकट स्थित सागर नामक गाँव का नाम उन्हीं राजा सगर के नाम पर रखा गया है। स्थानीय लोगों के अनुसार एक बार एक अजीब घटना घटी, इस स्थान पर गायों का दूध गिरने लगा, तो राजा ने इसका कारण जानने के लिए सैनिकों को भेजा। जब राजा ने देखा कि गाय के स्तन से निकलने वाला दूध स्वयं शिवलिंग पर जा रहा है, तो वह आश्चर्यचकित रह गया और जल्द ही उसने इस पवित्र स्थान पर एक मंदिर बनवा दिया।

Gopinath Temple

मंदिर के प्रांगण में है एक चमत्कारी त्रिशूल

इस मंदिर में परशुराम और भैरवजी की मूर्तियाँ भी मौजूद हैं। इस मंदिर से कुछ दूरी पर एक कुंड है जिसे वैतरणी कुंड कहा जाता है। कहा जाता है कि इसके जल से स्नान करने से सभी पापों से छुटकारा मिल जाता है। मंदिर के प्रांगण में मौजूद त्रिशूल का ध्यान करके उसे तर्जनी उंगली से छूने पर पीठ में कंपन होने लगता है। यह मंदिर इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि इसी स्थान पर भगवान केदारनाथ का मुख्य भाग यानी रुद्रनाथ जी शीतकाल में विराजमान रहते हैं। इस मंदिर में भगवान रुद्रनाथ की मूर्ति लाकर भक्तों का जमावड़ा लगा रहता है।

कैसे पहुँचें गोपीनाथ मंदिर

गोपीनाथ मंदिर चमोली जिले के गोपेश्वर शहर में स्थित है। जो बद्रीनाथ यात्रा के मुख्य मार्ग पर पड़ता है। गोपेश्वर, चमोली से मात्र 10 किमी की दूरी पर स्थित है। यह ऋषिकेश से 248 किमी दूर है। वहीं अगर निकटतम हवाई अड्डे की बात करें तो जॉली ग्रांट देहरादून निकटतम हवाई अड्डा है। वहीं, ऋषिकेश केवल रेल मार्ग से ही पहुंचा जा सकता है। जिसके बाद की दूरी भी चार पहिया वाहनों से ही तय करनी पड़ती है।

  • दिल्ली से गोपेश्वर की दूरी: 431 K.M.
  • देहरादून से गोपेश्वर की दूरी: 260 K.M.
  • हरिद्वार से गोपेश्वर की दूरी: 230 K.M.
  • ऋषिकेश से गोपेश्वर की दूरी: 248 K.M.
  • चंडीगढ़ से गोपेश्वर की दूरी: 429 K.M.

ट्रेन द्वारा: गोपेश्वर के निकटतम रेलवे स्टेशन देहरादून, ऋषिकेश और हरिद्वार हैं। ऋषिकेश रेलवे स्टेशन गोपेश्वर से 248 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। ऋषिकेश भारत के प्रमुख स्थलों के साथ रेलवे नेटवर्क द्वारा जुड़ा हुआ है।

Leave a comment